किताबों में है लंबी जिंदगी जीने का राज !

कुछ लोग अधिक पढ़नेवाले लोगों का मजाक उड़ाते हैं और उन्हें किताबी कीड़ा तक कहते हैं. अब एक रिसर्च में पता चला है कि जो लोग किताबें अधिक पढ़ते हैं, वे दूसरों की तुलना में अधिक दिनों तक जीते हैं. यह रिसर्च अमेरिका के येल यूनिवर्सिटी में किया गया है. इस रिसर्च में 50 वर्ष से अधिक उम्र के 3635 लोगों को शामिल किया गया. इसमें भाग लेनेवाले सभी लोगों को तीन ग्रुप में बांट दिया गया. पहले ग्रुप में किताब नहीं पढ़नेवाले लोगों को शामिल किया गया.

दूसरे ग्रुप में साढ़े तीन घंटे तक किताब पढ़नेवाले लोगों को शामिल किया गया और तीसरे ग्रुप में साढ़े तीन घंटे से अधिक पढ़नेवाले लोगों को शामिल किया गया. रिसर्च में पाया गया कि अधिक पढ़नेवाले लोगों में अधिकतर लड़कियां, कॉलेज कर चुके लोग और अधिक आयवाले लोग थे. रिसर्च में देखा गया कि साढ़े तीन घंटे तक पढ़नेवाले लोगों में नहीं पढ़नेवाले लोगों की तुलना में 12 वर्ष के अंतराल में 17% कम लोगों की मृत्यु हुई. जो लोग साढ़े तीन घंटे से अधिक पढ़ रहे थे, उनमें मृत्यु दर 27% तक कम देखी गयी. किताब पढ़नेवाले औसतन सभी लोग नहीं पढ़नेवालों की तुलना में दो साल अधिक जिये. यह रिसर्च न्यूयॉर्क टाइम्स में भी प्रकाशित हुई है.

अत: किताबें पढ़ने की आदत डालिए. वैसे भी यह एक अच्छी आदत है और इससे आपका ज्ञानवर्धन भी होता है.

साभार: प्रभात खबर.कॉम

Comments

comments



Be the first to comment on "क्रिसमस के दिन मनुस्मृति दहन के जरिए आखिर बाबा साहब आंबेडकर क्या कहना चाहते थे?"

Leave a comment

Your email address will not be published.

*