पुश-अप में गोल्डन बुक ऑफ़ रिकॉर्ड अपने नाम करने वाले रोहताश, स्लिप डिस्क भी जिनका हौसला नहीं तोड़ सकी!

Posted On: April 6, 2016

शशिरंजन वर्मा

नई दिल्ली खानपुर गाँव निवासी रोहताश चौधरी इन दिनों अपने नए मिशन पर हैं। वह अपनी पीठ पर 25 किलो वजन लाद कर 41 सौ पुश-अप लगाकर नया विश्व कीर्तिमान स्थापित करने में लगे हैं। इससे पूर्व इन्होंने पुश-अप के क्षेत्र में नया विश्व कीर्तिमान स्थापित कर न केवल अपने क्षेत्र का नाम रौशन किया बल्कि भारत का सिर भी गर्व से ऊँचा किया है। इन्होंने यह कीर्तिमान लौह पुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल की जयंती 31 अक्टूबर 2015 पर अशोक रोड स्थित वाईडब्ल्यूसीए में ‘गोल्डन बुक ऑफ़ रिकॉर्ड’ के अधिकारियों के मौजूदगी में स्थापित किया।।

10102- पुश-अप लगाने का विश्व कीर्तिमान

रोहताश चौधरी ने 7 घंटे 30 मिनट में 10102 (दस हजार एक सौ दो) पुश-अप लगाकर कनाडा नार्दन एल्बर्टा नगर के निवासी दोग प्रुडेन के विश्वरिकॉर्ड को तोड़ते हुए नए विश्व कीर्तिमान का खिताब अपने नाम किया। ज्ञात हो कि प्रुडेन ने यह रिकॉर्ड 8 घंटे में बनाया था। रोहताश ने अपने इस खिताब को बल्लभ भाई पटेल को समर्पित किया है।

1 घंटे में 2690- पुश-अप लगाने का विश्व कीर्तिमान

रोहताश चौधरी ने 1 घंटे में सबसे अधिक पुश-अप लगाने के विश्व कीर्तिमान को भी अपने नाम किया और एक बार फिर से भारत का नाम ऊँचा किया। इन्होंने 1 घंटे में 2690 (दो हजार नब्बे) पुश-अप लगाकर यू.के वेल्स नगर के निवासी कार्लटोन विलियम के एक घंटे में 1874 (एक हजार आठ सौ चैहत्तर) के विश्व कीर्तिमान को ध्वस्त किया और इन्होंने अपने इस विश्व कीर्तिमान को शहीद-ए-आजम भगत सिंह को समर्पित किया।

अगला लक्ष्य: भारी वजन के साथ सबसे अधिक पुश-अप लगाने का विश्व कीर्तिमान बनाना

अपने लक्ष्य में सफलता से इन्हें और अधिक जोश एवं ऊर्जा मिली है। इन्होंने अपने हौसले को नए पंख देते हुए अपना अगला लक्ष्य भारी वजन के साथ सबसे अधिक पुश-अप लगाने का विश्व कीर्तिमान बनाने और उस कीर्तिमान को भारतीय सेना के नाम समर्पित करने का है। अभी यह 22 किलो 600 ग्राम वजन के साथ 4000 पुश-अप लगाने का विश्व कीर्तिमान है। उम्मीद है भारत का यह नौजवान उस कीर्तिमान को भी अपने नाम कर भारत का सिर फिर गर्वसे ऊँचा करेगा और तिरंगे को संपूर्ण विश्व में लहरायेगा।

बचपन में ही सीखे पहलवानी के गुर

बचपन से ही रोहताश को पहलवानी करने में दिलचस्पी थी। बचपन में अपने मामा रामी भाटी के साथ अखाड़े में वो आते-जाते थे और वहीं से उन्होंने पहलवानी का गुर सीखा।वर्ष 2007 में स्लिप डिस्क की वजह से अस्पताल में एडमिड होना पड़ता था। तब वहाँ किसी शख्स ने इनसे कहा था कि ‘दुनिया उसी को याद और सलाम करती है जो ऐसा कार्य करता है जो किसी ने नहीं किया हो।’ तभी, इन्होंने ने ठान ली थी कि इन्हें भी कुछ अलग करना है और उसी दिन से अपने धुन में लग गए। वर्ष 2010 में योजना बनाकर प्रतिदिन 8 से 10 घंटे तक अभ्यास करना शुरू कर दिया। वर्ष 2015 में इन्हें ‘गोल्डन बुक ऑफ़ रिकॉर्ड’ से आमंत्रण मिला और इन्होंने उस आमंत्रण को स्वीकार कर सफलता प्राप्त की।

Web Title: Bodybuilding Personalities- rohtash

Keywords: बॉडी बिल्डिंग| वेट लिफ्टिंग| पुश अप| एक्सरसाइज| कसरत| पहलवान| पहलवानी| push up| push up benefits| push up exercise|

Comments

comments