Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Category: सांस्कृतिक राष्ट्रवाद

0

संघ परिवार: यह कम्युनिस्ट मानसिकता नहीं तो क्या?

शंकर शरण। संघ-परिवार Sangh Parivar में ‘संघ-आयु’ मुहावरा चलता है। कि कोई कितने सालों से संघ में है? ऐसी भावना के विचित्र रूप भी दिखते हैं। पर बहुतेरे भले स्वयंसेवकों के लिए संघ ही...

0

संघियों को महात्मा गांधी होने की बीमारी लगी है!

Sandeep Deo. महात्मा गांधी अली बंधुओं के मंच पर जब गये तो हिंदुओं को खूब कोसा। परिणाम, मोपलाओं ने मालाबार में हिंदुओं का विनाश कर दिया। अलि बंधुओं की नजर में गांधी कभी उनके...

0

काश सनातन धर्म का जरा भी ज्ञान होता मोहन भागवत जी को!

आज एक ख्वाजा साहब के पुस्तक विमोचन में संघ प्रमुख मोहन भागवत पर जमकर सेक्यूलर रंग चढ़ा रहा। गौ तस्करों की जगह गौ रक्षकों को नसीहत देने की पुरानी संघी बीमारी इन्होंने भी व्यक्त...

0

भारत की आत्मा मूलतः सौम्य है।

कमलेश कमल। क्या आपने यह ग़ौर किया है कि अत्यधिक सफल व्यक्ति निर्विवाद रूप से अत्यधिक ऊर्जावान् होते हैं और सौम्य होते हैं? ऊर्जावान् हों, पर शांत-प्रशांत न हों, तो बात बनती नहीं है,...

0

हताहत राष्ट्रवाद

अनुपमा चतुर्वेदी I भारतवर्ष ने सदियों अपने अस्तित्व को बचाए रखने के लिए असंख्य युद्ध लड़े हैंI भारत की धरती माँ ने अपने सपूतों का लहू, माथे पर सिन्दूर के समान सुशोभित किया हैI...

2

प्राचीन भारतीय शिक्षा-दर्शन!

कमलेश कमल। हिंदू धर्म सत्य और ऋत का सहज-शाश्वत और सुमिलित गठबंधन है, जो स्वभाव से ही वर्तमानजीवी और कल्याणधर्मी है। ऋत और सत्य का यह गठबंधन दर्शन की रज्जू से होता है, जिसका...

0

राष्ट्रवादी लेखकों, पत्रकारों, संपादकों, कवियों और सोशल मीडिया में एक्टिव सनातनियों से एक आह्वान:

आदित्य जैन। आज संपूर्ण विश्व में अपने – अपने नैरेटिव बनाने की होड़ मची हुई है। आतंकवादी , माओवादी , जेहादी , ईसाई मिशनरी आदि केवल नैरेटिव के दम पर ही सही को ग़लत...

0

त्याग और समर्पण की प्रतिमूर्ति हैं चंपतराय!

राजीव गुप्ता। वर्तमान पीढी समेत नई – नई राजनीतिक पार्टियों के लोगों को वास्तव में यह मालूम ही नही है त्याग और समर्पण की प्रतिमूर्ति का नाम ही चंपतराय है । उत्तर प्रदेश में...

0

आरोप लगाने वालों, पहले चंपत राय जी जैसा जीवन जी कर तो दिखा दो !

1975 इँदिरा गाँधी द्वारा थोपे आपातकाल के समय बिजनौर के धामपुर स्थित आर एस एम डिग्री कॉलेज में एक युवा प्रोफेसर चंपत राय, बच्चों को फिजिक्स पढ़ा रहे थे, तभी उन्हें गिरफ्तार करने वहां...

0

लंपट वामपंथियों, पंच मक्कारों से निपटने का यौगिक तरीका : कृष्ण नीति की नींव और अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का संदेश!

आदित्य जैन। आज जीवन के प्रत्येक पहलुओं पर पंच मक्कारों ने अपना प्रभाव छोड़ रखा है । यदि कोई युवक – युवती कॉलेज जाते हैं तो ये सबसे पहले इनके शिकार बनते हैं। कहानी...

0

21 वीं सदी के भटके हुए चंद्रशेखर आजादों की गाथा : कहीं मैं भी तो नहीं ?

