फेक न्यूज के घोषित प्लेटफार्म से अभिसार शर्मा की फेक न्यूज से शुरुआत !



Awadhesh Mishra
Awadhesh Mishra

फेक न्यूज फैलाने के कारण एबीपी न्यूज चैनल से निकाल बाहर किए गए अभिसार शर्मा ने इस बार फेक न्यूज के लिए घोषित प्लेटफार्म एचडब्ल्यू न्यूज वेबसाइट को पकड़ा है। उसने इस प्लेटफार्म से अपनी शुरुआत ही  फेक न्यूज से की है।

अभिसार शर्मा की फेक न्यूज की चर्चा करने से पहले उस मीडिया पब्लिकेशन एचडब्ल्यू न्यूज नेटवर्क के बारे में बता दूं जो फेक न्यूज के प्लेटफार्म के रूप में पहले से विख्यात है। अव्वल तो एचडब्ल्यू न्यूज वेबसाइट फेक फंडिंग से चल रही है। मालूम हो कि यह वही वेबसाइट है जिसने यौन शोषण के आरोपी विनोद दुआ को पुनर्वासित किया है। यौन शोषण के आरोप के बाद द वायर ने दुआ को निकाल दिया था। एचडब्ल्यू न्यूज नेटवर्क अमेरिका स्थित आईटीवी (ITV Gold) का साझीदार है। आईटीवी गोल्ड पारिख वर्ल्डवाइड मीडिया का एक अनुषांगिक मीडिया हाउस है। पारिख वर्ल्डवाइड मीडिया के संस्थापक सुधीर पारिख हैं। एचडब्लू न्यूज नेटवर्क के संस्थापक तथा मैनेजिंग एडिटर सुजीत नायर हैं। उन्होंने ही मुंबई में इस नेटवर्क की शुरुआत की थी। इससे साफ है उनका यह मीडिया नेटवर्क अमेरिका स्थित पारिख वर्ल्डवाइट मीडिया के पैसे से चलता है।

इस वेबसाइट पर अभिसार शर्मा ने ‘बताइए सरकार’ के नाम से अपने पहले एपिसोड में जिन तीन पुरानी खबरों को उठाया है वह पहले ही फेक साबित हो चुकी है। इसके बाद भी वह बाल की खाल निकालने को उतारू है। उसके पहले एपिसोड यह तो साबित हो ही जाता है कि अब उसके पास फेक न्यूज गढ़ने के लिए कोई नया आइडिया नहीं है। इसलिए उसने पहले की पिट पिटाई खबरों को उठाया है। उसने जो पहली फेक न्यूज उठाई वह है राफेल का। पूरी दुनिया जानती है कि राफेल डील दो सरकारों के बीच का समझौता है। उसमें सरकार ने समझौते के लिए वार्ताकारों का चयन किया था, जिसकी सूची जारी भी की थी। अभिसार शर्मा का कहना है कि वार्ताकारों की सूची में नाम शामिल नहीं होने के बावजूद देश के सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल वार्ता में शामिल हुए। कमाल का तर्क गढ़ा जा रहा है। देश की सुरक्षा की बात हो, सुरक्षा के लिए सौदा तय हो और सुरक्षा सलाहकार से सलाह न हो।

दूसरी खबर उसने अनिल अंबानी से जुड़ी वही घिसी पिटी किसान बीमा फसल योजना चलाई। अभिसार ने उसे राहुल गांधी के झूठे राफेल घोटाले के आरोप से भी बड़ा घोटाला बताया है। राफेल का मामला सुप्रीम कोर्ट से भी साफ होकर बाहर आ गया है, लेकिन अभी तक किसी ने अनिल अंबानी से जुडे़ किसान फसल योजना पर प्राथमिकी तक दर्ज नहीं कराई है, लेकिन अभिसार उसे घोटाला ठहरा दिया है।
अभिसार ने जो तीसरा सबसे बड़ा फेक मामला उठाया है वह सोहराबुद्दीन एनकाउंटर पर आए फैसले से जुड़ा है। मालूम हो कि सीबीआई ने इस मामले में फैसला सुनाते हुए इस मामले के सभी आरोपियों को बरी कर दिया है। अभिसार को यह तक नहीं पता है कि विशेष सीबीआई अदालत ने सोहराबुद्दीन मामले में अपने फैसले में यह कहीं नहीं कहा है कि सोहराबुद्दीन को किसी ने नहीं मारा है। बल्कि मोदी-शाह को फंसाने के लिए जो फेक एनकाउंटर का जो आरोप लगाया गया था वह गलत था। विशेष सीबीआई अदालत ने फेक एनकाउंटर को गलत बताया है। अभिसार शर्मा अगर पुरानी खबर को ही उठाते हो तो उसे भी ठीक से पढ़ लिया करो।

फेक न्यूज के धंधे में उतरे आशुतोष से लेकर अभिसार शर्मा तक की पोल खोली है इंडिया स्पीक्स डेली के संस्थापक संपादक संदीप देव ने। उन्होंने आप के नेता के तौर पर आशुतोष के पुराने स्टैंड से लेकर अभी के स्टैंड की पोल सिलसिलेवार तरीके से खोली है। आप भी उनका यह पूरा विडियो देखिए

URL : abhisar Sharma started spreading fake news from known Fake News’s platform !
Keyword : fakenews maker, vinod dua, abhisar sharma, एचडब्ल्यू न्यूज, फेक न्यूज मेकर


More Posts from The Author





राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें !

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है । देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें ! धन्यवाद !
*मात्र Rs. 500/- या अधिक डोनेशन से सपोर्ट करें ! आपके सहयोग के बिना हम इस लड़ाई को जीत नहीं सकते !