आइडिया ऑफ इंडिया वह नहीं है जो नेहरू ने दिया, बल्कि वह है जिसकी चर्चा पीएम मोदी ने लाल किले से किया!



ISD Bureau
ISD Bureau

यह एक सेतु है! इसका अर्थ समझे बिना इस पर नहीं चल पाएंगे! इस सेतु के एक किनारे को सेक्यूलरिज्म ने काट कर अलग कर दिया था! आज लाल किला से उसे फिर से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यह कह कर जोड़ दिया- “वेद से विवेकानंद तक, सुदर्शनधारी मोहन से लेकर चरखाधारी मोहन तक, महाभारत के भीम से लेकर भीमराव तक हमारी एक लंबी विरासत है।”

इस लंबी विरासत को पंडित नेहरू के ‘आइडिया ऑफ इंडिया’ में जगह नहीं दी गई थी! वहां वेद के लिए जगह नहीं थी, वहां विवेकानंद से अधिक लेनिन की चर्चा थी, वहां गांधी को उनके राम से काट कर जगह दी गई, वहां आदिवासी हिडिम्बा से शादी करने वाले भीम को केवल इसलिए मिथक माना गया ताकि भारतीय समाज में मुगलों व अंग्रेजों द्वारा रोपित जातिवादी विभाजन को ठोस ठहराया जा सके…!

मोदी ने इस दूरी को पाटने का प्रयास किया है! सेक्यूलर नेहरूवादी इसे हिन्दुत्व ठहरा कर इसकी आलोचना कर सकते हैं, लेकिन इससे वे नजर कैसे चुराएंगे कि केवल हिन्दू ही एक ऐसी जाति है, जो सह-अस्तित्व को स्वीकारता है! इस स्वीकार भाव ने ही भारतीय समाज का ताना-बाना बुना है! आइडिया ऑफ इंडिया वह नहीं है, जिसे सोवियत संघ से चुरा कर नेहरू ने भारतीय समाज पर थोपा और जिसकी ब्रांडिंग पुस्तक लिख-लिख कर वामपंथी- नेहरूवादी इतिहासकारों ने की, बल्कि आइडिया ऑफ इंडिया वह है, जिसकी चर्चा आज नरेन्द्र मोदी कर रहे हैं!



राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें !

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है । देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें ! धन्यवाद !
*मात्र Rs. 500/- या अधिक डोनेशन से सपोर्ट करें ! आपके सहयोग के बिना हम इस लड़ाई को जीत नहीं सकते !

About the Author

ISD Bureau
ISD Bureau
ISD is a premier News portal with a difference.