Agusta Westland Scam: पत्रकार राजदीप सरदेसाई व अजय शुक्ला ईडी के रडार पर, आरोपियों को बचाने के लिए किया था न्यूज चैनल का इस्तेमाल!

Posted On: May 9, 2016

इंडिया स्पीक्स डेली पर आपको हम पहले ही बता चुके हैं कि अगस्ता वेस्टलैंड डील में किस तरह से भारतीय पत्रकारों को मैनेज करने के लिए बिचैलिए क्रिश्चियन मिशेल ने 45 करोड़ रुपए खर्च किया था। ( http://www.indiaspeaksdaily.com/agustawestland-chopper-manufacturer-finmeccanica-managing-the-indian-media-by-six-million-euros/ )।

यही नहीं, हम यह भी बता चुके हैं कि बड़ी संख्या में पत्रकारों को पेड इटली टूर पर भी क्रिश्चियन मिशेल ले गया था। ( http://www.indiaspeaksdaily.com/agustawestland-chopper-manufacturer-finmeccanica-managing-the-indian-media-2/ ) ताकि पत्रकार इस डील के फेवर खबर लिखें, इसमें होने वाले घोटाले को दबाएं और क्राइसिस मैनेजमेंट के तरह यदि घोटाला खुल जाए तो उसे दूसरी तरफ मोड़ने के लिए रिपोर्टिंग करें!

इसी कड़ी में आज से हम हर उस पत्रकार व मीडिया हाउस के उस जमाने की रिपोर्ट आपके सामने रखेंगे, जिनकी रिपोर्टिंग, एंकरिंग व साक्षात्कार से पता चलता है कि अगस्ता घोटाला खुलने पर इन्होंने उस घोटाले को दबाने के लिए रिपोर्टिंग व अपनी एंकरिंग का इस्तेमाल किया! इस वक्त ईडी ‘द हिंदू’ के एक डिफेंस जर्नलिस्ट राजू संथानम से पूछताछ कर चुका है, जो मिशेल के पैसे पर इटली घूमने गया था! उससे पूछताछ में पता चला है कि कम से कम 20 ऐसे बड़े पत्रकार व संपादक हैं, जो क्रिश्चिन मिशेल के सीधे संपर्क में थे, उनके पेड हाॅलिडे पर खुद और कुछ अपने परिवार सहित इटली घूमने गए थे! घोटाला खुलने पर इनमें से अधिकांश पत्रकार व संपादकों ने कई बार मिशेल के साथ बैठकें भी की थी! ( http://www.indiaspeaksdaily.com/agustawestland-chopper-manufacturer-finmeccanica-managing-the-indian-media-1/ )

आज से शुरु इस कड़ी में हम आज वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई व दूरदर्शन के उस वक्त की रिपोर्टिंग देखते हैं! हम पाते हैं कि राजदीप सरदेसाई ने अगस्ता घोटाले के खुलने पर मुख्य आरोपी पूर्व वायु सेना प्रमुख व इसमें मुख्य संदिग्ध एस.पी.त्यागी के रिश्तेदार संजीव जूली त्यागी का साक्षात्कार कर इस पूरे मामले में त्यागी परिवार को एक पीडि़त की तरह पेश करने का प्रयास किया। आज सी.बी.आई. व ईडी पूरे त्यागी परिवार से पूछताछ कर रही है, जिसमें उन्होंने हथियार दलालों से अपने रिश्ते की बात स्वीकारी है, लेकिन राजदीप सरदेसाई ने यह साबित करने का प्रयास किया कि त्यागी कहीं से इसमें शामिल नहीं थे और उनके परिवार का कहीं से भी हथियार की डीलिंग से संबंधा नहीं था! इसे ही क्राइसिस मैनेजमेंट कहते हैं, जो हथियार दलाल क्रिश्चिन मिशेल और अगस्ता वेस्टलैंड के बीच हुए समझौता पत्र पर इंगित है। तो क्या राजदीप सरदेसाई खुल चुके अगस्ता घोटाले को दबाने के लिए क्रिश्चिन मिशेल के कहने पर क्राइसिस को मैनेज कर रहे थे?

