super woman lilly singh, You Tube से हर साल कमाती है 25 लाख डॉलर!

“पैसा मेरे काम का परिणाम रहा है. काम शुरू करने की वजह पैसा कभी नहीं रहा.” फोर्ब्स की साल 2015 की सूची में सबसे ज़्यादा भुगतान पाने वाली यू-ट्यूब स्टार लिली सिंह ने ये बात कही.

27 साल की लिली सिंह टोरंटो की हैं. सोशल मीडिया पर वे अपने छद्म नाम सुपरवुमेन के नाम से बात करती हैं. सोशल मीडिया पर उनकी लोकप्रियता का आलम ये है कि करीब 1.2 करोड़ लोग उनको फॉलो करते हैं.

बीते साल लिली सिंह की कमाई 25 लाख डॉलर के आसपास रही है. इतनी कमाई उन्होंने अपने दो यू-ट्यूब चैनलों, 27 शहरों वाले वर्ल्ड टूअर और अपनी फ़िल्म सहित दूसरे प्रोजेक्ट्स से की है.

डिज़िटल प्लेटफॉर्म पर डिज़िटल क्रिएटर के तौर उन्होंने अपने करियर की शुरुआत 2010 में की है. शुरुआती दिनों में उनके चैनलों पर भारतीय विरासत और धार्मिक पृष्ठभूमि पर आधारित विषयों की सामाग्री मौजूद होती थी.

उन्होंने एक फ़िल्म बनाई है- ए ट्रिप टू यूनिकॉर्न आईलैंड. उसमें उन्होंने अपने सफ़र की योजना और उसको अपनाने के बारे में बताया है.

वह कहती हैं, “कई बार ऐसा होता है, मैं काफ़ी थकी होती हूं. कैमरे का सामना नहीं करना चाहती हूं लेकिन वहां कैमरा होता है.”

लिली सिंह अपने यू-ट्यूब चैनल्स पर रोजाना वीडियो ब्लॉग पब्लिश करती हैं. हालांकि उनका मानना है कि फ़िल्म निर्माण का काम कहीं ज़्यादा चुनौतीपूर्ण है.

वे बताती हैं, “कई बार भावुक पल आते हैं. अगर कैमरे पर मेरा नियंत्रण होता तो उन पलों को कैप्चर करने के बारे में मैं सोचती भी नहीं.”

इस फ़िल्म के एक हिस्से में ये भी दिखाया गया है कि बेडरूम में अपने वीडियो बनाना उनके लिए अवसाद से उबरने का तरीका था.

वैसे लिली के यू-ट्यूब चैनल्स की पहुंच दुनिया भर में है. अलग अलग हिस्से में फ़ैले लोग उनके शेयर किए गए वीडियो को देखने के लिए उनके चैनल्स पर आते हैं. लिली सप्ताह में दो बार नए वीडियो अपलोड करती हैं.

वे मानती हैं कि यू-ट्यूब वीडियो शेयरिंग वेबसाइट की वजह से ही वे अपनी मानसिक बीमारी से उबर पाईं. वे बताती हैं, “इसके जरिए मैं अपने जीवन के सबसे अंधेरे समय से निकल पाई. यही वजह है कि मैं यू-ट्यूब से सचमुच प्रेम करती हूं.” सुपरवुमेन के तौर पर उनका शुरुआती सार्वजनिक वीडियो था- किस तरह से सिख पगड़ी बांधते हैं.

2013 तक सुपरवुमेन के उनके चरित्र की काफ़ी फ़ैन फोलोइंग हो गई थी. इसमें अमरीका, कनाडा, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया में रहने वाली दक्षिण एशियाई मूल की टीन-एज लड़कियां ज़्यादा थीं. इसके बाद उन्होंने लंदन मेला सहित दुनिया भर में सार्वजनिक आयोजनों में हिस्सा लेना शुरू किया.

लिली के अपलोड किए वीडियो को लाखों में हिट मिलने लगे. इस दौरान उन्होंने ये कोशिश की उनके वीडियो किसी एक ख़ास संस्कृति से जुड़े नहीं नज़र आएं. उन्होंने अपने वीडियो के विषयों को बढ़ाना शुरू किया.

