Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Category: भारत निर्माण

0

‘विरह-शतक’ से कुछ काव्य-कुसुम

मेरे द्वारा विरचित ‘विरह-शतक’ से कुछ काव्य-कुसुम : कमलेश कमल सौम्य मुखमुद्रा, रूप-कौमुदीअभंग, अकथ शोभा-विस्तारपारिजातगुच्छ की श्री धारणामन-घुँघरुओं की नित झंकार (81) पुष्पभार से नमित वृन्त सीप्रगल्भ-रूपसी सुकोमल बालास्वर्णगात्र की मादक गंध औमधुर कौमार्य...

0

मिशन तिरहुतीपुर डायरी-3

मिशन तिरहुतीपुर डायरी-3 Note: डायरी के पिछले अंक gramyug.com वेबसाइट पर उपलब्ध हैं। विमल कुमार सिंह। बेटा बड़े होकर क्या बनोगे? अप्रैल, 2020 में यह तो तय हो गया था कि अब मैं दिल्ली...

0

ये विश्वनाथकारीडोर है

अवधेश दीक्षित| येविश्वनाथकारीडोर है जी हुजूर !पुरातन है,संस्कृति की राजधानी है ,दुनियां का आकर्षण हैयुगों- युगों से भोलेनाथ का रहाअब ये ‘चौकीदार’ जी का शहर हैन ‘निगम’ को पता हैन ‘प्राधिकरण’ को खबर हैअधिकारी...

0

वोक ऑर्थोडॉक्स लिब्रल्स को चाहिए हॉट संघी वीमेन अपनी हवस के लिए

Sonali Misra. नीचा गिरने की एक सीमा होती है, जब लगता है कि कट्टर वामपंथी इससे नीचे नहीं जा सकते हैं, वह अपनी ही धारणा तोड़ने आ जाते हैं। अब वोक ऑर्थोडॉक्स लिब्रल्स, माने...

0

सेतु : कथ्य से तत्व तक पुस्तक समीक्षा

कमलेश कमल। लघुकथा अपनी प्रवृत्ति में मुख्यतः क्षण-केंद्रित होती है। किसी संवेदनात्मक क्षण को कितनी संकेन्द्रण शक्ति से कोई लघुकथा अभिव्यंजित करती है– यही उसकी सफलता का निकष होता है। लाघव्य मात्र होने से...

0

मास्क के तीन लाभ -“दो गज दूरी मास्क है ज़रूरी”

जब से कोरोना की शुरुआत हुई है लोगों ने अनायास बिना किसी आदेश के फ़ैशन में मास्क पहनना शुरू कर दिया था। मुझे यह बात इसलिये याद है कि 12 मार्च को मैं बेन्गलुरू...

0

अच्छा नहीं, बेहतर बनने की कोशिश करें!

कमलेश कमल। अच्छा होना एक अस्पष्ट अवधारणा है, जबकि बेहतर बनना सुस्पष्ट है और परिणामकेन्द्रित है। अच्छा और बुरा वैसे भी सापेक्षिक शब्द हैं। इसलिए, होना यह चाहिए कि हमारा ध्येय हो कि हम...

0

मिशन तिरहुतीपुर डायरी-2 कैसे ठीक हुई मेरी एक मनोवैज्ञानिक समस्या?

मिशन तिरहुतीपुर डायरी-2 मेरी कौन सी मनोवैज्ञानक समस्या थी और उसको मिशन तिरहुतीपुर ने कैसे ठीक किया, इस पर बात करने के पहले थोड़ा मेरे बारे में जान लें तो अच्छा रहेगा। मैं अर्थात...

2

तलाश

तलाश,पंकज कुमार सिन्हा तू जिंदगी कीतलाश हैमेरी रूह कीतू प्यास हैआज भीतेरे लिएआंखें मेरीउदास है तुझे ढूंढतारहा नजरहर गली डगरहर मोड़ परतुझे दे रहाआवाज दिलतू है कहांहै किसे खबरजब भी कोईआहट हुईदिल में एकहलचल...

0

अपमान और सत्य

अपमान और सत्य अनुपमा चतुर्वेदी तुम हो योगी बाबा अधर्मीकहाँ ज्ञानी हो सकते होभगवा पहन कर घूमो भैयाकहाँ डॉक्टर से लड़ते हो ? चाहे जितने पेपर्स लिख लोचाहे जितने अनुसंधान कर लोऔषधि निर्माण का लाइसेन्स है?वैज्ञानिक...

