आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के जरिए दुनिया पर छाने की है ‘अलीबाबा’ की तैयारी!



Alibaba Future Products
Manisha Pandey
Manisha Pandey

उभरती प्रौद्योगिकियों की एक श्रृंखला अलीबाबा के भविष्य और वैश्विक खुदरा परिदृश्य को प्रभावित करने के अलीबाबा कंपनी AI का प्रयोग कर रही है। अलीबाबा ग्रुप मूलतः एक चीन का एक बहुराष्ट्रीय ई-कॉमर्स, खुदरा, इंटरनेट, एआई और प्रौद्योगिकी समूह है। जो 1999 में स्थापित हुआ था। जो उपभोक्ता से उपभोक्ता को जोड़ता और साथ ही व्यवसाय प्रदान करता है। वेब पोर्टलों के साथ-साथ इलेक्ट्रॉनिक भुगतान सेवाओं, शॉपिंग सर्च इंजन और क्लाउड कंप्यूटिंग सेवाओं के माध्यम से उपभोक्ता और व्यापार बिक्री सेवाएं प्रदान करता है। यह कई क्षेत्रों में दुनिया भर के कारोबार की एक विविध श्रृंखला का मालिक है और उनका संचालन करता है और फॉर्च्यून द्वारा दुनिया की सबसे प्रशंसित कंपनियों में से एक के रूप में नामित किया गया है।
वर्तमान में अलीबाबा समूह अपने व्यवसाय के चहुंतरफा विकास के लिए एआई अनुसंधान की एक श्रृंखला के साथ आगे बढ़ रहा है। हर जगह और कहीं से भी व्यवसाय करना आसान बनाता जा रहा है।

सबसे पहले आपको बताते हैं की AI क्या है ?

AI का मतलब है ‘atrificial Intelligence’ इसे ‘machine intelligence’ भी कह सकते हैं जिसमें एक मशीन द्वारा ‘कृत्रिम बुद्धि ‘का उपयोग करके उन कार्यों को कराया जाता है अर्थात जो काम मनुष्य कर सकता है उसे मशीन द्वारा करना। अलीबाबा ने चीन के निवासियों की रोजमर्रा की जिंदगी बदल दी है। भविष्य के प्रति सजग नेता जैक मा चाहते हैं कि अलीबाबा दो अरब उपभोक्ताओं तक पहुंच सकें और दुनिया भर में 10 मिलियन व्यवसायों की सहायता कर सकें। ऐसे में व्यापार और सामाज दोनों में क्रांतिकारी परिवर्तन लाने के लिए तकनीकी विकास की श्रंखला में AI का समीकरण सटीक हैं।

अलीबाबा के बारे में चीफ साइंटिस्ट ऑफ़ अलीबाबा Xiaofeng Ren ने बताया कि कैसे एंटी फाइनेंशियल (मोबाइल ऑनलाइन भुगतान मंच) सहित कंपनी की सक्षम सेवाएं, अलीबाबा क्लाउड (सार्वजनिक क्लाउड सेवा) आदि का प्रौद्योगिकी के साथ इन सभी चीजों के पीछे एक सार्वभौमिक रूप देने में Xiaofeng Ren का बड़ा योगदान है। रेन स्वयं कहते हैं कि “AI रणनीतिक नाटक का एक बड़ा हिस्सा है और मैंने नोट किया है कि दुनिया तकनीकी विकास की तीसरी या चौथी लहर में है और ऐसे में एआई समीकरण बिलकुल फिट बैठता है। जो बड़े पैमाने पर व्यापार और समाज दोनों को बदलने के लिए पर्याप्त है।डिजिटल दुनिया और भौतिक दुनिया का मिश्रण जहां हमारे पास आईओटी, रोबोटिक्स, 3 डी प्रिंटिंग, नैनो टेक्नोलॉजीज हैं। ऐसी कई चीजें हैं जो चौथी लहर के विकास को और अधिक शक्ति दे सकती हैं। और मुझे निश्चित रूप से लगता है कि कृत्रिम बुद्धि AI इस क्रांति का एक बड़ा हिस्सा होगा।”

