Category: मेट्रो कल्चर

0

फिल्म समीक्षा : ‘परिवार’ को आईना दिखाती है द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर

द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर देखने के बाद ये सुखद आश्चर्य हो सकता है कि देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह अभिनेता अनुपम खेर को चाय पर बुलाए और कहे ‘वाह अनुपम तूने क्या खूब...

0

वेव ऑफ़ द नेशन’ बन चुकी है ‘मणिकर्णिका’

मणिकर्णिका : द क्वीन ऑफ़ झाँसी 25 जनवरी को प्रदर्शित होने जा रही है। फिल्म के दो प्रोमो देखने के बाद दर्शक आश्वस्त हैं कि उन्हें एक बेहतरीन पीरियड ड्रामा देखने को मिलेगा। उस...

0

सर ये जीत आपकी जीत है, ये पीएमओ आपका टर्फ है!

अनुपम खेर ने एक वार्ता के दौरान कहा ‘मुझे उम्मीद है कि ये फिल्म रिलीज होने के बाद मनमोहन सिंह मुझे कॉल करेंगे और कहेंगे वाह बेटा अनुपम, तूने क्या काम किया है। चल...

0

रणवीर सिंह के कंधों पर सवार है ‘सिम्बा’

नेट पर पता चला कि फिल्म समीक्षक तरण आदर्श को सिम्बा की सकारात्मक समीक्षा के लिए ट्रोल किया गया। ट्रोल करने वाले शाहरुख़ के प्रशंसक थे, जो ‘जीरो’ की निगेटिव रिव्यू के कारण उनसे...

0

शीर्षक: कांग्रेस की तानाशाही! #TheAccidentalPrimeMinister को महाराष्ट्र से मध्यप्रदेश तक रोकने की तैयारी!

कांग्रेस की तानाशाही की आदत कभी गई नहीं है। कांग्रेस ने अब फिल्म निर्माताओं पर अपनी तानाशाही चलानी शुरू कर दी है। महाराष्ट्र यूथ कांग्रेस ने ‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ फिल्म के निर्माता पर...

0

जब मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री पद छोड़ना चाहते थे तब सोनिया गांधी ने उन्हें कैसे चुप कराया, क्या आप जानते हैं ?

वरिष्ठ पत्रकार तथा यूपीए सरकार के दौरान प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के मीडिया सलाहकार रहे संजय बारू की लिखी किताब पर आधारित तथा प्रसिद्ध कलाकार अनुपम खेर अभिनीत फिल्म ‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ का ट्रेलर...

0

पाकिस्तानी कलाकारों पर बोलने का हक नसीर साहब को कौन देता है?

ऐसा नहीं लग रहा कि देशव्यापी विरोध के बावजूद नसीरुद्दीन शाह अपनी बयानबाज़ी रोक देंगे। आज राजदीप सरदेसाई से लाइव बातचीत में उन्होंने एक नया विवाद खड़ा कर दिया। आज उन्होंने कहा कि जब...

0

नसीरुद्दीन शाह के बयान के पीछे वामपंथी ब्रिगेड का दिमाग है

नसीरुद्दीन शाह के ‘डिजाइनर बयान’ के बाद उनको बुरी तरह लताड़ा जा रहा है। अपने एक साथी को घिरता देख फिल्म उद्योग के कुछ लोग नसीर के बचाव में उतर आए हैं। अभिनेता आशुतोष...

0

युवा सितारें शाहरुख़, सलमान और आमिर को सिंहासन से उतार देंगे

ऐसा बीते एक दशक में नहीं हुआ कि तीनों सुपरस्टार खान एक साथ असफल रहे हो। 2018 में दर्शक ने आमिर, सलमान और शाहरुख़ को नकार दिया है। सलमान खान की ‘रेस’, शाहरुख़ खान...

0

अब फिल्म देखना हुआ सस्ता, मूवी टिकट पर जीएसटी कम कर सरकार ने दी राहत

जीएसटी की दरों को कम करने की मांग को लेकर उठी आवाज़ों को सरकार ने गंभीरता से लिया है। सरकार ने मनोरंजन जगत के साथ दर्शकों को भी अच्छी राहत प्रदान करते हुए मूवी...

