संविधान

CJI Dipak Misra का एक निर्णय और मां-बेटे राजनीति से हो जाएंगे बाहर! इसीलिए डरी हुई है सोनिया-राहुल गांधी और उनकी लॉबी!

कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग लाने के लिए इतना बेचैन क्यों है? उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडु ने महाभियोग…


भारत की न्याय व्यवस्था को ध्वस्त करने की साजिश रचने वाले चेहरों को पहचानिये !

सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसला में यह स्पष्ट कर दिया है कि इस प्रकार की याचिका के तहत न्यायपालिका को बदनाम करने की…


Judge Loya Death Verdict: रवीश कुमार, The Wire, प्रशांत भूषण जैसे वामी-कांगी लॉबिस्ट को सुप्रीम कोर्ट ने मारा तमाचा! कहा, अपने राजनीतिक हित साधने के लिए न्यायपालिका को कुछ लोग बदनाम कर रहे हैं!

जज लोया मामले में सुप्रीम कोर्ट के आए फैसले से NDTV व रवीश कुमार, The wair व सिद्धार्थ वरदराजन, The Caravan और भवतोश…


Fake News Maker: इन 12 मीडिया हाउस को पहचानिये, जिन्होंने रची थी देश में दंगा कराने की साजिश !

क्या आप जानते हैं कि देश के नामी मीडिया हाउस में शुमार The Times Of India, The Hindu, The Statesman, The Pioneer, The…


मक्का मस्जिद फैसला: हिंदुओं को आतंकवादी साबित करने की कांग्रेसी कोशिश नाकाम!

11 साल पहले 2007 में हैदराबाद स्थित मक्का मस्जिद में हुए बम धमाके के मामले में NIA की विशेष अदालत का फैसला आ…


Judiciary की प्रतिष्ठा का हनन क्यों कर रहे SC से रिटायर होने वाले जज?

सुप्रीम कोर्ट से रिटायर होने के मुहाने पर खड़े जस्टिस चेलमेश्वर और कुरियन जोसेफ जैसे जज आज न्यायापालिका की प्रतिष्ठा का हनन करने…


सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश और पत्रकारों के बीच मित्रता न्याय व लोकतंत्र के लिए खतरनाक है !

लुटियन पत्रकार सुप्रीम कोर्ट का एजेंडा सेट करने लगे हैं! सोनिया गांधी के बेहद खास शेखर गुप्ता सुप्रीम कोर्ट के चार न्यायधीशों की…


Tarun Tejpal, Teesta setalvad और Nandini Sundar जैसों के लिए जितनी चिंतित है न्यायपालिका, कभी आम जनता के लिए उतनी चिंतित क्यों नहीं होती?

अवधेश कुमार मिश्र। आम और खास में फर्क करने से न्यायपालिका भी अछूती नहीं है! बलात्कार के आरोप में जेल में बंद तरुण…



सुप्रीम कोर्ट ने कहा, SC/ST Act का इस्तेमाल निर्दोषों को आतंकित करने के लिए नहीं किया जा सकता!

अवधेश कुमार मिश्र। सुप्रीम कोर्ट ने कहा, SC/ST Act का इस्तेमाल निर्दोषों को आतंकित करने के लिए नहीं किया जा सकता! SC/ST Act…


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें!

 

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है। देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें! धन्यवाद !