दो लेफ्ट लिबरल औरतें, जिनकी सोच भारत के खिलाफ है!

देश की दो ऐसी बुढ़िया औरत, जिन्हें अहंकार है कि वो अभिजातवर्गीय बुद्धिजीवी हैं! जबकि इसके उलट विद्रुपताओं से भरी इनकी शख्सियत में नफरत का जहर घुला है, इसीलिए ये आम भारतीय और उनकी सोच से बेइंतहा घृणा करते हैं! यह घृणा ही इनके मॉर्डन थॉट को ईंधन प्रदान करता है!

इनमें से एक आतंकवादियों की हमदर्द है! चूंकि उसका पति कश्मीरी है, इसलिए AK-47 से भारतीय जवानों का कत्ल करने वाले बुरहान वानी से भी उसे हमदर्दी है! अपने सभी बच्चों को इस्लाम पर कुर्बान करने की ख्वाहिश रखने वाला बुरहान का पिता, इस औरत के लिए एक मासूम स्कूल मास्टर है! भारत की बर्बादी के नारे लगाने वाले जेएनयू के देशद्रोही छोकरों के साथ हॉस्टल में बैठकर यह कंडोम पर ट्वीट करती है और उनके साथ सेल्फी लेकर खुद को प्रगतिशील दर्शाती है!

दूसरी औरत सेमी-पोर्नोग्राफी लिखने को ही लेखन मानती है! भारत के मेहनतकश लोग इसकी नजर में भेड़-बकरी हैं और नाइट पार्टी करने वाले सोशलाइट ही असली इंडियन! ओलंपिक में गए हमारे खिलाड़ियों का यह मजाक उड़ाती है और ‘स्टारी नाइट’ जैसी पोर्नोग्राफी लिखकर यह साबित करना चाहती है कि मेहनतकश लोग मजाक उड़ाने लायक ही हैं, क्योंकि सफलता के लिए तो लेट नाइट पार्टीबाजी का गुण चाहिए!

यह दोनों औरत उस इंडिया को रिप्रजेंट करती हैं, जहां जमीर बेचना ही लिबरल होने की निशानी हैं! ये भारत की लेफ्ट लिबरल वुमन हैं! पावर ब्रोकिंग, आतंकवाद, एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर, पोलोगेमी, देशद्रोह, बीफ ईटिंग मजहबी सनक, सेलेक्टिव ह्यूमन राइट, गिरोहबंदी जैसे विषयों के इर्द-गिर्द ही इनका मानस रचा-बसा है!

Comments

comments



Be the first to comment on "मीडिया हाउस पर क्यों नही हो रहा सर्जिकल स्ट्राइक: आलोक मेहता"

Leave a comment

Your email address will not be published.

*