Category: धर्म

0

सउदी अरब काबा की ऐतिहासिक मसजिद को स्थानांतरित करने जा रहा है, और यहां बाबर की औलादें बाबरी-बाबरी चिल्ला रही हैं!

अयोध्या के राम मंदिर विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के आए फैसले के बाद कुछ मीम संगठनो ने चिल्लाना शुरू कर दिया है। उनका कहना है कि सुप्रीम कोर्ट ने इसलामी नमाज के लिए मसजिद...

0

चीन में रोम से पोप की नियुक्ति बंद, भारत में कब लगेगी पाबंदी?

चीन और वेटिकन के साथ हुए समझौते पर चीन को बड़ी जीत हाथ लगी है। इस समझौते के तहत चीन ने वेटिकन को झुकाते हुए अपने देश के चर्चों में पादरियों की नियुक्ति अपने...

0

मक्का में इसलाम की स्थापना के पूर्व जैनधर्म का था व्यापक प्रसार

वरिष्ठ जैन समाजसेवी एवं श्रेष्ठि श्री त्रिलोकचंद कोठारी ने भारत एवं विदेशों में जैन धर्म के प्रचार से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्यों को प्रस्तुत आलेख में संकलित किया है। अमेरिका, फिनलैण्ड, सोवियत गणराज्य, चीन एवं...

0

ईसाई रिलीजन का ब्रह्मचर्य अर्थात पशुचर्य!

डॉ. वेदप्रताप वैदिक। जालंधर के केथोलिक बिशप फ्रांको मलक्कल के खिलाफ एक ईसाई साध्वी (नन) की शिकायत पर केरल का उच्च न्यायालय काफी मुस्तैदी दिखा रहा है। केरल की पुलिस सारे मामले की जांच...

0

हरतालिका तीज और हिंदू दर्शन!

आज हमारे यहां हरतालिका तीज है। गांव में मां, और यहां दिल्ली में श्रीमती श्वेता देव और मेरे छोटे भाई की पत्नी मीनू देव, अपने अपने पति के लिए व्रत की हुई हैं। मान्यता...

0

कुंडली मिलान का पारंपरिक तरीका कितना सफल और कितना तार्किक?

कब प्रारम्भ हुआ कुंडली मिलान :- प्राचीन या वैदिक काल में हिन्दू लोग ज्योतिष और एस्ट्रोनॉमी से पूरी तरह परिचित होने के बावजूद विवाह में किसी भी प्रकार के ज्योतिष, गुण मिलान आदि का...

0

योग, ध्यान और देह!

मंदिर से अर्थ है तुम्हारी देह से! क्योंकि, इसी मंदिर में तो परमात्मा विराजमान है। कहां भागे जाते हो? किसे खोजने निकले हो? अनंत से तो खोज रहे हो, मिला नहीं। जरूर कोई बुनियादी...

0

ओशो ने कहा था समलैंगिकता एक यौन विकृति है, जो पश्चिमी समाज की देन है!

भारत के सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिकता को कानूनी कर दिया है। एक अप्राकृतिक और यौन विकृति को कानूनी जामा पहनाने वाले आखिर किस मानसिकता के शिकार हैं। अपने समय से दशकों आगे चलने वाले...

0

यदि शेर अकेला हो तो कुत्ते भी उसका शिकार कर लेते हैं, जरूरी है ‘हिंदू’ एक हों!

स्वामी विवेकानंद के शिकागो में ऐतिहासिक भाषण की 125वीं वर्षगांठ के मौके पर एक बार फिर शिकागो में ही विश्व हिंदू सम्मेलन का आयोजन किया गया। अपने ऐतिहास संबोधन में विवेकानंद ने हिंदू धर्म...

0

‘ध्यान’ अपने मन के प्रति जागरूक होने की साधारण सी प्रक्रिया है- ओशो

ध्यान कया है? ध्यान अपने मन के प्रति जागरूक होने की साधारण सी प्रक्रिया है। मन के साथ लड़ना नहीं, न ही इसे वश में करने का प्रयास। बस वहां होना, चुनाव रहित साक्षी।...

0

जब जर्मन सम्राट के पुत्र ने ओशो का चौकीदार बनने के लिए त्याग दिया था अपना राजपाट!