आदित्य जैन। एक चंद्रशेखर आजाद थे , जिन्होंने अपना सर्वस्व देश को समर्पित कर दिया था और आज 21वीं सदी के युवा हैं , जिन्होंने अपना सर्वस्व अपने स्वार्थ और खासकर सोशल मीडिया की...

0

सांस्कृतिक पुनर्जागरण की रणभेरी कौन बजाएगा ? पंच मक्कारों को धूल कौन चटाएगा ? एक सरल रोडमैप !

आदित्य जैन। यदि किसी व्यक्ति ने आचार्य रजनीश जैन अर्थात ओशो जैसे बहुआयामी साधक से दीक्षा ली हो वह सनातनी हिन्दू के सारे कर्तव्यों का पालन करता हो गोरख की नाथ परंपरा से जुड़ा...

0

आम आदमी पार्टी और सपा मिलकर राम मंदिर निर्माण को हर संभव रोकने का कर रहे हैं प्रयास!

उत्तर प्रदेश में राजनीतिक संभावनाओं की तलाश में जुटी आम आदमी पार्टी (AAP) हिंदुओं को विभाजित करने और अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण कार्य में अड़ंगा डालने की कोशिशों में लगी है। पार्टी...

0

मोदी, योगी, आर एस एस, सनातन और भारत : एक विश्लेषण

आदित्य जैन. 2012 में बीजेपी नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में स्वीकार नहीं कर पा रही थी । सुषमा स्वराज , आडवाणी , नितिन गडकरी आदि मोदी का घोर विरोध...

0

उप्र के मछली व्यवसाय पर था मुसलमानों का कब्जा। योगी सरकार में पुनः निषादों को मिली मजबूती!

यूपी में पिछड़ों में यादवों के बाद सबसे बड़ी आबादी निषाद मल्लाह साहनी और बिंदों की है जिनका संबंध किसी ना किसी रुप से पानी और मछली से है.. क्या आपको पता है आज...

0

वो एक अखलाक पर आसमान उठा लेते हैं, तुम असंख्य हिंदुओं की मौत और पलायन पर भी चुप रहते हो!

यह भाजपा की महिला कार्यकर्ता का बंगाल में हाल है। फोटो कल की है। मकुल राय तो डर के मारे ममता के पास चले गये, जो हिंदू भाजपा कार्यकर्ता और वोटर हैं वह आखिर...

0

ये विश्वनाथकारीडोर है

अवधेश दीक्षित| येविश्वनाथकारीडोर है जी हुजूर !पुरातन है,संस्कृति की राजधानी है ,दुनियां का आकर्षण हैयुगों- युगों से भोलेनाथ का रहाअब ये ‘चौकीदार’ जी का शहर हैन ‘निगम’ को पता हैन ‘प्राधिकरण’ को खबर हैअधिकारी...

0

विश्व को गांधी नहीं , महायोगी गोरखनाथ और परशुराम की जरूरत है!

आदित्य जैन। अमेरिकी लेखक, दार्शनिक और इतिहासकार विल ड्‌यूरेन्ट अपनी पुस्तक ” द स्टोरी ऑफ सिविलाइजेशन, वॉल्यूम टू , अवर ओरिएंटल हेरिटेज” में लिखते हैं कि आधुनिक विश्व के छात्र को इससे बढ़कर लज्जा...

0

संघ-सत्ताधारियों ने दशकों से केवल नेहरूवादी काम ही किए हैं!

शंकर शरण। बंगाल की घटनाओं ने फिर दिखाया कि बड़ी कुर्सी पर बैठ जाना बल का पर्याय नहीं होता। राष्ट्रीय या राजनीतिक, दोनों सदंर्भों में बल का पैमाना भिन्न होता है। जिस में संघ-परिवार...

1

बीजेपी एवं संघ की वैचारिक धारणा पर शंकर शरण का कालजयी लेख। आप सब आवश्य पढ़ें।

शंकर शरण। अक्सर सुनने को मिलता है कि कांग्रेस ने जो गड़बड़ियाँ 70 साल में की, उसे ठीक करने में समय तो लगेगा। यह दलील इतने विश्वास से दी जाती है कि हैरत होती...

ताजा खबर
The Latest