इंडिया टुडे और आज तक समाज में नफरत फैलाने के लिए दिखाने जा रहे हैं फेक स्टिंग !



ISD Bureau
ISD Bureau

आज का मीडिया न तो नैतिक दायित्व का निर्वाह कर पाता है न ही सच्चाई का, वह तो अपनी टीआरपी की खातिर सामाजिक समरसता को तार-तार समाज में नफरत फैलाने पर आमादा है। तभी तो खुद को खोजी पत्रकारिता करने का दंभ भरने वाला इंडिया टुडे के न्यूज डायरेक्टर राहुल कंवल गोरखनाथ मंदिर के बारे में फेक स्टिंग दिखाने जा रहा है। ऐसा इसलिए कह रहा हूं क्योंकि उसने ट्वीट के माध्यम से जो भी चीजें उजागर की है उसका काला चिट्ठा पहले ही सामने आ चुका है।

राहुल कंवल ने अपने ट्वीट में आज इंडिया टुडे तथा आज तक पर गोरखनाथ मंदिर के बारे में बड़ा खुलासा करने का ऐलान करते हुए लिखा है कि गोरखनाथ मंदिर में दलितों का प्रवेश वर्जित है। उसने सवाल करते हुए लिखा है कि गोरखनाथ मंदिर में दलितों को प्रवेश वर्जित क्यों है?

राहुल कंवल का इससे बड़ा फेक स्टिंग और क्या हो सकता है जब उसे जानकारी ही नहीं है कि गोरखनाथ मंदिर का मुख्य पुजारी कमलनाथ जी स्वयं ही दलित हैं। जब इस प्रकार की झूठी जानकारी रखने वाले राहुल कंवल किस प्रकार का फेक स्टिंग आज परोसेगा इसका सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है।

तभी तो भारतीय होने पर गर्व करने वाले रवि भदोरिया ट्वीट कर राहुल कंवल के इस प्रकार के समाज में वैमनस्य फैलाने वाले ट्वीट तथा फर्जी रिपोर्ट पर संज्ञान लेने की मांग की है। उन्होंने यूपी के मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ तथा यूपी पुलिस से संज्ञान लेने की मांग की है।

 

राहुल कंवल के ट्वीट के साथ उसके आने वाली फर्जी रिपोर्ट की सारी पोल पट्टी प्रसारित होने से पहले खुल गई है। यह पोल कोई और नहीं बल्कि कई वर्षों तक पत्रकारिता कर चुके तथा अभी यूपी भाजपा के प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी ने खोली है। उन्होंने राहुल कंवल से झूठ नहीं फैलाने की बात कहते हुए बताया है कि गोरखनाथ मंदिर के न केवल मुख्य पुजारी दलित हैं, बल्कि मंदिर में भडारे के लिए तैनात कु़ल 12 रसोइयों में 7 दलित हैं। इतना ही नहीं गोरक्षपीठ के देवीपाटन मंदिर के मुख्य पुजारी महंत मिथिलेश जी भी दलित हैं। राहुल कंवल को पता होना चाहिए कि गोरक्षपीठ दशकों से दलितों आदिवासियों के कल्याण हेतु वनवासी कल्याण आश्रम चलाने के साथ सहभोज कराती रही है।

सवाल उठता है कि आखिर इतनी सच्चाई को दरकिनार कर राहुल कंवल जो फेक स्टिंग दिखाने जा रहा है उसका उद्देश्य क्या है? इससे तो साफ है कि ये लोग किसी भी तरह सामाजिक विद्वेष फैलाकर कोई राजनीतिक उद्देश्य हासिल करना चाहते हैं।

प्वाइंट वाइज समझिए

राहुल कंवल का आजतक पर फेक स्टिंग

* राहुल कंवल के आजतक पर प्रसारित होने से पहले फेक स्टिंग की खुली पोल

* गोरखानाथ मंदिर में दलितों केे प्रवेश पर किसी प्रकार का कोई प्रतिबंध नहीं

* गोरखनाथ मंदिर का मुख्य पुजारी ही खुद दलित हैं

* मंदिर में भंडारे और प्रसाद बनाने के लिए तैनात 12 रसोइयों में से 7 दलित है

* यूपी पुलिस प्रशासन से इस प्रकार सामाजकि वैमनस्य फैलाने के प्रयास पर संज्ञान लेने की मांग

 

URL : India Today and aajtak is going to telecast fake sting !
Keyword : India Today’s fake sting, aajtak, rahul kanwan, gorakhnath temple, फेक स्टिंग,


More Posts from The Author





राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें !

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है । देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें ! धन्यवाद !
*मात्र Rs. 500/- या अधिक डोनेशन से सपोर्ट करें ! आपके सहयोग के बिना हम इस लड़ाई को जीत नहीं सकते !

About the Author

ISD Bureau
ISD Bureau
ISD is a premier News portal with a difference.