Watch ISD Live Streaming Right Now

Author: Sandeep Deo

0

राहुल गांधी से लेकर रवीश कुमार तक, झूठ का वह मनोविज्ञान, जिसकी काट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को तुरंत ढूंढ़ना होगा, अन्यथा देर हो जाएगी!

आजकल कांग्रेस अध्यक्ष और उनके ‘पीडी पत्रकारों’ के झूठ बोलने का तरीका एक-सा हो गया है! और यह एकदम वही तरीका है, जिसे हिटलर के प्रचारमंत्री गोयबल्स ने अपनाया था। यानी- ‘एक झूठ को...

0

बरखा दत्त राहुल गांधी की ‘मेट्रोसेक्सुअल पर्सानालिटी’ पर रिझी हुई है, तो सागरिका घोष उसके प्रति ‘ऑब्जेक्टिव एंग्जाइटी’ की शिकार है!

महिला पत्रकार बरखा दत्ता द्वारा राहुल गांधी के ‘आलिंगन-पोलिटिक्स’ पर लिखे गये लेख का फ्रायडियन मनोविज्ञान के आधार पर विश्लेषण किया गया है। इस लेख को वही लोग समझ सकते हैं, जिन्होंने मेरा कल...

0

क्या ‘कैस्ट्रेशन कांप्लेक्स’ जैसी यौन-ग्रंथि के शिकार हैं राहुल गांधी?

संसद के अंदर 20 July 2018 को राहुल गांधी की हरकत पर यह पूरा लेख फ्रायडीय मनोविज्ञान के आधार पर लिखा गया है। राहुल गांधी और उनकी अनैतिक हरकतों पर बलिहारी जाने वाली लेफ्ट-लिबरल्स...

0

प्रधानमंत्री को अपनी सीट से खड़े होने के लिए कहने वाले राहुल गांधी का अहंकार अभी भी यह स्वीकारने को राजी नहीं कि यह राजतंत्र नहीं, लोकतंत्र है! धन्यवाद PM नरेंद्र मोदी जी, एक अहंकारी उद्दंड को उसकी औकात दिखाने के लिए!

लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर राहुल गांधी के नुक्कड़छाप भाषण के बाद जो हुआ, वह लोकतंत्र को कलंकित करने वाला है! यह तो हमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार व्यक्त करना चाहिए कि उन्होंने...

0

राजदीप सरदेसाई ने फिर से लिखा, हां दाऊद इब्राहिम एक देशभक्त था, उसका अंडरवर्ल्ड गिरोह सेक्यूलर था! बाबरी मसजिद टूटने के कारण वह आतंकवादी बना!

महान् सेक्यूलर पत्रकार राजदीप सरदेसाई दुखी हैं। उनके दुख का कारण कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और दाऊद इब्राहिम हैं। राजदीप सरदेसाई की नजर में राहुल गांधी और दाऊद इब्राहिम, दोनों सेक्यूलर हैं! सेक्यूलर राहुल...

0

सुप्रीम कोर्ट, शासन तंत्र और मीडिया से आग्रह है कि वह गो-वध पर महारानी विक्टोरिया द्वारा वायसराय को लिखे पत्र को पढ़ ले! अब बहुत हुआ हिंदू मन से खिलवाड़!

सुप्रीम कोर्ट, मीडिया, तथाकथित बुद्धिजीवियों ने भारत में भीड़-तंत्र के व्यवहार को गो-हत्या से जोड़ दिया है, लेकिन कभी उसने यह जानने का प्रयास किया कि देश में इसलाम और ईसायत के आगमन के...

0

सुप्रीम कोर्ट के न्यायधीश, देश का सबसे बड़ा अभियुक्त और एक अखबार! ‘लुटियन लॉबिस्टों’ द्वारा मर्यादा को तार-तार करता एक हैरतअंगेज दास्तान!

दिल्ली का लुटियन कल्चर शायद हर तरह की संवैधानिक, कानूनी और नैतिकता की मर्यादा से परे है? खुद को साहसिक पत्रकारिता का पर्याय बताने और ‘रामनाथ गोयनका अवार्ड’ को पत्रकारिता का ऑस्कर बनाने की...

0

नवाजुद्दीन सिद्दिकी ने ज्यों ही कहा, ‘फटटू राजीव गांधी’, त्योंही कांग्रेस और उसके लिबरल गैंग की ‘फ्री थिंकिंग’ का आइडिया तेल लेने चला गया!

Netflix पर एक फिल्म अभी रिलीज हुई है Sacred Games. नवाजुद्दीन सिद्दिकी और सैफ अली खान की इस फिल्म को निर्देशित किया है, लिबरांडों के चहेते अनुराग कश्यप ने। विक्रमचंद्रा के इसी नाम वाले...

0

कोई जब अपने पूजा घर में रखे गुल्लक को फोड़ कर आपको दान देता हो, तो फिर आपकी जिम्मेदारी काफी बढ़ जाती है!

कल सोशल मीडिया के एक मित्र ने #IndiaSpeaksDaily के एक वीडियो की टिप्पणी में लिखा कि सर मैं आपसे मिलना चाहता हूं। मेरी टीम ने इसे देखा और मुझे बताया। मेरा दरवाजा तो रात-दिन...

0

अरुण शौरी पर लिखने से पहले दस बार सोचा, लिखूं या न लिखूं? लिखना पड़ा, आखिर मुझसे बड़ा मेरा देश है!

अरुण शौरी पर लिखने से पहले दस बार सोचा! लिखूं, न लिखूं? अरुण शौरी की विद्वता का मैं बहुत सम्मान करता हूं। और इसलिए नहीं कि मैंने उनकी लेखनी के बारे में कहीं आधा-अधूरा...

