ए बारिश ; इस बार केवल भविष्यवाणी तक सीमित मत रहना !



Category:
Posted On: May 31, 2016
Sanjeev Joshi
Sanjeev Joshi

ए बारिश ;
इस बार केवल,
भविष्यवाणी तक सीमित मत रहना !
टकटकी लगाकर लाखों निगाहें
आसमान की आग को
महसूस कर रहीं हैं !

ए बारिश ;
इस बार इतना बरसना,
कोई कोना धरती का,
न प्यासा रह जाए !
धरती की सारी दरारें
दर्द से बिलख रही हैं

ए बारिश ;
तालाब सारे सूख चुके हैं,
कुऐं से बाल्टी भी,
खाली लौटती है !
नावें कागज की,
इंतज़ार कर रही हैं

ए बारिश ;
पिछले साल,फसल को,
सूखा निगल गया,
पिछले साल से चूल्हे पर
झूठा दिलासा पक रहा है!

ए बारिश ; ए बारिश ;
इस बार केवल
भविष्यवाणी तक सीमित मत रहना !

Comments

comments


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें!

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है। देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें! धन्यवाद !
* मात्र 200 ₹ प्रतिमाह का सहयोग करें और मिलकर प्रोपोगंडा वार को ध्वस्त करें।



Be the first to comment on "‘Swami Ramdev- Ek Sangharsh’ तड़के वाली दाल है ताकि यादवों के गौरवशाली इतिहास को भुलाया जा सके!"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें!

 

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है। देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें! धन्यवाद !