अपने लगातार विकसित होते रूप में अलीबाबा और भी कुछ प्रोजेक्ट पर काम कर रही है जैसे पाकिस्तान की बड़ी कंपनी दराज को ख़रीदा है अलीबाबा लगातार कस्टमर के लिए, अपनी सेवा आकर्षक और नयी बना रही है। जिससे उसके साथ ज़्यादा से ज़्यादा लोग जुड़ सकें उदहारण स्वरूप पाकिस्तान के साथ हुई डील, उसकी दक्षिण भारत में अपनी पकड़ मजबूत करने की ओर एक कदम है। पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, म्यांमार श्रीलंका इसके मजबूत बाजार हैं। यहां अलीबाबा में 30000 विक्रेताओं और 500 ब्रांड्स जुड़ गए हैं।

अभी तक के जारी प्रोजेक्ट में अलीबाबा ने एक ऐसा चैट बॉक्स विकसित किया है जो स्पीच और टेक्स्ट दोनों के लिए काम कर सकता है। इसका बहुआयामी उपयोग हो सकता है जैसे ट्रैन की स्थिति जानने में या फ्लाइट बोर्ड संबंधित जानकारी के लिए। पिछले साल, इस प्रणाली ने लगभग 95 प्रतिशत अनुरोधों को संभाला! 9 मिलियन अनुरोध- और लोग वास्तव में इस बात से खुश थे कि इस प्रणाली ने वास्तविक दुनिया में तनाव परीक्षण के रूप में कैसा प्रदर्शन किया। “।

इसी तरह एक और उदाहरण यह है कि कंपनी ने पिछले चार वर्षों में ‘image search app’ का प्रयोग किया जिसका उपयोग ताओबाओ, चीनी ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट मुख्यालय हांग्जो, चीन और अलीबाबा समूह की सहायक कंपनी द्वारा किया जा रहा है। ताओबाओ को दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स वेबसाइटों में से एक माना जाता है, साथ ही साथ एलेक्सा के अनुसार दुनिया की शीर्ष 10 सबसे अधिक देखी गई वेबसाइटों में से एक माना जाता है। यह तकनीक अपने आप में अनोखी है और जहा वर्णन में हजारों शब्द लिखने होते हैं वह एक तस्वीर द्वारा खोजने में अधिक आसान है ।

अलीबाबा के अनुसार “14 अरब लोग प्रतिदिन इस सुविधा का उपयोग करते हैं, और कंपनी के 10 मिलियन से अधिक उत्पादों का तीन अरब image search किये गए। ” हमारे पास एक तकनीक है और हम इसे परिपक्व बिंदु पर ले जाते हैं, हम वास्तव में इसे हर किसी के लिए उपयोग करने के लिए उपलब्ध कराते हैं।” यह उपभोक्ता के लिए एक सरल तरीके से सामान खोजने का उचित प्रयास है।

अलीबाबा में प्रौद्योगिकी की उपयोगिता केवल ई-कॉमर्स और खुदरा तक सीमित नहीं है, बल्कि खेती, विनिर्माण और रसद सहित सभी क्षेत्रों में भी प्रभाव डालती है। रेन जो की साइंस एंड टेक्नोलॉजी से आते हैं और अलीबाबा के साथ कार्यरत हैं इस बारे में कहते है कि “कृषि मोर्चे पर कंपनी ऐसे सिस्टम विकसित कर रही है जो पशुधन के पोषण प्रबंधन का पता लगाने के लिए पशु आईडी को ट्रैक करने जैसी कई चीजें कर सकती हैं, यह एक दिलचस्प क्षेत्र है।

रसद के मोर्चे पर अलीबाबा ने एक दिन में एक अरब पैकेज शिपिंग के दबाव को कम करने के उद्देश्य से एक्सप्रेस डिलीवरी रोबोट विकसित किए हैं। कुल मिलकर कर अलीबाबा गूगल को लगभग टक्कर देती और दिन प्रतिदिन आगे बढ़ती एक कंपनी है जो अपने बहुआयामी कार्यों के विस्तार से दुनिया मैं अपनी पहुंच को और मज़बूत बना रही है।

URL: Alibaba is preparing to roam the world through Artificial Intelligence!

Keywords: Alibaba, Artificial intelligence, Alibaba founder Jack Ma, Xiaofeng Ren, alibaba future projects, alibaba search engine, AI chips, alibaba online shopping


More Posts from The Author





राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें !

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है । देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें ! धन्यवाद !
*मात्र Rs. 500/- या अधिक डोनेशन से सपोर्ट करें ! आपके सहयोग के बिना हम इस लड़ाई को जीत नहीं सकते !