‘हिंदू टेरर’ के लेखक आरवीएस मणि का दावा कमल नाथ ने कहा था कि लोग राहुल गांधी का ‘मूत्र’ पीने को तैयार हैं!

‘हिंदू टेरर’ किताब लिखने वाले गृह मंत्रालय के पूर्व अवर सचिव आरवीएस मणि ने एक वीडियो जारी कर पी एम मोदी को इशरत जहाँ केस में फंसाने के लिए कांग्रेस द्वारा षड्यंत्र रचने का खुलासा किया है। अपने वीडियो में उन्होंने दावा किया है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमल नाथ ने कहा कि लोग राहुल गांधी का पेशाब तक पीने को तैयार है और आप हैं कि ‘हिन्दू आतंकवाद’  का हौव्वा तक नहीं खड़ा कर सकते।
मुख्य बिंदु

* देश में हिंदुओं को बदनाम करने के लिए  हिंदू टेरर का हौव्वा खड़ा करने में जुड़ा कांग्रेसी नेता कमल नाथ का नाम

* कमलनाथ ने इशरत जहां इनकाउंटर मामले में गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम जोड़ने का दिया था दबाव

हिंदू टेरर का हौव्वा खड़ा करने के संदर्भ में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमल नाथ जब शहरी विकास मंत्रालय में उनसे मिलने आए तो उन्होंने इशरत जहां केश के मामले में गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री तथा देश के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम जोड़ने तथा बाद में ‘हिंदू आतंकवाद’ का नैरेटिव स्थापित करने को कहा था।  मणि ने कहा कि उन पर इशरत जहां को निर्दोष घोषित करने का दबाव डाला गया था ताकि नरेंद्र मोदी का नाम उसके इनकाउंटर के मामले में जोड़ा जा सके।

हिंदुओं को बदनाम करने के लिए कांग्रेस ने ‘हिंदू आतंकवाद ‘ का जो हौव्वा खड़ा किया था उसका धीरे-धीरे खुलासा होने लगा है। गृह मंत्रालय के पूर्व अवर सचिव वीआरएस मणि ने तो इस बारे में एक तथ्यात्मक किताब ‘हिंदू टेरर’ लिखकर इसका खुलासा पहले भी किया था। लेकिन इस बार उन्होंने करीब एक घंटे का वीडिया जारी कर इस मामले में कांग्रेस नेता कमल नाथ के सीधे तौर पर जुड़े होने का आरोप लगाया है। उन्होंने कमल नाथ पर हिंदू टेरर नैरेटिव स्थापित करने का भी आरोप लगाया है ।

सदियों से गांधी परिवार के जूठन पर पलने वाले कुछ कांग्रेसी नेता इतने नीचे गिर चुके हैं कि देश की आम जनता का मान सम्मान भी उनके लिए कोई मायने नहीं रखता। तभी तो कमल नाथ जैसे वरिष्ठ नेता कहते हैं कि लोग राहुल गांधी का मूत्र भी पीने को तैयार हैं। उन्होंने इस वीडियो में विस्तार से बताया है कि किस प्रकार कांग्रेस इशरत जहां इनकाउंटर मामले में मोदी को फंसाने के लिए प्रयासरत थी। इसके अलावा किस हद तक कांग्रेस पार्टी देश में ‘हिंदू आतंकवाद’  का हौव्वा खड़ा करने को तत्पर थी।

 अपने वीडियो में मणि ने यह भी खुलासा किया कि दो लोगों के साथ उनसे मिलने आए कमलनाथ ने उनसे इस मामले में कुछ तथ्य बदलने का अनुरोध किया, लेकिन मणि ने उन्हें मना कर दिया। उनके मना करने के बाद नाराज कमल नाथ ने कहा लोग राहुल गांधी का पेशान पीने के लिए तैयार हैं और आप इतना छोटा काम नहीं कर सकते हो? कमल नाथ के इस बिगड़े अंदाज पर मणि ने कहा कि आप लोगों को पेशाब पीने का टेस्ट पता होगा, इसलिए आपलोग ही पीजिए, मैं नहीं पीता, मैं सिर्फ सच  के साथ खड़ा हूं।
<blockquote class=”twitter-tweet” data-lang=”en”><p lang=”hi” dir=”ltr”><a href=”https://twitter.com/hashtag/KamalNath?src=hash&amp;ref_src=twsrc%5Etfw“>#KamalNath</a> to RVS Mani to Drag Modi in Ishrat Jahan Case : Bahar log Rahul Gandhi ka peshaab peeney ke liye thayar hai, aap itna chota kaam nahi kar sakte ho ?<br><br>People are ready to drink Rahul Gandhi&#39;s <a href=”https://twitter.com/hashtag/Urine?src=hash&amp;ref_src=twsrc%5Etfw“>#Urine</a>, u cant do a small favor <a href=”https://t.co/ZEGjazKKVU>pic.twitter.com/ZEGjazKKVU</a></p>&mdash; Ravi Singh (@RaviDiliya) <a href=”https://twitter.com/RaviDiliya/status/1050041377797677057?ref_src=twsrc%5Etfw“>October 10, 2018</a></blockquote>
<script async src=”https://platform.twitter.com/widgets.js” charset=”utf-8″></script>
URL:  ‘Hindu Terror’ author RVS Mani claims Kamal Nath said ‘people are willing to drink Rahul Gandhi’s urine’

Keywords: RVS Mani, Hindu Terror, PM Modi, Kamal Nath, Rahul Gandhi, Congress dirty politics, आरवीएस मणि, हिंदू आतंकवाद, पीएम मोदी, कमलनाथ, राहुल गांधी, कांग्रेस गंदी राजनीति

आदरणीय पाठकगण,

News Subscription मॉडल के तहत नीचे दिए खाते में हर महीने (स्वतः याद रखते हुए) नियमित रूप से 100 Rs डाल कर India Speaks Daily के साहसिक, सत्य और राष्ट्र हितैषी पत्रकारिता अभियान का हिस्सा बनें। धन्यवाद!  



Bank Details:
KAPOT MEDIA NETWORK LLP
HDFC Current A/C- 07082000002469 & IFSC: HDFC0000708  
Paytm/UPI/ WhatsApp के लिए मोबाइल नं- 9312665127

ISD Bureau

ISD is a premier News portal with a difference.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

समाचार