हम एक दिल, एक घर, और एक शानदार भाग्य साझा करते है: डोनाल्ड ट्रम्प



ISD Bureau
ISD Bureau

दुनिया के सबसे ताकतवर देशों में से एक यूनिटेटेड स्टेट्स ऑफ़ अमेरिका की सत्ता डोनार्ड ट्रम्प के हाथों में बीस में आ गयी! समर्थन और प्रदर्शन के बाद बीस जनवरी को डोनार्ड ट्रम्प ने अपने उद्घाटन भाषण में जो कहा उसका हिंदी रूपांतरण India SpeaksDaily के पाठकों के लिए!

चीफ जस्टिस रॉबर्ट्स, राष्ट्रपति कार्टर, राष्ट्रपति क्लिंटन, राष्ट्रपति बुश, राष्ट्रपति ओबामा, साथी अमेरिकियों और दुनिया के लोगों,धन्यवाद। हम, अमेरिका के नागरिक, अब हमारे देश के पुनर्निर्माण और हमारे सभी लोगों के लिए अपने वादे को बहाल करने के लिए एक महान राष्ट्रीय प्रयास में शामिल हो रहे हैं। एक साथ मिलकर, हम अमेरिका और दुनिया के लिए आने वाले कई वर्षों के लिए प्रवाह का निर्धारण करेंगे। हम चुनौतियों का सामना करेंगे। हम कठिनाइयों का सामना करेंगे। लेकिन हम काम पूरा करके रहेंगे।

हर चार साल में, हम इन सीढ़ियों पर शक्ति (पावर) के इस व्यवस्थित और शांतिपूर्ण हस्तांतरण को पूरा करने के लिए इकट्ठे होते हैं, और हम राष्ट्रपति ओबामा और प्रथम महिला मिशेल ओबामा के इस पारगमन के दौरान उनकी विनीत सहायता के लिए आभारी हैं। वे शानदार रहे हैं। हालांकि, आज के समारोह का बहुत विशेष अर्थ है — क्योंकि आज हम केवल शक्ति को एक प्रशासन से दूसरे प्रशासन को या एक पार्टी से दूसरी पार्टी को हस्तांतरित नहीं कर रहे हैं, बल्कि हम वाशिंगटन, डीसी से सत्ता का हस्तांतरण कर रहे हैं और उसे आपको, यानि जनता को वापस दे रहे हैं।

बहुत लंबे समय से, हमारी राष्ट्र की राजधानी के एक छोटे से समूह ने सरकार से फायदा उठाया है और जबकि बाकी की जनता ने इसका भुगतान किया है। वाशिंगटन फला-फूला, लेकिन लोगों को इस धन दौलत से कोई फायदा नहीं पहुंचा। राजनीतिज्ञ फले-फूले लेकिन नौकरियां इस देश को छोड़ गई, और फैक्ट्रियां बंद हो गईं। संस्थाओं ने अपने आप को बचाया लेकिन हमारे देश के नागरिकों को नहीं। यह जीतें आपकी जीतें नहीं रही हैं। इनकी कामयाबियाँ आपकी कामयाबियाँ नहीं बनी। और जबकि उन्होंने हमारे देश की राजधानी में जश्न मनाया, लेकिन हमारे बाकी के सारे देश में परिवारों के पास जश्न मनाने के लिए कुछ नहीं था।

लेकिन यह सब, यहीं से और अभी से बदल रहा है, क्योंकि यह मौका आपका मौका है। यह सब आपका है। यह सब उन लोगों का है जो आज यहां इकट्ठे हुए हैं और उन सबका जो सारे अमेरिका से देख रहे हैं।

यह आपका दिन है, यह आप का जश्न है। और यह, यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ अमेरिका, आपका देश है सच में इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन सी पार्टी हमारी सरकार को चला रही है, पर इससे फर्क पड़ता है कि क्या हमारी सरकार जनता द्वारा चलाई जा रही है। 20 जनवरी 2017 के दिन को हमेशा उस दिन की तरह याद रखा जाएगा जबकि जनता इस देश की फिर से शासक बन गई थी हमारे देश के भुलाए जा चुके नर और नारी अब कभी भी भुलाए नहीं जाएंगे। अब हर कोई आपकी बात सुन रहा है। आप लाखों करोड़ों की संख्या में ऐसे ऐतिहासिक समारोह का हिस्सा बनने के लिए आए हैं जिसे दुनिया ने पहले कभी नहीं देखा है