यह सच्ची दास्तान है, एक राजकुमार ने कभी एक बुद्ध पुरुष की चौकीदारी करने के लिए अपना राजपाट त्याग दिया था। यह लेख आध्यात्मिक जगत में बहुत लोकप्रिय हुआ। ओशो के शिष्यों में एक...

0

कृष्ण ने भूल कर भी किसी स्त्री का अपमान नहीं किया, जबकि महावीर, बुद्ध, जीजस के वचनों में स्त्रियों के अपमान की संभावना है: ओशो

प्रश्न- कृष्ण को इतनी स्त्रियाँ प्रेम क्यों करती थी और कृष्ण भी उन्हें खुल कर प्रेम क्यों करते थे? उत्तर- कृष्ण के प्रति आकर्षण लाखों स्त्रियों का ठीक ऐसा ही है जैसे पहाड़ से...

0

तो क्या समय से पहले होंगे 2019 के चुनाव?

भारतीय हिन्दू ज्योतिष यह भी बताने में सक्षम है कि चुनाव में कौन जीतेगा तो वह यह भी बताने में सक्षम है कि चुनाव कब होंगे? कुछ वरिष्ठ ज्योतिषियों ने 1989 के तथा दो...

0

मुसलिम स्कॉलर ने कहा हमारे यहां गैर इस्लामिक महिलाओं का बलात्कार जायज है!

तो गैर मुसलिम महिलाओं से बलात्कार करने का अधिकार मुसलमानों को अपने मजहब से मिला है। अपने मजहब की अनुमति से मुसलिम मर्द गैर मुसलिम महिलाओं से बलात्कार करते हैं। यह आरोप किसी गैर...

0

पांच हज़ार साल से जलमग्न द्वारका न केवल कृष्ण की वास्तविकता पर मोहर लगाती है बल्कि ये भी बताती है कि सबसे पहले भारतीयों ने समुद्र की छाती चीरकर घर बनाना सीखा था।

प्राचीन काल में दो निर्माण ऐसे हुए, जिनसे भारतीयों की विलक्षण इंजीनियरिंग का पता चलता है। रामसेतु और द्वारिका नगरी के निर्माण की बातों का आधुनिक विज्ञान ने कपोल कल्पना कहकर खूब मज़ाक बनाया...

0

क्या हैं कृष्ण की 16 कलाएं जो उन्हें सम्पूर्ण बनाती है!

राम 12 कलाओं के ज्ञाता थे तो भगवान श्रीकृष्ण सभी 16 कलाओं के ज्ञाता हैं। चंद्रमा की सोलह कलाएं होती हैं। सोलह श्रृंगार के बारे में भी आपने सुना होगा। आखिर ये 16 कलाएं...

0

श्रीकृष्ण और बलराम की कथा से बुना गया है सारे अरबी मजहब का ताना-बाना!

अभिजीत सिंह। महाभारत युद्ध की समाप्ति के पश्चात् जब युधिष्ठिर का राजतिलक हो रहा था तब ये सब देखकर अपने पुत्रों को खो चुकी गांधारी व्यथित थी और उसने अपने कुल के विनाश का...

0

कृष्ण के प्रेम में देह नहीं थी! जिसको समझना केवल योगियों के बस में है।

मधुसूदन व्यास। कृष्ण के व्यक्तित्व की विशेषता है,जो मिला उसे तत्काल छोड़ता गया मिटाता गया। मथुरा मिली छोड़ दी। महाभारत युद्ध में शस्त्र स्पर्श न करने की प्रतिज्ञा तोड़ दी परन्तु बना क्या गीतोपदेशक।...

0

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव पर महारास के जरिए धर्म में नारी की महत्ता को अध्यात्मिक तरीके से स्थापित किया दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान ने!

श्री कृष्ण-एक परिवर्तनकारी युगपुरुष जिनकी क्रांति में भी शांति के छंद थे, विध्वंस में भी महा-सृजन का उद्घोष था। जिन्होंने महाभारत में महान-भारत का चित्र गढ़ा। जिनकी लीलाओं में था अध्यात्म का सरसतम सार...

0

वास्तुशास्त्र- चारों दिशाओं में कहां हो आपका मुख्य द्वार?

किसी भी घर या व्यावसायिक प्रतिष्ठान में यदि सबसे अधिक अच्छा या बुरा प्रभाव किसी का पड़ता है तो वह होता है उसका प्रवेश द्वार। क्योंकि एक दिशा के 8 हिस्से होते हैं। तो...

ताजा खबर