ड्रग्स के खिलाफ साहसिक पहल है फिल्म ‘Udata Punjab’

Posted On: June 17, 2016

अनुराग कश्यप और विवाद एक दूसरे के पूरक हो गए ऐसा लगता है.अपनी फिल्मों में नए प्रयोगों से विवादों के साये में रहने वाले अनुराग कश्यप के लिए विवाद उनकी फिल्म की पब्लिसिटी का जबरदस्त माध्यम बन जाता है.सेंसर बोर्ड की कैंची से बचने के लिए न्यायालय तक पहुंची विवादास्पद फिल्म ‘उडता पंजाब’ कल ७० एम.एम के परदे पर प्रदर्शन को लगी.

अनुराग कश्यप अपने निर्भीक और नए-नए प्रयोगों के लिए जाने जाते हैं और इस बार भी समाज में फैलते ड्रग्स जैसे जहर के खिलाफ उनकी साहसिक पहल है फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ में शाहिद कपूर,आलिया भट,करीना कपूर खान,पंजाबी एक्टर और गायक ‘दिलजीत दोसांज’ मुख्या भूमिका में नजर आएंगे तथा इसका निर्देशन किया है अभिषेक चौबे ने.

रॉकस्टार ‘रॉकी सिंह’ (शाहिद कपूर) की युवाओं के आदर्श होने के साथ ड्रग एडिक्ट भी है. लम्बे बाल रॉकस्टार लुक में शाहिद स्वयं को दर्शकों के सामने केवल प्रस्तुत ही कर पाये हैं,पंजाबी पृष्ठभूमि पर बनी फिल्म में बिहारी बोलती हुई लड़की (आलिया भट) कहीं-कहीं पर भाषा पर पकड़ खोती हुई दिखाई देती हैं,ड्रग्स के खिलाफ जंग लड़ती डॉक्टर (करीना कपूर) संजीदा होने की बस कोशिश करती दिखती हैं ,पंजाबी सुपरस्टार ‘दिलजीत दोसांज’ ने जरूर इस फिल्म से यह साबित करने की कोशिश की है की क्यों वे पंजाब के सुपरस्टार हैं?

फिल्म में गालियों की भरमार है. मेरे से ख्याल वर्तमान में गालियां मनोरंजन के नए पैमाने तय कर रही है,चाहे सोशल मीडिया हो अथवा बड़ा पर्दा गालियों से भरे कंटेंट युवा वर्ग को कूल लगते है, फिल्म में ड्रग के कारोबार का जाल कितना वृस्तित है तथा किस तरह से पैसे और पॉवर के जरिये नशे को समाज की रगों से भरा जा रहा है यह दिखाने की कोशिश की है?

‘उड़ता पंजाब’ फिल्म एक विशेष वर्ग (युवा ) को ध्यान में रखकर बनायीं गयी है कहना अतिशियोक्ति नहीं होगी ! युवा पीढ़ी जरूर जाए फिल्म को देखेने ताकि ड्रग्स में डूबी खोखली जिंदगी का दूसरा पहलू देख सकें ना कि फिल्म में जबरदस्ती भरी गालियां सुनने और याद रखने के लिए.

ऐसा कौन सा विवाद था इस फिल्म को लेकर जो फिल्म पिछले हफ़्तों से न्यूज़ की सुर्खियों में रही अगर आपको पता चले तो हमारे कमेंट बॉक्स में जरूर बताइयेगा ?

Comments

comments



Be the first to comment on "यूरोपीय मन से एक ‘राष्ट्र’ के रूप में भारत को कभी नहीं समझा जा सकता! भारत एक राष्ट्र था, है, और सदा रहेगा!"

Leave a comment

Your email address will not be published.

*