पुस्तक और लेखक

RSS ने की थी राजीव गांधी को प्रधानमंत्री बनने में मदद? तत्कालीन संघ प्रमुख और कांग्रेस के बीच गुप्त बैठक का खुलासा!

अवधेश कुमार मिश्र। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद साल 1984 में हुए लोकसभा चुनाव में राजीव गांधी के नेतृत्व में…



गूढ़ विषयों को भी सरल शब्दों में समझा देना संदीप जी की एक विशेषता है: सुमंत विद्वांस

सुमंत विद्वांस। लेखक श्री Sandeep Deo जी से कल फिर एक बार दिल्ली में मुलाकात हुई। मैं उनका आभारी हूं कि वे इतनी…


नेहरू युग का आधार गांधी जी का ग्राम स्वराज नहीं, बल्कि रूसी समाजवाद था।

सुमंत विद्वांस। मैं अगर कहूं कि भारत के प्रथम प्रधानमंत्री नेहरूजी थे, तो आप अवश्य ही मुझसे सहमत होंगे। मैं अगर कहूं कि…


भारत के सर्वांग एकीकरण के पक्षधर सरदार पटेल पर एक अनुपम कृति!

हिंदी और अंग्रेज़ी के सुप्रतिष्ठित लेखक और अनेक कालजयी उपन्यासों के रचनाकार श्री Amarendra Narayan ने हिंदी में ‘एकता और शक्ति’ और अंग्रेज़ी…




कहानी कम्युनिस्टों के जरिये कम्युनिस्टों की काली करतूत और राज-योगी के जरिये नाथपंथ का उज्जवल इतिहास बताना जरूरी था!

1)#कहानीकम्युनिस्टोंकी मांग अंग्रेजी में बढ़ रही है! अंग्रेजी पत्रिका भी अब इसका रिव्यू छाप रही हैं। अंग्रेजी पत्रिका DayAfter के पत्रकार असित मनोहर…


भारत में आयातित वामपंथ के काले इतिहास पर से पर्दा उठाती किताब का नाम है ‘कहानी कम्युनिस्टों की’

आनंद कुमार। दुनिया के जघन्यतम अपराध क्रांतियों की आड़ लेकर हुए हैं। विश्व युद्धों की जड़ में कहीं ना कहीं क्रांति की आड़…


विचारधारा से कम्युनिस्ट पंडित नेहरू ने स्टालिन को खुश करने के लिए अमेरिका द्वारा भारत को परमाणु बम दिए जाने का किया था विरोध!

शैलेश भारद्वाज। किताब के शीर्षक से ही आप समझ गए होंगे की इसमें कम्युनिस्टों की कहानी है। ऐसे कम्युनिस्टों की कहानी जिसने प्रत्यक्ष…


राष्ट्रहित की पत्रकारिता को सपोर्ट करें!

 

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है। देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें! धन्यवाद !