Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Author: Ashwini Upadhyay

1

100₹ से बड़ा नोट क्यों और किसके लिए चल रहा है?

भारत के 80% नागरिक प्रतिदिन 100₹ से कम खर्च करते हैं और शेष 20% जो 100₹ से अधिक खर्च करते हैं, उनके पास डेबिट कार्ड क्रेडिट कार्ड भीम और अन्य साधन है. 80 करोड़...

1

भाजपा नेता ने कहा, मेरे इन पांच कदमों से भ्रष्टाचार दूर नहीं हुआ तो राजनीति से सन्यास ले लूंगा!

अश्विनी उपाध्याय। कोई भी थाना और ब्लॉक भ्रष्टाचार मुक्त नहीं है. कोई भी तहसील और जिला भ्रष्टाचार मुक्त नहीं है. कोई भी सरकारी विभाग और सरकारी योजना भ्रष्टाचार मुक्त नहीं है. कोई भी डिस्ट्रिक्ट...

0

आर्टिकल 35A भारतीय संविधान और कश्मीर की जनता के साथ सबसे बड़ा धोखा है – अश्विनी उपाध्याय

आर्टिकल 35A को समाप्त करने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल करने वाले भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय का कहना है आर्टिकल 35A केवल भारतीय संविधान ही नहीं बल्कि कश्मीर की...

0

एक आयोग जिसकी रिपोर्ट को लागू किया गया, तो देश की हर समस्या का हो जाएगा समाधान!

जैसा की आप जानते हैं कि संयुक्त राष्ट्र संघ प्रत्येक वर्ष 25 नवंबर को “महिलाओं के विरुध हिंसा उन्मूलन दिवस” मनाता है लेकिन महिलाओं के खिलाफ हिंसा बढ़ती जा रही है। सबसे दुःखद तो...

0

यदि संविधान को तत्काल सौ प्रतिशत लागू नहीं किया तो 20-25 साल के बाद भारत की स्थिति बहुत खतरनाक हो जाएगी; अश्विनी उपाध्याय

साथियो… देश की एकता और अखंडता के लिए देश के संविधान को शत-प्रतिशत लागू करना बहुत जरूरी है, अगर तत्काल संविधान को सौ प्रतिशत लागू नहीं किया तो 20-25 साल के बाद भारत की...

0

इस देश में लोकतंत्र नहीं भीड़तंत्र है! जो संविधान में है, वह लागू नहीं है और जो संविधान में नहीं है वह भीड़ के दबाव में लागू है!

साथियों, हमारे देश में लोकतंत्र की नहीं बल्कि भीड़तंत्र है। यदि भीड़ इकट्ठी हो जाए तो सुप्रीम कोर्ट का फैसला बदल दिया जाता है! अगर भीड़ इकट्ठी न हो तो मूल संविधान को भी...

2

जिस देश में नारियां स्वयं अपने पति का चयन करती थी, वहां बलात्कार जैसा घृणित कार्य आखिर किस मानसिकता के लोग लेकर आए?

रामायण और महाभारत में युद्ध के बावजूद किसी ने स्त्रियों को हाथ नहीं लगाया! वो आखिर कौन लोग हैं जो भारत में बलात्कार ले कर आये! आइये जानते हैं इसका क्रूर इतिहास! आखिर भारत...

0

भारत के सर्वांग एकीकरण के पक्षधर सरदार पटेल पर एक अनुपम कृति!

हिंदी और अंग्रेज़ी के सुप्रतिष्ठित लेखक और अनेक कालजयी उपन्यासों के रचनाकार श्री Amarendra Narayan ने हिंदी में ‘एकता और शक्ति’ और अंग्रेज़ी में यूनिटी एण्ड स्ट्रेन्थ’ नामक उपन्यास लिखकर सरदार वल्लभभाई पटेल को...

0

“तीन-तलाक” से पीड़ित बहनों के लिए जरूरी सूचना!

“तीन-तलाक” से पीड़ित बहनों के लिए जरूरी सूचना! “तीन-तलाक” पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला इस मामले में भी ऐतिहासिक है कि इसने भारतीय संविधान के लागू होने अर्थात 26.01.1950 से अबतक दिये गये सभी...

0

AAP का मतलब है अवैध आमदनी पार्टी !

शुंगलू कमेटी ने जब शीला सरकार पर 75 हजार करोड़ रुपये के भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे थे तब आम आदमी पार्टी के केजरीवाल जी शीला दीक्षित से इस्तीफ़ा मांगते थे! अब उसी शुंगलू...