टाइमिंग देखिए,अगस्ता घोटाले में रिश्वत देने के आरोप में इटली में पहली गिरफ्तारी फरवरी 2013 में हुई थी और उसके बाद ही यह घोटाला खुला। इस घोटाले को दबाने के लिए सबसे पहले सरकारी चैनल दूरदर्शन सामने आया। ज्ञात हो कि उस समय कांग्रेस नेतृत्व वाली यूपीए सरकार थी, जिसके कई नेताओं मसलन अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, सोनिया के राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल आदि का नाम आज इटली की अदालत के निर्णय में रिश्वत लेने वाले संदिग्ध के रूप मंे सामने आ चुका है। उस वक्त इटली में हुई पहली गिरफ्तारी के बाद यूपीए सरकार ने यहां घोटाले को दबाने के लिए सबसे पहले सरकारी चैनल दूरदर्शन का उपयोग किया!

15 फरवरी 2013 को डिफेंस जर्नलिस्ट अजय शुक्ला ने पूर्व वायु सेना प्रमुख एस.पी.त्यागी का सााक्षात्कार लिया। इस पूरे साक्षात्कार का वीडियो लिंक यह है:

(
)।

आप देखिए और बताइए कि किस तरह से सरकार ने दूरदर्शन पर त्यागी को मासूम बनाकर पेश किया है, जैसे त्यागी का इस मामले से कुछ लेना देना ही नहीं है! एक भी कठिन प्रश्न त्यागी से नहीं पूछा गया है! उन्हें एक पीडि़त के रूप में दर्शाया गया है!
अब यह दूसरा वीडिया देखिए, जो दूरदर्शन के दूसरे ही दिन बाद 16 फरवरी 2013 को राजदीप सरदेसाई ने अपने चैनल CNN-IBN चैन पर त्यागी के रिश्तेदार संजीव जूली त्यागी का साक्षात्कार लिया था। उस समय राजदीप CNN-IBN चैनल के न केवल प्रमुख संपादक थे, बल्कि इस चैनल में उनकी बहुत बड़ी हिस्सेदारी भी थी!

एस.पी.त्यागी को निर्दोष बनाकर दूरदर्शन पर पेश किया जा चुका था, तो अब राजदीप ने इसमें एक और संदिग्ध और त्यागी के रिश्तेदार संजीव जूली त्यागी का साक्षात्कार देश की जनता को दिखाया। संजीव जूली त्यागी के मुंह से क्या-क्या नहीं कहलवा कर राजदीप ने विक्टिस कार्ड खेला है,आप खुद वीडिया में देख लीजिए! ( )

सरकारी पत्रकार अजय शुक्ला के बाद कांग्रेस के हित में हमेशा से पत्रकारिता करने वाले राजदीप सरदेसाई ने मोर्चा संभाला और अपने आकाओं को खुश करने और घोटाले को दबाने के लिए एक संदिग्ध को पीडि़त बनाकर देश के समक्ष पेश कर दिया! सवाल उठता है कि यह क्रिश्चिन मिशेल के 45 करोड़ का कमाल था, इटली के पेड टूर का कमाल था या फिर राजदीप सरदेसाई की ता-उम्र कांग्रेस-सोनिया भक्ति थी! जो भी हो आज जिस तरह से अगस्ता घोटाले की परतें उघड़ रही है, उससे राजदीप सरदेसाई व अजय शुक्ला की यह पत्रकारिता पीत, प्रेस्टीट्यूट या एजेंटा जर्नलिज्म की श्रेणी में ही आएगी, जिसका मकसद केवल और केवल अगस्ता घोटाले को दबाने और इसके आरोपियों को बचाने के मकसद से की गई लगती है!

कल एक नए पत्रकार और मीडिया हाउस की ‘अगस्ता पत्रकारिता’ के बारे में इंडिया स्पीक्स डेली पर पढि़ए….

Web Title: agustawestland-chopper-manufacturer-finmeccanica-managing-the-indian-media-3
Keywords: AgustaWestland scam, Paid journalist, Congress Scams, presstitutes, Sonia Gandhi, Rajdeep sardesai

Comments

comments



Be the first to comment on "आर्य समाज कौन से पुराणों को मानता है और कौन से नहीं ?"

Leave a comment

Your email address will not be published.

*