इस समारोह के केंद्र में एक महत्वपूर्ण दृढ़ विश्वास है कि एक राष्ट्र अपने नागरिकों की सेवा के लिए मौजूद है। अमेरिकी नागरिक अपने बच्चों के लिए बढ़िया स्कूल, अपने परिवारों के लिए सुरक्षित पड़ोस, और अपने लिए अच्छी नौकरियां चाहते हैं। यह नेक लोगों और नेक जनता की उचित और सही मांगे हैं।लेकिन हमारे बहुत से नागरिकों के लिए, एक अलग ही वास्तविकता मौजूद है। हमारे शहरों के भीतर बहुत सी माँयें और बहुत से बच्चे गरीबी में फंसे हुए हैं, जंग लगे कारखाने हमारे देश में कब्रिस्तान के पत्थरों की तरह बिखरे हुए हैं, एक शिक्षा प्रणाली, जो धन से मालामाल है, लेकिन जो हमारे युवा और सुंदर छात्रों को ज्ञान से वंचित रखती है और अपराध और गिरोह और नशीले पदार्थ जिन्होंने बहुत सी जिंदगियों को छीन लिया है और हमारे देश की कितनी ही अचेतन क्षमता को लूट लिया है। यह अमेरिकी हत्याकांड अभी और यहीं खत्म होता है।

हम एक राष्ट्र हैं, और उनका दर्द हमारा दर्द है। उनके सपने हमारे सपने हैं और उनकी सफलता हमारी सफलता होगी। हम एक दिल, एक घर, और एक शानदार भाग्य सांझा करते है। यह शपथ जो मैं आज ले रहा हूं वह सभी अमेरिकियों के प्रति निष्ठा की शपथ है।

कई दशकों से, हमने अमेरिकी उद्योग की कीमत पर विदेशी उद्योग को समृद्ध किया है; दूसरे देशों की सेनाओं को आर्थिक सहायता प्रदान की है और शोक की बात है कि हमने हमारी अपनी सेना में दुखद रिक्तता आने दी है। हमने दूसरे देशों की सीमाओं की रक्षा की है जबकि हमने अपनी सीमाओं की रक्षा करने के लिए इनकार किया है और विदेशों में अरबों खरबों डॉलर खर्च किये हैं जबकि अमेरिका का बुनियादी ढांचा जीर्ण और क्षय हो गया है।

हमने दूसरे देशों को अमीर बनाया है जबकि हमारे देश का धन, शक्ति और आत्मविश्वास, भविष्य में बिखर गया है। एक के बाद एक कारखाने बंद हो गए हैं और हमारे तटों को छोड़ गए, लेकिन किसी ने भी उन लाखों करोड़ों श्रमिकों के बारे में नहीं सोचा जो कि पीछे रह गए थे। हमारे मध्यम वर्ग के धन-धान्य को उनके घरों से छीन लिया गया है और फिर उसके बाद उसे दुनिया भर में पुनःवितरित कर दिया गया। लेकिन यह सब अब अतीत है। और हम अब केवल भविष्य की ओर देख रहे हैं।

हम, आज यहां इकट्ठे होकर, एक नया फरमान जारी कर रहे हैं जिसे हर शहर, हर विदेशी राजधानी और हर ताकत के हॉल में सुना जाएगा। इस दिन के बाद, एक नया दृष्टिकोण हमारे देश पर शासन करेगा। इस दिन से लेकर, केवल अमेरिका सबसे पहले होगा केवल अमेरिका पहले! व्यापार पर, करों पर!


More Posts from The Author





राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें !

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है । देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें ! धन्यवाद !
*मात्र Rs. 500/- या अधिक डोनेशन से सपोर्ट करें ! आपके सहयोग के बिना हम इस लड़ाई को जीत नहीं सकते !

About the Author

ISD Bureau
ISD Bureau
ISD is a premier News portal with a difference.