मोदी सरकार के ‘बेटी बचाओ -बेटी पढ़ाओ’ अभियान के लिए ‘मौलिक भारत’ ने की पहल

हर घर और हर परिवार में बेटी की स्थिति मजबूत करने और नारी की गरिमा और सम्मान के महत्त्व को फिर से स्थापित करने के आह्वान के साथ कॉन्स्टिट्यूशन क्लब नई दिल्ली में देश भर से आयी सैकड़ों महिलाओं एवं पुरुषों ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संकल्प लिया । सेमीनार को संबोधित करने वाले सभी वक्ताओं का मत था कि सन 2022 तक विकसित भारत बनाने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के आह्वान को पूरा करने में महिलाओ की भागीदारी और लैंगिक समानता के साथ ही बेटी को भी बेटे के समान हक़, प्यार और सम्मान मिलना जरुरी है।

इस अवसर पर मुख्य अथिति एवं गाँघी स्मृति दर्शन समिति के निदेशक दीपंकरश्री ज्ञान ने ‘नारी मंच’ एवं ‘मौलिक भारत’ के साथ ही सभी संस्‍थाओं को इस अभियान को गांव गांव तक पहुँचाने के लिए साथ आने का आह्वान किया। ‘नारी मंच’ की अध्यक्ष साधना सिंह, कार्यक्रम के संयोजक उमेश गौड़, आई आई पी फाउंडेशन के कार्यकारी राजेश गोयल एवं ‘मौलिक भारत’ के महासचिव अनुज अग्रवाल ने इसके प्रति अपनी टीम की प्रतिबद्धता जाहिर की।

मौलिक भारत के पदाधिकारियों डॉ उर्वशी मक्कड़, क़े. विकास गुप्ता, सुरेश शर्मा, नवीन जयहिंद, आशुतोष सिंह, नरेंद्र सिंह और जितेंद्र तिवारी ने भी सभा को संबोधित किया। कम्युनिटी बेस्ड संस्थाओ के शमीमा रैना, रईस पठान, चंद्रलेखा शर्मा, जमाल अंसारी आदि दर्जनों अन्य सामाजिक रूप से सक्रिय लोगों ने अपने विचार रखे। कार्यक्रम का आकर्षण महिलाओं के अधिकारो के लिए काम कर रहे गुलाबी गैंग की टीम, उनके संयोजक जयप्रकाश और अध्यक्ष सुमन चौहान रही।

26 सम्मानित की जाने वाली महिलाओ में से स्मिता पण्डे, मनुश्री लखोत्रा, नीशूमित्तल, अंशु पाठक, शालू अग्रवाल, मनजीत कौर, उषा शुक्ला आदि के कार्य और विचारो से सदन काफी प्रभावित हुआ। सदन को उच्चतम न्यायालय के अधिवक्ता विराग गुप्ता एवं कलिंगा विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ संदीप अरोरा ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर पुरे दिन के विमर्श के निष्कर्षो को एक मांग पत्र के रूप में प्रधानमंत्री को भेजे जाने के लिए दस सूत्रीय मांगपत्र सर्वसम्मति से पारित किया गया।

Web Title: Beti Bachao Beti Padhao- Maulikbharat initiative-1

Keywords: बेटी बचाओ -बेटी पढ़ाओ अभियान| Beti Bachao Beti Padhao|Beti bachao beti Padao (BBBP) Yojana| Caring for the Girl Child| Gender Equlity| NGO| sex selection| women empowerment| pm modi|मोदी सरकार

Comments

comments



Be the first to comment on "भारत मां को पीड़ा पहुंचाते असभ्य भारतीय!"

Leave a comment

Your email address will not be published.

*