हमारा संविधान

आम्बेडकर और राष्ट्रपति राजेन्द्र प्रसाद की आपत्ति के बावजूद जवाहर लाल नेहरू ने पहला संविधान संशोधन कर मीडिया पर लगाया था अंकुश!

जिस प्रकार गांधी परिवार से प्रशिक्षित मीडिया के एक तबके ने भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता सुब्रमनियन स्वामी पर निशाना साधना शुरू…


वोटबैंक की राजनीति नहीं लागू करने देती है सम्पूर्ण संविधान !

देश की एकता-अखंडता और आपसी भाईचारा को मजबूत करने के लिये भारतीय संविधान को शत-प्रतिशत लागू करना जरुरी है। वोटबैंक राजनीति के कारण…


जेएनयू में लगे देशद्रोही नारों के बीच: हमारा संविधान अभिव्‍यक्ति की स्‍वतंत्रता पर प्रतिबंध भी लगाता है!

जवाहरलाल नेहरू विश्‍वविद्यालय (जेएनयू) में खुलेआम ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे, इंशाअल्‍लाह-इंशाअल्‍लाहद्’, ‘भारत की बर्बादी तक जंग रहेगी-जंग रहेगी’, ‘अफजल हम शर्मिंदा हैं, तेरे…