वे कहती हैं, “हालांकि मुझे जल्दी ही एहसास हो गया कि मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि जो भी लोग कमेंट्स कर रहे थे, वे कह रहे थे कि मेरे माता-पिता ऐसे ही हैं, वे अमरीकी हैं या फिर मेरे माता-पिता फारसी हैं या फिर जापानी हैं.”

इसके बावजूद उन्होंने अपनी अपील में बहुत बदलाव नहीं किया है. वे कहती हैं, “मेरे वीडियो में मेरे भारतीय मां-बाप हैं, जिनका अपना भारतीय अंदाज़ हैं. मेरी मां अपने सिर पर शॉल रखती हैं. मैं चाहती हूं कि मेरे वीडियो को दुनिया भर के लोग देखें.”

2014 में उन्होंने फॉसी ट्यूब, कोनोर फ्रांटा और ग्रेस हेलबिग जैसी इंटरनेट की बड़ी कंपनियों से समझौता किया. इन सबके अपने लाखों उपभोक्ता हैं. लिली के वीडियो में जेम्स फ्रांको, सेठ रोगन और बॉलीवुड की माधुरी दीक्षित जैसी कलाकार भी नजर आ चुके हैं.

उन्होंने कहा, “मैं अपने करियर में जहां हूं, उसे काफी पसंद कर रही हूं. हालांकि इसके चलते मेरी व्यस्तता काफी बढ़ गई है. मुझे लंबी यात्राएं करनी होती हैं और होटल के अकेले कमरों में ठहरना होता है. यह मेरे काम का एक नकारात्मक पक्ष है.”

बीते साल वे कैलिफ़ोर्निया रहने आ गईं. वे कहती हैं, “जब मैं टोरंटो में रहती थी, तो अपने दोस्तों में सबसे व्यस्त शख़्स थी. कोई नहीं समझ पाता कि मैं क्या कर रही हूं. लेकिन जबसे लॉस एंजलिस में रहना शुरू किया है, मुझे लगता है कि मैं लोगों के साथ चल रही हूं और इसे मैं पसंद करती हूं.”

उन्होंने अब फ़िल्म और टेलीविजन में भी हाथ आजमाने का फ़ैसला किया है. उन्हें कूनिस की कॉमेडी बैड मॉम्स में एक भूमिका मिल चुकी है. लिली सिंह बताती हैं, “मैं चीनी थिएटर में प्रीमियर के लिए गई तो वहां हर कोई मुझे जान रहा था. वहीं दूसरी ओर मैं एक ऑडिशन के लिए गई, तो मुझे रिजेक्ट कर दिया. उन लोगों ने मेरे वीडियो नहीं देखे थे, और वे मुझे नहीं जानते थे. हॉलीवुड में एकदम शुरुआत से काम करने जैसा है.”

लिली परंपरागत तरीके से हॉलीवुड में अपने पांव जमाने की कोशिशों में जुटी हैं. लेकिन वे अपने यू-ट्यूब चैनल के फ़ायदे भी बताती हैं, “कोई कास्टिंग डायरेक्टर नहीं होता और अपलोड बटन दबाने के लिए कोई प्रॉड्यूसर भी नहीं होता. कोई भी वीडियो अपलोड कर सकता है.”

लिली कहती हैं, “मेरे ख़्याल से यू-ट्यूब और दूसरे डिज़िटल स्पेस ने इंडस्ट्री के सामने अच्छा उदाहरण पेश किया है.”

Courtesy: हारुन रशीद, एंटरटेनमेंट रिपोर्टर, बीबीसी एशियन नेटवर्क, http://www.bbc.com

Web Title: YouTube superwoman lilly singh interview
Keywords: YouTube star| superwoman| lilly singh| interview| lilly singh| superwoman lilly singh| YouTube lilly singh| superwoman married|

Comments

comments



Be the first to comment on "जेएनयू के बाद वामपंथियों ने IIMC को बनाया अपनी अराजकता का शिकार!"

Leave a comment

Your email address will not be published.

*