0

झूठे वादे और खोटी नियत वाली आम आदमी पार्टी ने दिल्ली की जनता को वादों के अलावा कुछ नहीं दिया!

लोक लुभावन वादों का मीठा चूरन खिला कर अरविन्द केजरीवाल दिल्ली के मुख्यमंत्री तो बन गए लेकिन किये गए वादों की लंबी फेहरिस्त के हर विभाग में जनता को केवल मायूसी ही मिली है...

0

धर्मनिरपेक्ष पार्टियां, धर्मान्तरण के खिलाफ कठोर कानून का विरोध क्यों कर रही हैं ?

विदेशी पैसे का इस्तेमाल कर, ईसाई मिशनरियों ने लालच देकर, उत्तर-पूर्वी भारत के राज्यों तथा आन्ध्र प्रदेश, मध्यप्रदेश, बिहार, झारखण्ड और छत्तीसगढ़ में पिछले 70 सालों में गरीब, आदिवासियों का धर्म-परिवर्तन कराया! अगर कमज़ोर...

0

जाति और मजहब की जगह बाबा साहब अंबेडकर के सपनों को पूरा करने के लिए मतदान करें!

इस बार विधानसभा चुनाव में अपना वोट जाति या धर्म के आधार पर नहीं बल्कि बाबा साहब अंबेडकर के सपनों को पूरा करने के लिए भाजपा को दें। क्योंकि जब तक राज्यसभा में भाजपा...

0

समान शिक्षा नीति लागू किए बिना, भारतीय संविधान का कोई मतलब नहीं!

क्या वर्तमान शिक्षा व्यवस्था सबको समान अवसर उपलब्ध कराती है? क्या आप भी सहमत हैं कि बाबा साहब अंबेडकर और दीनदयाल उपाध्याय जी की इच्छानुसार देश में समान शिक्षा (यूनिफार्म एजुकेशन) लागू होना चाहिए?...

0

वोटबैंक की राजनीति नहीं लागू करने देती है सम्पूर्ण संविधान !

देश की एकता-अखंडता और आपसी भाईचारा को मजबूत करने के लिये भारतीय संविधान को शत-प्रतिशत लागू करना जरुरी है। वोटबैंक राजनीति के कारण 25% संविधान अभी तक पेंडिंग है! मैं एक देशभक्त हूँ और...

भारतीय न्यायपालिका के लिए शर्म की बात है मीलॉड! यह आपकी लाचारी है या देश में इंसाफ की बदनसीबी!

हमने तो यही पढ़ा और जाना है कि भारत की सुप्रीम कोर्ट के पास असीम शक्ति है मीलॉड! लेकिन इंसाफ के राज में किसी बुढे के दो जवान बेटों को तेजाब से नहला कर...

कपिल शर्मा कॉमेडी स्टेज पर करो, देश और व्यवस्था के साथ नहीं !

कपिल शर्मा ने टैक्स देकर एहसान चुकाया है देश पर? और ये देश तो सिर्फ नरेंद्र मोदी का है इसलिए वो मोदी से सवाल कर रहे हैं कि दूसरों से रिश्वत लेना तो ठीक...

न्यायपालिका में कॉलेजियम सिस्टम को क्यों बरकार रखना चाहते हैं न्यायाधीश ?

जब आम भारतीय़ चारो तरफ से हताश होता है तो उसे भारत की सबसे बड़ी अदालत से ही आखिरी उम्मीद होती है। आंखों पर पट्टी बांधे न्याय की देवी को देखकर ही तो उम्मीद...

भीगी पलकों से , शुक्रिया! हमारी लाज बचाने के लिए, साक्षी और सिन्धु !

जिस देश में बहुतायत माँ बाप आज भी बेटियों को बोझ समझता हो, उसे अस्पताल में छोड़, चला जाता हो,किसी तरह से शादी कर पिंड छुड़ा लिया जाता हो, एक बेटे के बाद दुसरे...

क्या सुप्रीम कोर्ट से भी कुछ सड़ने की बू आ रही है मी-लॉड!

अब ये ना कीजिए मी-लॉड ! अब भारत के लोकतंत्र के पहरेदार को तो राजनीति का जामा न पहनाइए । लाख बुराई के बाद भी, बस यही खंभा तो बचा है जिसकी साख जनता...

ताजा खबर