Watch ISD Videos Now Listen to ISD Radio Now

तन्वी सेठ ऊर्फ सादिया अनस का झूठ पकड़ाया, होगा पासपोर्ट रद्द!

कहा भी जाता है शांति का काम ईमान का और हड़बड़ी का काम बेईमान का। जिस प्रकार तन्वी सेठ ऊर्फ सादिया अनस और उसके पति अनस सिद्दीकी पासपोर्ट बनबाने में हड़बड़ी दिखाई और लखनऊ के रतन स्क्वायर स्थित पासपोर्ट अधिकारी विकास मिश्रा ने शांति दिखाई इसी से स्पष्ट हो जाता है कि कौन ईमानदार है और कौन बेईमान? प्रारंभिक जांच में सादिया अनस का झूठ सामने आ चुका है कि उसके दो-दो नाम है और पता भी सही नहीं है, क्योंकि लखनऊ का जो पता उसने दिया है वहां एक साल से भी कम समय रहती है। जबकि पासपोर्ट नियम के मुताबिक वहां उसे कम से कम साल भर रहना चाहिए। ऐसे में अब अधिकारी भी मान रहे हैं कि उसका पासपोर्ट रद्द हो जाएगा।

मुख्य बाते

* तन्वी सेठ ऊर्फ सादिया अनस के नाम में घपला, पते में घपला, शादी में घपला अब तो नीयत में भी घपना सामने आया है

* बड़ी साजिश की आशंका के तहत यूपी पुलिस को सादिया और अनस से गहन पूछताछ करनी चाहिए

* मौके पर मौजूद प्रत्यक्षदर्शी का अगवा करने के प्रयास ने इस मामले को और भी गंभीर बना दिया है

तन्वी सेठ का अव्वल तो नाम में घपला है। दूसरा शादी में घपला है। तीसरा स्थायी पते में घपला है। चौथा और सबसे महत्वपूर्ण बात की नियत में भी घपला है। ऐसे में सवाल तो कई उठते हैं लेकिन सबसे महत्वपूर्ण सवाल है क्षेत्रीय पासपोर्ट अधिकारी पीयूष वर्मा ने हाथों-हाथ किसे पासपोर्ट दिया? तन्वी सेठ को या फिर शादिया अनस को? और किसके दबाव में दिया?

हालांकि तन्वी सेठ ऊर्फ सादिया अनस के पासपोर्ट के मामले में विदेश मंत्रालय ने जितनी तत्परता उसकी मदद करने में दिखाई उतनी ही तत्परता से विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने स्वदेश लौटते ही इस मामले को संज्ञान में लिया, और लखनऊ के आरपीओ पीयूष वर्मा को दिल्ली तलब कर लिया। उधर तन्वी ऊर्फ सादिया का पासपोर्ट सस्पेंड कर पुलिस जांच शुरू हो चुकी है। पुलिस ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि तन्वी ऊर्फ सादिया को पासपोर्ट देने में पासपोर्ट अधिनियम की धज्जियां उड़ाई गईं। उसका पता गलत है और नाम भी उसके दो हैं। तन्वी ऊर्फ सादिया रहती है नोएडा में, पता दिया है लखनऊ का और मूल निवासी है गोंडा की। उसने गोंडा का भी जिक्र नहीं किया है।

Related Article  अमेरिका ने तो कर दिखाया, भारत कब करेगा पाकिस्तान को आतंकी देश घोषित?

तन्वी सेठ ऊर्फ सादिया अनस के पासपोर्ट के मामले में जांच हो रही है,परिणाम भी आने लगे हैं, लेकिन इस मामले को लेकर उठे कुछ सवालों की भी जांच होनी चाहिए। पहला तो ये कि अगर उसने तन्वी नाम से पासपोर्ट चाहिए तो निकाहनामा पर शादिया अनस क्यों है? क्या ये सवाल पूछना पासपोर्ट अधिकारी का गलत था? विवाद नाम पर था तो तन्वी ने उसे मजहब का रंग क्यों दिया? इस विवाद के बाद क्षेत्रीय पासपोर्ट अधिकारी पीयूष वर्मा ने पासपोर्ट देने में इतनी जल्दी क्यों दिखाई? क्या वे शादिया अनस के दिए सारे दस्तावेजों के सही होने पर आश्वस्त थे? अगर आश्वस्त थे तो फिर यह जांच किसलिए? अगर नहीं तो फिर किसके दबाव में पासपोर्ट दिया गया?

अंतिम सवाल यह कि क्या आज के समय में ट्वीट इतना महत्वपूर्ण हो गया कि आप विदेश मंत्री को ट्वीट कर अपना कोई अनाप-शनाप काम करवा लेंगे। क्या पदानुक्रम में पासपोर्ट अधिकारी, रिजनल अधिकारी के बाद सीधे विदेशमंत्री ही आती हैं? क्या सुषमा जी को यह ध्यान नहीं रखना चाहिए?

