रेप के आरोपी पादरी को बेल और सबरीमाला के भक्तों को जेल! यह भेदभाव क्यों?



ISD Bureau
ISD Bureau

सबरीमाला मंदिर में पूजा करने के लिए गिरफ्तार निरपराध हिंदुओं को बेल देने पर सवाल उठाने वाले केरल कोर्ट को शर्म तक नहीं आती। जबकि उसने खुद रेप के आरोपी पादरी फैंको मुल्लकाल को जमानत दी थी। उससे क्यों नहीं पूछा जाना चाहिए कि आखिर उसने रेप के आरोपी पादरी फ्रैंको मुल्लकाल को किस बिना पर जमानत दी थी? जिस प्रकार देश का न्यायालय हिंदुओं की भावनाओं को चोट पहुंचाने वाले आदेश देने लगे हैं इससे जनमानस में यह संदेश जाने लगा है कि कोर्ट हमेशा से ही सामन्य लोगों के खिलाफ और विशेष लोगों के पक्ष में निर्णय करता रहा है। जो अभी तक चल रहा है। सभी के लिए न्याय की कहावत को धूमिल करते हुए न्यायपालिका को भी bharsht कर दिया है।

इस संदर्भ में स्वराज्य में स्तंभ लिखने वाली स्तंभकार शैफाली वैद्य ने ट्वीटर पर लिख है कि सबरीमाला में पूजा करने के दौरान गिरफ्तार किए गए सामान्य हिंदुओं को जमानत दिए जाने पर केरल कोर्ट ने नाराजगी जताई है। केरल कोर्ट का कहना है कि इससे देश में एक गलत संदेश जाएगा। शेफाली ने अपने ट्विटर में लिखा है कि जबकि सच्चाई यह है कि केरल की एक नन के साथ कई बार रेप करने के आरोपी पादरी फ्रैंक मुल्लकाल को यह केरल कोर्ट ने जमानत दी है।

सवाल उठता है कि आखिर केरल कोर्ट इस प्रकार के भेदभावपूर्ण क्यों कर रहा है? जिस प्रकार केरल कोर्ट हिंदू और क्रिश्चियन को देखकर भेदभावपूर्ण फैसला करता है इससे आम लोगों का न्याय से विश्वास उठने लगा है। यहां के लोगों में न्याय से विश्वास उठने में सबसे बड़ा हाथ कोर्ट के कुछ जजों द्वारा भेदभावपूर्ण फैसला रहा है।

साफ है कि केरल में सामान्य हिंदुओं को किसी अपराध में नहीं बल्कि सबरीमाला मंदिर में पूजा करने के लिए गिरफ्तार किया गया था। उनके खिलाफ कोई अपराध साबित नहीं होने पर उन्हें जमानत दे दी गई। केरल कोर्ट ने हिंदुओं कों मिली जमानत पर सवाल उठाकर हिंदुओं की भावनाओं को चोट पहुंचाई है। इसी को देखते हुए लोगों ने केरल कोर्ट के उस फैसले पर सवाल करना शुरू कर दिया है, जिसमें उन्हों रेप के आरोपी पादरी को जमानत दी है।

URL: Why this discrimination? bail for rape accused bishop and prison for sabarimala devotees

keywords: rape accused bishop, kerala nun rape, sabarimala, jail for sabarimala devotees, kerala court, indian judiciary system, जालंधर बिशप, बलात्कार के आरोपी बिशप, केरल नन बलात्कार, सबरीमाला, सबरीमाला भक्तों के लिए जेल, केरल अदालत, भारतीय न्याय व्यवस्था


More Posts from The Author





राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें !

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है । देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें ! धन्यवाद !
*मात्र Rs. 500/- या अधिक डोनेशन से सपोर्ट करें ! आपके सहयोग के बिना हम इस लड़ाई को जीत नहीं सकते !

About the Author

ISD Bureau
ISD Bureau
ISD is a premier News portal with a difference.