0

राम मंदिर को रोकने और कांग्रेस को सत्ता दिलाने के लिए ‘लुटियन लॉबिस्ट’ के रूप में उभरे हैं ये तीन बड़े पत्रकार!

जस्टिस चेलामेश्वर कांग्रेसी लॉबिस्टों के बेहद करीब थे, यह जाते-जाते वह यह साबित कर गये हैं! कांग्रेस के लिए सबसे बड़े ‘लुटियन लॉबिस्ट’ के रूप में पत्रकार शेखर गुप्ता का नाम सामने आ चुका...

0

झूठ ज्यादा दिन नहीं टिकता! स्वामी रामदेव पर लिखी मेरी किताब की बिक्री के बढ़ने और डिस्कवरी चैनल पर बाबाजी की जीवनी के बंद होने से एक बार फिर से यह साबित हुआ!

मुझे याद है! इसी साल फरवरी का महीना था। शायद 12 फरवरी! स्वामी रामदेव की जीवनी को लेकर डिस्कवरी चैनल ने एक धरावाहिक बनाया था-‘स्वामी रामदेव एक संघर्ष।’ धरावाहिक का शीर्षक बिल्कुल मेरी किताब-‘स्वामी...

0

सोनिया गांधी की रहस्यमयी बीमारी का विदेश में रहस्यमी इलाज और मोदी सरकार के मंत्रियों का एम्स में किडनी प्रत्यारोपण! कांग्रेस और भाजपा की कार्यप्रणाली को समझने के लिए यह एक सटीक उदाहरण है!

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अकसर जब भारत से गायब हो जाते हैं तो उनकी पार्टी की ओर से यही कहा जाता है कि वह सोनियाजी की बीमारी का इलाज कराने जा रहे हैं? कभी...

0

नौटंकी वाली की तरह बकैत पांड़े घड़ी-घड़ी नखरे कर रहा है! कल देश के सामने रोजगार की समस्या थी, आज उसकी जान का डर देश की समस्या बन गयी है!

डूबते न्यूज चैनल और कांग्रेस का बोझा ढो रहे ‘पीडी पत्रकारों’ की नौटंकी आजकल पूरे शबाब पर है! नौटंकी वाली भी जितने नखरे नहीं दिखाती, उससे कहीं अधिक TB की बीमारी से जूझ रहे...

0

हिंदी का अक्षर बोध, ‘अ’ अज्ञान से ‘ज्ञ’ ज्ञान तक की यात्रा!

हमारे बच्चों को हम अपनी मातृभाषा हिंदी ठीक से नहीं सिखाते, क्योंकि हम स्वयं ही शुद्ध हिंदी न लिख पाते हैं, और न बोल पाते हैं! संस्कृत के सबसे निकटस्थ हिंदी ही है। इसकी...

0

कर्नाटक चुनाव के बाद सिंघम मोदी के डर से जयकांत सिकरे फरार! एयरपोर्ट पर देखा गया!

मैं रील लाइफ में विलन था! रे मोदिया तूने मुझे रियल लाइफ में विलन बना दिया! बु..हु.हु..हु! हाथ में छाता लिए, बगल में बैग दबाए सफेद दाढ़ी में वह अभी अकेले में बड़बड़ा ही...

0

राजदीप सरदेसाई आज जनता यदि आपको सड़क पर घेर रही है तो इसके लिए आप दोषी हैं, न कि जनता!

बात 2001 की है। मैंने नया-नया दैनिक जागरण ज्वाइन किया था। किसी घटना की रिपोर्टिंग करके लौट रहा था। दिल्ली परिवहन निगम की बस में मेरे बगल में एक लड़का बैठा था। तभी मेरे...

0

आजतक चैनल के मालिक अरुणपुरी आखिर हर चुनाव से पूर्व प्रधानमंत्री मोदी के विरोधियों के साथ गुप्त बैठक क्यों कर रहे हैं?

भरतमुनी का नाट्यशास्त्र आज की पीढ़ी में से कम ने ही पढ़ी होगी। लेकिन शारीरिक भाषा को पढ़ने में एक्सपर्ट एलन पीज ने एक किताब लिखी थी, ‘बॉडी लैंग्वेज’, और संभवतः इसे अधिकांश लोगों...

0

सच तो यह है रजत शर्मा जी कि कठुआ केस में सोशल मीडिया ने नहीं, मेनस्ट्रीम मीडिया ने पत्रकारिता, न्याय के सिद्धांत और भारत-तीनों की हत्या की है! आप सब हत्यारे हैं!

रजत शर्मा अपने इंडिया टीवी में ‘आपकी अदालत’ चलाते हैं! आज से नहीं, करीब 25 सालों से चला रहे हैं। वह जितना बढि़या सवाल पूछते हैं, पूरी पत्रकारिता बिरादरी में उनसे बेहतर कोई सवाल...

0

शुक्र है शेखर गुप्ता कि कर्नाटक में भाजपा की सरकार नहीं है, अन्यथा क्लब से फेंके जाने पर आप पूरी दुनिया में भारत को बदनाम कर चुके होते!

बुरा मान भी लोगे तो क्या करोगे…? कर्नाटक विधानसभा चुनाव-2018 का प्रचार जोरों पर है। बड़े-बड़े लुटियन पत्रकार चुनाव कवरेज के लिए कर्नाटक की यात्रा कर रहे हैं। चुनाव कवरेज क्या कहिए, अपनी-अपनी पार्टी...

ताजा खबर
The Latest