वोट के लिए अवैध बांग्लादेशियों को नागरिकता और सरकारी नौकरी, दोनों दे रही है कर्नाटक सरकार!



Bangladeshi Migrants (File Photo)
ISD Bureau
ISD Bureau

जहां एक तरफ भारत सरकार देश से रोहिग्याओं को देश से निकालने में जुटी है वहीं कर्नाटक सरकार अवैध रूप से भारत आए बांग्लादेशियों को नागरिकता देने के साथ सरकारी नौकरी देने में जुटी है। कर्नाटक में बांग्लादेशियों की बढ़ती संख्या और उनको भारतीय नागरिकता के साथ सरकारी नौकरी देने का खुलासा खुफिया एजेंसी (आईबी) ने किया है। उन्होंने कर्नाटक सरकार को आगाह करते हुए कहा है कि बेंगलुरु में मेट्रो की सुरक्षा खतरे में है। जबकि कर्नाटक सरकार इसे छोटी बात बताकर मामले को दबाना चाहती है, ताकि पर्दें के पीछे वोट बैंक मजबूत करने का उनका खेल चलता रहे।

दिल्ली समेत पूरे देश भर बांग्लादेशियों की सक्रियता बड़ी है! इसके साथ ही आम नागरिक इनके उत्पातों से परेशान है। इसके बावजूद कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार अवैध बांग्लादेशियों की आव-भगत करने में जुटी है। मीमों के तुष्टिकरण और अपनी वोट बैंक की खातिर कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन देश की सुरक्षा से भी खिलवाड़ करने से बाज नहीं आ रहा है!

मुख्य बिंदु

* बेंगलुरु मेट्रो की सुरक्षा खतरे में, खुफिया एजेंसी आईबी ने कर्नाटक सरकार को किया आगाह

* खुफिया एजेंसियों के मुताबिक आउटसोर्सिंग एजेंसी अवैध बांग्लादेशी नागरिकों को दे रही है नौकरी

हाल ही में दिल्ली में बांग्लादेशियों ने रूपेश बैसोया जैसे व्यापारी की दिनदहाड़े सटकर छाती में गोली मारकर हत्या कर दी थी। रूपेश की गलती बस इतनी थी कि अपने घर के पीछ बांग्लादेशियों द्वारा चलाए जा रहे ड्रग रैकेट की शिकायत पुलिस से की थी।

बांग्लादेश से भागकर आने वाले बांग्लादेशी नागरिक को किसी दूसरे देश में इस प्रकार के गंभीर अपराध करने की हिम्मत कैसे हो सकती है? वे जिस प्रकार ड्रग रैकेट चलाने, हत्या करने और सरेआम डकैती करने जैसे जघन्य अपराधों को अंजाम दे रहा है इससे तो साफ लगता है कि उसके सिर पर किसी का हाथ है।

दिल्ली में दिनदहाड़े एक बांग्लादेशी रूपेश बैसोया की हत्या कर देता है। लेकिन दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की उसके खिलाफ चूं तक नहीं निकली है। आप के निष्कासित विधायक कपिल मिश्रा ने अपने ट्वीट में कहा है कि हरियाणा और यूपी में अदना सी घटना पर प्रेस कान्फ्रेंस करने वाले मुख्यमंत्री केजरीवाल इस घटना पर चुप क्यों हैं? मिश्रा ने रूपेश के घर जाकर उनके परिवारों को ढांढस बंधवाया है।

एक तरफ देश की राजधानी दिल्ली में घुसपैठिए बांग्लादेशी कोहराम मचाया हुआ है वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस और जेडीएस की सरकार कर्नाटक में नागरिकता के साथ सरकारी नौकरी बाग्लादेशियों को फ्री में बांट रही है।

URL: Karnataka Government giving citizenship and government jobs to illegal Bangladeshi

Keywords: karnataka government, bangladeshi refuge, Bangladeshi Migrants, congress, jds, bengluru metro, intelligence agency, Illegal immigration, कर्नाटक सरकार, बांग्लादेश शरणार्थी, कांग्रेस, जेडीएस, बेंगलोर मेट्रो, खुफिया एजेंसी


More Posts from The Author





राष्ट्रवादी पत्रकारिता को सपोर्ट करें !

जिस तेजी से वामपंथी पत्रकारों ने विदेशी व संदिग्ध फंडिंग के जरिए अंग्रेजी-हिंदी में वेब का जाल खड़ा किया है, और बेहद तेजी से झूठ फैलाते जा रहे हैं, उससे मुकाबला करना इतने छोटे-से संसाधन में मुश्किल हो रहा है । देश तोड़ने की साजिशों को बेनकाब और ध्वस्त करने के लिए अपना योगदान दें ! धन्यवाद !
*मात्र Rs. 500/- या अधिक डोनेशन से सपोर्ट करें ! आपके सहयोग के बिना हम इस लड़ाई को जीत नहीं सकते !

About the Author

ISD Bureau
ISD Bureau
ISD is a premier News portal with a difference.