‘अ ग्रीन वॉरियर’- एक खूबसूरत और संवेदनशील प्रेम कहानी!

‘अ ग्रीन वॉरियर’- यह उपन्यास एक लड़के के संघर्ष और उसकी सुन्दर भावनाओं की एक बानगी है जो स्नेह और रोमांच से सजी है। यह ‘काबला’ नामक लड़के की आशाओं से भरी एक कहानी है, जिसकी प्रेरणा है उसका स्नेह! यह अन्तस भावनाओं की एक साधारण सी प्रेमयात्रा है, जो असाधारण सौंदर्य से भरी है! प्राकृतिक और भीतरी सौंदर्य से ज़िन्दगी में उम्मीद की एक परिभाषा! यह प्रकृति की संगति और प्रेम से भरी, साहित्यिक, फिक्शन लवस्टोरी है! यह हमसे बात करता प्रकृति का संगीत और दृश्य होती सृष्टि के साथ ही सृजनात्मक व्यक्तित्व के ताने बाने से बुनी कहानी है!

शिवना प्रकाशन द्वारा प्रकाशित ‘अ ग्रीन वॉरियर’ के लेखक अमित महोदय हैं। अमित न केवल एक लेखक, बल्कि एक सिने स्टार हैं। हाल ही में रिलीज फिल्म ‘शुद्ध देशी रोमांस’ में अभिनय करते हम सब ने उन्हें देखा है। अमित फिल्‍मों के लिए लेखन का कार्य भी कर रहे हैं। इस उपन्‍यास को ‘लोटस फीट फिल्‍म्स’, UK ने प्रायोजित किया है, जो इस उपन्‍यास पर फिल्‍म बनाने की योजना पर काम कर रहे हैं!

इस उपन्यास की कुछ पंक्तियाँ:

‘बहुत सुंदर, बहुत कोमल, बहुत प्यारी, नाज़ुक चिड़िया सी है वो, चेहरे पर बिखरी मुस्कान,काली आँखे और उनमें सोने जैसी चमक, शब्दों में उसकी सुंदरता को बताना आसान नहीं होगा’ वृद्धा ने कहा। वृद्धा की बातें काबला के मन को छू गई थी। उसके ज़ेहन में उस लड़की की छवि बनती जा रही थी।

साधुरम ने काबला को समझाया कि ‘ज़िन्दगी अपनी सोच के मुताबिक़ ही अपना नक्शा बनाती है। काबला ने हाँ में सहमति दी। “आगे क्या होना है इसका रहस्य ही तो ज़िन्दगी का रोमांच बनाए रखता है” साधूरम ने कहा।

यह किताब फ्लिपकार्ट और अमेज़ॉन दोनों पर उपलब्ध है. नीचे दिए गए लिंक्स पर क्लिक करें.

http://www.flipkart.com/a-green-warrior/p/itmekp6mvq6fhebk?pid=9789381520390

http://www.amazon.in/dp/9381520399

Comments

comments



Be the first to comment on "‘राष्ट्रगान ‘जन-गण-मन’ के साथ ही राष्ट्रगीत ‘वंदेमातरम’ को भी सभी स्कूल, कॉलेज, कार्यालय और सिनेमा घरों में अनिवार्य करना चाहिये!’"

Leave a comment

Your email address will not be published.

*