पर्यटन

यात्रा वृतांत: पिथौरागढ़, जिसे प्रकृति ने अपने हाथों से सजाया है, अंतिम भाग !

…कल हम चम्पवात से बाहर निकल गए थे। चम्पवात जिला मुख्यालय से वैसे लोहाघाट 14 किलोमीटर दूर है लेकिन कल हमने जहाँ यात्रा…


पिथौरागढ़, जिसे प्रकृति ने अपने हाथों से सजाया है!

देव-भूमि उत्तराखंड में चहुँ और बिखरी नैसर्गिक सुंदरता आपको अपने मोहपाश में बांध लेगी। अनायास ही आपके मुँह से निकल पड़ेगा वाह! जन्नत…




सभी मनोकामनाएं पूरी करते है जागेश्वर धाम के भोले नाथ !

उत्तरांचल के अल्मोड़ा जिले से लगभग चालीस किलोमीटर दूर चीड़ और देवदार के वृक्षों से घिरा जागेश्वर धाम जो शिवजी के बारहवें ज्योतिर्लिंग…