मेट्रो कल्चर

अमिताभ एक ऐसी शख्सियत हैं, जिसका कद फिल्मों का कैमरा नहीं संभाल पाता!

सत्तर से अस्सी के दशक में जिन लोगों ने सिनेमा देखा है, वे एक दृश्य ताउम्र नहीं भूल सकते। फिल्म शुरू होने के…


जिस काशी को छह-सात साल में नहीं देखा जा सकता उसे आईआईपी ने 20 मिनट में दिखा दिया : मनोज तिवारी

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ फोटोग्राफी (फाउंडेशन) ने ‘काशी एक उत्सव’ कार्यक्रम के तहत जीवंत फोटो प्रदर्शनी का आयोजन किया। नोएडा सेक्टर 2 स्थित बी-7…




‘लवयात्री’ फिल्म समीक्षा- बकवास से थोड़ी ज्यादा और बेवकूफी से थोड़ी कम!

निर्माता सलमान खान की फिल्म ‘लवयात्री’ गजब फिल्म है। इसे देखने के बाद दर्शक सूचनाओं के एक नए संसार में प्रवेश कर जाता…


त्रिलोक में शिव के एक मात्र निवास ‘काशी’ का उत्सव मनाने जा रहा है आईआईपी फाउंडेशन!

जिस काशी के बारे में कहा जाता है कि वह इतिहास से भी पुरातन, परंपराओं से भी पुराना और किवदंतियों से भी प्राचीन…


नारी सशक्तिकरण के रूप में अश्लीलता फैलाती स्वरा भास्कर पसंद है या युद्ध के मैदान में खड़ी कंगना रनौत, तय कीजिए?

नारी सशक्तिकरण के नाम पर हम नारी का नि:शक्तिकरण ज्यादा देखते हैं। शबरीमाला में रजस्वला का घुसना सशक्तिकरण है। स्वरा भास्कर का हस्तमैथुन…


आइए गांधी जयंती पर उस गांधी को याद करें, जिनकी एक गलती ने राष्ट्र को नरसंहार में झोंक दिया!

शंकर शरण। क्‍या आपने ध्यान दिया है कि कश्मीरी, बंगाली या पंजाबी हिन्दुओं के बीच महात्मा गांधी कभी लोकप्रिय नहीं रहे? कारण था,…


फेडरेशन ऑफ़ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लाइज के बैन के बावजूद पाकिस्तानी कलाकारों को मिल रहा है काम!

पाकिस्तान हमारे सैनिकों की बर्बरतापूर्ण ह्त्या कर देता है और हमारी फिल्म इंडस्ट्री उसके भेजे कलाकारों को काम देती है। उसके कमतर गायक…


सच्चाई का ‘सुई धागा’ लेकर मन से ‘तुरपाई’ करते हैं निर्मल आनंद!

हमें आदत सी हो गई है अपने प्रिय कलाकार को आलीशान कपड़ों में देखने की, न्यूज़ीलैंड और ग्रीस के लोकेशंस के बैकग्राउंड में…


‘कम्प्यूटर ग्राफिक्स’ के भरोसे है ‘ठग्स ऑफ़ हिन्दोस्तान’!

पीरियड फिल्मों को बनाने के हिन्दी फिल्मों के इतिहास को बारीकी से देखा जाए तो चुनिंदा फ़िल्में ऐसी हैं जो दर्शक को किसी…



भारत की सुगठित सामजिक संरचना को तोड़ने का काम कर रहा है ‘बिग बॉस’!

परिवार के साथ बिग बॉस देखने के लिए बहुत हिम्मत चाहिए! बिग बॉस क्यों देखा जाता है? ये प्रश्न मुझे बड़ा उद्धेलित करता…


हिंदुओं की संगठित शक्ति के आगे सलमान खान को झुकना पड़ा! संगठित होंगे तो बचेंगे, अन्यथा…!

पद्मावत फिल्म से गहरे आघात सहने के लम्बे समय बाद हिन्दू समुदाय के लिए सोमवार की शाम बड़ी खुशनुमा रही। सलमान खान ने…


प्रेम की कोमलता को वासना के प्रहारों से लहूलुहान किया है अनुराग कश्यप ने अपनी फिल्म मनमर्जियां में!

निर्देशक अनुराग कश्यप धूसर रंगों से अपना सिनेमाई संसार रचते हैं। ‘मनमर्जियां’ उनका रचा गया एक ‘धूसर प्रेम त्रिकोण’ है। बोल्ड पत्नी, दीवाना…


वीभत्स चेहरे और नुकीले दांत वाला अपराजित दरिन्दा ‘The Predator’ लौट आया है!

अनंत ब्रम्हांड में स्थित किसी आकाशगंगा के ग्रह से पृथ्वी पर शिकार खेलने के लिए आने वाले एलियन की कल्पना रोमांचकारी है। इस…


‘पलटन’ फिल्म समीक्षा- तिरंगा सैनिकों के साँस लेने से लहराता है, हवा से नहीं!

फिल्म समीक्षा: पलटन स्टार कास्ट: अर्जुन रामपाल, सोनू सूद, जैकी श्रॉफ, सिद्धांत कपूर, लव सिन्हा, ईशा गुप्ता, सोनल चौहान, मोनिका गिल निर्देशन: जे…


यदि शेर अकेला हो तो कुत्ते भी उसका शिकार कर लेते हैं, जरूरी है ‘हिंदू’ एक हों!

स्वामी विवेकानंद के शिकागो में ऐतिहासिक भाषण की 125वीं वर्षगांठ के मौके पर एक बार फिर शिकागो में ही विश्व हिंदू सम्मेलन का…