0

बचपन

बचपन पंकज कुमार सिन्हा क्या दुनिया थी बचपन काखिलौने खेल छूटपन काछुपा छुपी मै छुप जातेकभी चक्के को दौड़ातेघड़ी वो ताड़ के पत्तेचबाए पान लीची केबेपरवाह दौड़ पड़ते थेकभी साढ़ों के हम पीछेकभी बतू...

0

महामारी का कोहराम अभी थमा नहीं ! क्या इसका कोई परमानेन्ट सल्यूशन है ?

दोस्तों, महामारी का कोहराम अभी थमा नहीं है। हमें उतना ही पता चलता है जितना बताया जा रहा है। इस महामारी से बचने का एक ही उपाय है- “मज़बूत इम्यूनिटी”। कोई भी दवा, थिरैपी...

0

कोरोनकाल में शिक्षा का अलख जगा रहे शशि प्रकाश सिंह

कोरोनाकाल में सभी छात्र-छात्राओं की पढ़ाई बाधित हो रही है। ऐसे छात्रों को कोटा में रहने वाले शिक्षाविद् शशि प्रकाश सिंह (एसपीएस सर) सहायता प्रदान करेंगे। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ निवासी शिक्षक शशि...

0

मिशन तिरहुतीपुर डायरी-1

मिशन तिरहुतीपुर डायरी का पहला अंक आपके सामने प्रस्तुत है। मेरा प्रयास रहेगा कि आगे से प्रत्येक रविवार दोपहर 12 बजे तक आपको इस डायरी की सामग्री भेज दी जाए। धन्यवाद सहित आपका अपना…विमल...

0

यदि आपके पास कोई उपाय नहीं है तो अपने बच्चों को तीसरी वेव से बचाने के लिये सिरप प्रिवेन्टिका अपनायें।

यदि आपके पास कोई उपाय नहीं है तो अपने बच्चों को तीसरी वेव से बचाने के लिये सिरप प्रिवेन्टिका अपनायें। यह पूरी तरह से नेचुरल है और कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं है। ध्यान रहे...

1

पतंजलि द्वारा आई. एम. ए. और फार्मा कंपनियों को खुला पत्र!

Chitransh Saxena. पतंजलि योगपीठ के संस्थापक स्वामी रामदेव और इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के मध्य 3 दिनों से चले आ रहे विवाद पर जब कल स्वामी रामदेव ने 25 सवालों का जवाब मांगा तो आज...

0

फार्मा उद्योग की काली दुनिया उतरी आयुर्वेद के विरुद्ध!

जयप्रकाश सिंह। जिन्हें लगता है कि बाबारामदेव और IMA के बीच चल रहा संघर्ष केवल आयुर्वेद बनाम एलोपैथ का संघर्ष है, उन्हें प्रोफेसर पीटर सी गोत्जसे की किताब Deadly Medicine and Organized Crime एक...

0

स्टेरॉयेड की देन – ब्लैक और व्हाइट फ़ंगस!

पिछले कुछ दिनों में मीडिया और मॉडर्न मेडिसिन ने मिलकर ब्लैक और व्हाइट फ़ंगस नामक एक नई महामारी को जन्म दे दिया है। मीडिया मॉन्गरिंग और बेबुनियाद बयानों और इन्टरव्यू की ताक़त ने ब्लैक...

2

आयुर्वेद को हर कदम पर अग्नि परीक्षा देने के लिए कहा जाता है।

अयोध्या प्रसाद। आयुर्वेद को हर कदम पर अग्नि परीक्षा देने के लिए कहा जाता है। लेकिन एलोपैथी को सौ गलतियाँ माफ। ये एक फैक्ट है, या सिर्फ मेरे दिमाग का भ्रम कहना मुश्किल है।...

0

ड्रग माफिया बनाम अल्टीमेट सुपर साइन्स आयुर्वेद!

स्वाभिमानी राकेश। 16वी शताब्दी के गैलीलियो की कहानी लगता है हम 400 साल पहले का जीवन जी रहे हैं इतिहास खुद को दोहरा रहा है- जहां रोमन साम्राज्य था एक देश है जहां से...

ताजा खबर