तन्वी सेठ के साथ पति अनस सिद्दीकी का पासपोर्ट रद, लगेगा पांच हजार रुपया जुर्माना

प्रदेश की राजधानी के बेहद हाई प्रोफाइल पासपोर्ट मामले में अब निर्णायक मोड़ आ गया है। हिंदू पत्नी तन्वी सेठ उर्फ सादिया अनस के साथ ही उनके पति/शौहर मोहम्मद अनस सिद्दीकी का पासपोर्ट भी रद हो गया । पासपोर्ट आवेदन के समय धार्मिक आधार पर विवाद खड़ा करने वाले दंपत्ति पर पांच हजार रुपया जुर्माना भी लगाया गया ।
लखनऊ की तन्वी सेठ उर्फ सादिया अनस के साथ ही उनके पति मोहम्मद अनस सिद्दीकी का पासपोर्ट रद कर दिया गया है। कल क्षेत्रीय पासपोर्ट अधिकारी पीयूष वर्मा के लखनऊ आने पर इनका पासपोर्ट जब्त किया जाएगा। इसके साथ ही गलत सूचना देने तथा हंगामा करने के मामले में इनके ऊपर पांच हजार रुपया का जुर्माना भी लगाया गया है। इनको पीयूष वर्मा एक नोटिस भी देंगे।

Related Article  अटल बिहारी वाजपेयी की कविता: 'मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूँ, लौटकर आऊँगा, कूच से क्यों डरूँ'

तन्वी सेठ उर्फ सादिया अनस ने 19 जून को नया पासपोर्ट के लिए आवेदन किया था जबकि मोहम्मद अनस सिद्दीकी ने अपना पासपोर्ट रिन्यू कराने के लिए जमा किया था। तन्वी सेठ के नया पासपोर्ट के मामले में पुलिस ने इनके ऊपर तीन मामले निकाले हैं।

इनके ऊपर आरोप है कि इन्होंने शादी के बाद नाम बदलने के बाद किसी को भी इसकी सूचना नहीं दी। नोएडा में पिछले 11 वर्ष से निवास करने की जानकारी भी नहीं दी। इसके साथ ही तन्वी ने नोएडा की एक कंपनी में अपने कार्यरत होने की बात भी छुपाई है।

तन्वी सेठ के पासपोर्ट की जांच करने के लिए ससुराल, कैसरबाग पहुंची पुलिस व स्थानीय अभिसूचना इकाई (एलआईयू) को उसके यहां (लखनऊ) रहने से संबंधित कोई दस्तावेज नहीं मिले। दो घंटे की पड़ताल और तन्वी के ससुरालीजनों से बातचीत के बाद टीम खाली हाथ लौट आयी। तन्वी ने पासपोर्ट के आवेदन में जो ब्यौरा दिया है उसके मुताबिक वह गोंडा में जन्मी हैं और कैसरबाग में नाज सिनेमाहॉल के पास चिकवाली गली झाऊलाल बाजार में रहने वाले अनस से उन्होंने शादी की है।

उन्होंने अपने आवेदन में नोएडा में रहने की बात भी लिखी है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के मुताबिक गोंडा से जांच करा ली गई है। पुलिस और एलआईयू की टीम तन्वी की ससुराल गई थी जहां उसके ससुर ए. सिद्दीकी व अन्य सदस्य मिले। टीम ने दो घंटे तक तन्वी के वहां रहने के साक्ष्य व दस्तावेज मांगे, लेकिन ससुरालीजन कुछ भी नहीं दे सके। पासपोर्ट अधिनियम के मुताबिक आवेदक जो पता लिख रहा है, उस पर एक साल रहना जरूरी है। तन्वी ने कैसरबाग स्थित ससुराल का पता दिया है लेकिन वह एक साल से वहां नहीं रह रही हैं। यह आधार उनका पासपोर्ट खारिज करने के लिए पर्याप्त है।

Related Article  उत्तराखंड में जीत के गुमान में कांग्रेस सवालों के घेरे में!

दर्ज हो सकती है प्राथमिकी

तन्वी की तरफ से पासपोर्ट के आवेदन में अगर कोई जानकारी गलत पाई गई, तो उनके खिलाफ पासपोर्ट अधिनियम के तहत प्राथमिकी भी दर्ज की जा सकती है। हालांकि, इस मामले में पुलिस खामोश है। चूंकि यह मामला सोशल मीडिया पर चर्चा बना हुआ है इसलिए पुलिस पासपोर्ट की जांच को लेकर भी कोई टिप्पणी नहीं कर रही।

URL: Big lie in lucknow passport dispute, Tanvi Seth lie caught in police report

Tanvi Seth’s lie caught, passport canceled

Keywords: Sushma Swaraj, Inter-faith Couple, Lucknow, passport officer, Vikas Mishra, passport dispute, Tanvi Seth, passport inquiry, सुषमा स्वराज, पासपोर्ट अधिकारी, पासपोर्ट मामला, तन्वी सेठ पासपोर्ट रद्द, तन्वी सेठ, हिन्दू, मुसलमान,

Join our Telegram Community to ask questions and get latest news updates
आदरणीय पाठकगण,

ज्ञान अनमोल हैं, परंतु उसे आप तक पहुंचाने में लगने वाले समय, शोध, संसाधन और श्रम (S4) का मू्ल्य है। आप मात्र 100₹/माह Subscription Fee देकर इस ज्ञान-यज्ञ में भागीदार बन सकते हैं! धन्यवाद!  

Select Subscription Plan

OR

Make One-time Subscription Payment

Select Subscription Plan

OR

Make One-time Subscription Payment

Other Amount: USD



Bank Details:
KAPOT MEDIA NETWORK LLP
HDFC Current A/C- 07082000002469 & IFSC: HDFC0000708  
Branch: GR.FL, DCM Building 16, Barakhamba Road, New Delhi- 110001
SWIFT CODE (BIC) : HDFCINBB
Paytm/UPI/Google Pay/ पे / Pay Zap/AmazonPay के लिए - 9312665127
WhatsApp के लिए मोबाइल नं- 9540911078

You may also like...

Write a Comment

ताजा खबर