ब्यूरोक्रेसी, न्यायपालिका तथा कांग्रेस के कॉकटेल से चिदंबरम के अंतरिम जमानत की अवधि बढ़ी!

जब भी देश में व्याप्त भ्रष्टाचार पर मोदी सरकार द्वारा करारा प्रहार की बात उठती है लोग पूछ बैठते हैं कि आखिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक भी भ्रष्टाचारी को अभी तक जेल क्यों नहीं भेज पाए। चूंकि उन्हें कांग्रेस के कारनामों के बारे में या तो पता नहीं या फिर जानबूझ कर मोदी सरकार को बदनाम करने के लिए ऐसे सवाल उठाते हैं। पी चिदंबरम को दिल्ली कोर्ट से मिली आंतरिक सुरक्षा इसका एक ताजा दृष्टांत सामने आया है। इस संदर्भ में इंडिया स्पीक्स डेली के प्रमुख संपादक संदीप देव ने ट्वीट कर ऐसे सवाल करने वालों को उत्तर भी दिया है और आईना भी दिखाया है।

मुख्य बिंदु

* भ्रष्टाचार पर पीएम मोदी से सवाल पूछने वालो देख लो किस कदर नौकरशाही से लेकर न्यापालिका तक में कांग्रेसी “नमकहलाल” भरे पड़े हैं

* इधर ईडी ने पी चिदंबरम के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की नहीं कि उधर दिल्ली हाईकोर्ट ने 29 नवंबर तक गिरफ्तारी से आंतरिक सुरक्षा दे दी

ईडी ने जैसे ही आज पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है दिल्ली हाईकोर्ट ने उन्हें गिरफ्तारी से बचने के लिए आंतरिक सुरक्षा 29 नवंबर तक के लिए बढ़ा दी है। इसका मतलब यह हुआ कि अगर ईडी पूछताछ करने के लिए पी चिदंबरम को हिरासत में लेना चाहे तो नहीं ले सकती है।

तभी तो संदीप देव ने अपने ट्वीट में लिखा है कि ब्यूरोक्रेसी से लेकर न्यापालिक तक में कांग्रेसी “नमकहलाल” भरे पड़े हैं। उन्होंन लिखा है कि देश की जनता की सेवा करने की शपथ खाने वाले नौकरशाह अपने कांग्रेस आकाओं के खिलाफ एक तो चार्जशीट दाखिल नहीं करते, अगर किसी मजबूरी में करना ही पड़ जाता है तो अदालत उनकी गिरफ्तारी नहीं होने देती। उन्हें अंतरिम जमानत देना अपना सबसे बड़ा कर्तव्य समझती है।

गौरतलब है कि आज ईडी ने एयरसेल-मैक्सिस मामले में पी चिदंबरम, एस भास्कररमन, एयरसेल टेलिवेंचर लिमिटेड, मलेशिया निवासी अगस्टस राल्फ मार्शल तथा अन्य के खिलाफ पूरक चार्जशीट दाखिल की है। ईडी ने साल 2006 में अवैध तरीके से एफआईपीबी मंजूरी देने के मामले में पीएमएल एक्ट के तहत पी चिदंबरम को आरोपी बनाया है।

लेकिन दिल्ली हाईकोर्ट ने चार्जशीट दाखिल होते ही पी चिदंबरम को अंतरिम जमानत देते हुए गिरफ्तारी से बचाते हुए आंतरिक सुरक्षा दे दी है। ऐसा इसलिए किया गया है ताकि ईडी उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ न कर सके। इसलिए भ्रष्टाचार को जड़मूल से उखाड़ने के प्रति प्रतबद्ध पीएम मोदी से सवाल पूछने वालो थोड़ा कांग्रेस की करतूत के बारे में भी पढ़ लिख लिया करो, फिर सवाल उठाओ।

URL: Bureaucracy, judiciary and Congress cocktails extended the interim protction of Chidambaram

Keywords: INX media case, Chidambaram interim protection from arrest, P Chidambaram, delhi high court, आईएनएक्स मीडिया केस, चिदंबरम गिरफ्तारी से अंतरिम सुरक्षा, पी चिदंबरम, दिल्ली उच्च न्यायालय,

आदरणीय पाठकगण,

News Subscription मॉडल के तहत नीचे दिए खाते में हर महीने (स्वतः याद रखते हुए) नियमित रूप से 100 Rs डाल कर India Speaks Daily के साहसिक, सत्य और राष्ट्र हितैषी पत्रकारिता अभियान का हिस्सा बनें। धन्यवाद!  



Bank Details:
KAPOT MEDIA NETWORK LLP
HDFC Current A/C- 07082000002469 & IFSC: HDFC0000708  
Paytm/UPI/ WhatsApp के लिए मोबाइल नं- 9312665127

ISD Bureau

ISD is a premier News portal with a difference.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

समाचार