क्रिसमस के दिन मनुस्मृति दहन के जरिए आखिर बाबा साहब आंबेडकर क्या कहना चाहते थे?



Sandeep Deo
Sandeep Deo

25 दिसंबर को महामना मदन मोहन मालवीय, अटल बिहारी वाजपेयीज के जन्मदिन और क्रिसमस के अलावा एक और दिवस मनाया जाता है, क्या आप जानते हैं कि वो क्या दिन है? आज ‘मनुस्मृति दहन’ दिवस के नाम पर कई जगह आयोजन होता है। बाबा सहब भीमराव आंबेडकर ने 25 दिसं 1927 को मनुस्मृति को जलाया था और कहा था- “Let’s destroy the authority of ancient Hindu scriptures that are borne in inequality. Religion and slavery are not compatible.”

मेरे मन में यह सवाल उठता है कि आखिर क्रिसमस के दिन ही उन्होंने मनुस्मृति को जलाने की क्यों सोचा? क्या तब कहीं उनके मन में क्रिश्चनिटि में धर्मांतरण का विचार तो नहीं आया था? हालांकि बाद में क्रिश्चनिटी और इस्लाम के ऑफर को ठुकराते हुए भारत की समस्या भारतीयता से सुलझाने की बात कहते हुए बौद्ध धर्म को स्वीकार किया था!

उसी दशक में अंबेडकर और गांधी के बीच टकराव शुरू हुआ था। सही मानिए, यदि गांधी नहीं होते तो अंबेडकर हिन्दू समाज को तोड़ चुके होते। जिन्ना जैसे मुसलमानों को भारत से अलग मानते थे, वैसे ही आंबेडकर भी दलितों को अलग करने की बात कर रहे थे। गांधी के आमरण अनशन ने हिंदू समाज को बचा लिया! मेरा सवाल फिर से वही है, क्या अंबेडकर अंग्रेजों के हाथों में खेल रहे थे? क्रिसमस के दिन मनुस्मृति दहन दिवस महज संयोग तो हो नहीं सकता? बड़े नेता हमेशा प्रतीकों के जरिए बात करते हैं! आंबेडकर आखिर इस प्रतीक के जरिए क्या कहना चाहते थे?


More Posts from The Author





राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें !

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है । देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें ! धन्यवाद !
*मात्र Rs. 500/- या अधिक डोनेशन से सपोर्ट करें ! आपके सहयोग के बिना हम इस लड़ाई को जीत नहीं सकते !

About the Author

Sandeep Deo
Sandeep Deo
Journalist | Best seller Author By Nilson-Jagran| Written 7 books | Bloomsbury's first Hindi Author | Social Media content strategist | Media entrepreneur.