0

फिल्म समीक्षा: शाहरुख की ‘ज़ीरो’ को सिंगल थिएटर के दर्शक ने नकार दिया

नासा वैज्ञानिक आफिया एक चिम्पांजी को प्रशिक्षण देकर मंगल ग्रह पर जाने के लिए तैयार करती है। चिम्पांजी एन वक्त पर धोखा दे जाता है और आफिया के प्रेम में पागल बउआ सिंह चिम्पांजी...

0

‘एक्वामैन’ ने बॉक्स ऑफिस के समुद्र में लगाई ‘एक हज़ार करोड़ की डुबकी’

वार्नर ब्रदर्स की फिल्म ‘एक्वामैन’ ने प्रदर्शित होने के साथ ही विश्व सिनेमा में अच्छा-खासा तांडव मचाकर रख दिया है। सबसे पहले इसे चीन  उतारा गया, जहाँ एक्वामैन ने पांच दिन में 600 करोड़...

0

चाटुकार समीक्षक मसंद ने केदारनाथ को बॉलीवुड का ‘टाइटेनिक’ बताया

जब ‘केदारनाथ’ के रिव्यू सामने आए तो एक बात पर मुझे बड़ी हैरानी हुई। लगभग सभी समीक्षकों ने ‘सारा अली खान’ के अभिनय की प्रशंसा की। ये असामान्य था क्योंकि नामचीन समीक्षकों की राय...

0

फिल्म समीक्षा : ‘केदारनाथ’ खुद एक हादसा बनकर रह जाती है

किसी फिल्म में कलात्मक वीडियोग्राफी, वीएफएक्स इफेक्ट और आइटम गीत एक ‘महंगी तश्तरी’ की तरह होते हैं। दर्शक को इस महंगी तश्तरी में रखे ‘कंटेंट’ से मतलब होता है। वह तश्तरी की सुंदरता देखना...

0

सेंसर बोर्ड की उदारता ने देश की जनता के हाथ में ‘टाइम बम’ रख दिया है

सेंसर बोर्ड ने ‘केदारनाथ’ को दो मामूली कट्स के बाद प्रदर्शन की इजाज़त दे दी है। पद्मावत और लवयात्री से उपजे विवादों के बावजूद सेंसर बोर्ड ने एक अत्यंत विवादास्पद फिल्म को हरी झंडी...

0

जनसँख्या नियंत्रण कानून के बिना नहीं आएगा देश में रामराज्य, गृहयुद्ध की आशंका!

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह और भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय इन दिनों जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर जनजागरण कर रहे हैं. सोशल मीडिया के बाद अब रैलियों के जरिए यह मुहिम धरातल पर चलाई जा...

0

फिल्म समीक्षा : चिट्टी का अपग्रेडेड वर्जन ‘2.0’ आपको हैरानी में डाल देगा!

पक्षी विज्ञानी ‘पक्षी राजन‘ दुनिया को मोबाइल के खतरों से आगाह करता है लेकिन कोई उसकी बात नहीं सुनता। अपने पक्षियों की मौत से दुखी पक्षी राजन आत्महत्या कर लेता है। उसकी ‘आत्मा का...

0

‘भारत आपके लिए नहीं बदलेगा, आपको भारत के लिए बदलना होगा’

आयुष्यमान खुराना की फिल्म ‘बधाई हो’ अपने छठवें सप्ताह में भी दर्शक बटोर रही है।एक दशक से जारी एक्शन थ्रिलर का ‘फ़िल्मी ट्रेंड’ तेज़ी से बदल रहा है। पारिवारिक और रोमांटिक फिल्मों का दौर...

0

भारत के नारीवाद की ऑक्सीजन ‘पुरुषों से घृणा’ पर आधारित है! फरहान अख्तर जैसे फिल्मकार उसे ही कैश कर रहे हैं!

‘लड़का अपना रूप बदलता है। मेकअप करता है। लड़की का वेश बनाकर बाहर निकलता है। बाहर उसे सारे मर्द वैसे ही मिलते हैं जैसी कल्पना नारीवादी लेखकों या आंदोलनकारियों की होती है। उसे छेड़ा...

0

जनसंख्या नियंत्रित करके ही महिलाओं पर होने वाले शारीरिक और मानसिक अत्याचार को रोकना संभव!

बेटी पैदा होने के बाद महिलाओं पर शारीरीक और मानसिक अत्याचार किया जाता है, जबकि बेटी पैदा होगी या बेटा, यह महिला नहीं बल्कि पुरुष पर निर्भर है। बेटियों को बराबरी का दर्जा मिले,...

समाचार