ए बारिश ; इस बार केवल भविष्यवाणी तक सीमित मत रहना !

Category:
Posted On: May 31, 2016

ए बारिश ;
इस बार केवल,
भविष्यवाणी तक सीमित मत रहना !
टकटकी लगाकर लाखों निगाहें
आसमान की आग को
महसूस कर रहीं हैं !

ए बारिश ;
इस बार इतना बरसना,
कोई कोना धरती का,
न प्यासा रह जाए !
धरती की सारी दरारें
दर्द से बिलख रही हैं

ए बारिश ;
तालाब सारे सूख चुके हैं,
कुऐं से बाल्टी भी,
खाली लौटती है !
नावें कागज की,
इंतज़ार कर रही हैं

ए बारिश ;
पिछले साल,फसल को,
सूखा निगल गया,
पिछले साल से चूल्हे पर
झूठा दिलासा पक रहा है!

ए बारिश ; ए बारिश ;
इस बार केवल
भविष्यवाणी तक सीमित मत रहना !

Comments

comments



Be the first to comment on "महात्मा गांधी के सपने को साकार कर रहे हैं सुलभ इंटेरनेशनल के संस्थापक डॉक्टर बिंदेश्वर पाठक!"

Leave a comment

Your email address will not be published.

*