निर्दोष सिस्टर के आगे झुका चर्च, वापस ली बर्खास्तगी!

बलात्कार के आरोपी विशप पर सालों सोता रहा चर्च जब जागा तो एक निर्दोष सिस्टर को ही बर्खास्त कर दिया, लेकिन जल्दी का काम शैतान का वाली कहावत उसे जल्द ही याद आ गई और अंत में एक निर्दोष सिस्टर के सामने झुकने में ही अपनी भलाई समझी। आखिरकार चर्च को उस सिस्टर के खिलाफ सारी कानूनी कार्रवाई वापस लेनी पड़ी।

मालूम हो कि एक नन के साथ 13 बार बलात्कार करने के आरोप जालंधर के बिशप फ्रेंको मुलक्कल के खिलाफ एक सिस्टर ने आवाज क्या उठाई, उसे अपने पद से बर्खास्त कर दिया गया। अपनी बर्खास्तगी से नाराज सिस्टर ने अब चर्च से ही सवाल किया है कि आखिर ये तो बताओ कि किस जुर्म में बर्खास्त किए हो? एक पीड़ित सिस्टर के इस सवाल से चर्च की सामंती सोच का अंदाजा लग जाता है। जो चर्च सालों तक बलात्कार के आरोपी बिशप को बचाता रहा वही चर्च एक निर्दोष सिस्टर की हिफाजत नहीं कर पाया।

सिस्टर लूसी कलप्पूरा आरोपी बिशप के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग को लेकर किये गए विरोध प्रदर्शन में शामिल हुईं थी। उनका कहना है कि एक पीडिता को न्याय दिलाने के पक्ष में आवाज उठाना कतई गलत नहीं है। लेकिन उस विरोध प्रदर्शन में भाग लेने के कारण उन्हें अपने पद से बर्खास्त कर दिया गया है। चर्च के इस कदम से नाराज सिस्टर लूसी ने पूछा है कि बर्खास्त तो कर दिए लेकिन बर्खास्तगी का कारण तो बताओ। आखिर ये तो बताओं कि मेरा दोष क्या है? उन्होंने सवाल उठाते कहा है कि जो चर्च सालों तक बलात्कार के आऱोपी बिशप के खिलाफ सोया रहा उसे मेरे खिलाफ कार्रवाई करने में तनिक भी समय नहीं लगा। उन्होंने पूछा कि जिस नन का 13 बार बलात्कार किया गया हो, उसके पक्ष में आवाज उठाना गलत है? जिस बिशप पर बलात्कार का आरोप लगा हो उसे दंडित करवाने के लिए आवाज उठाना गलत है?

उन्होंने कहा है कि जितनी पीड़ा मुझे अपनी बर्खास्तगी से नहीं हुई उससे कहीं अधिक पीड़ा मुझे बलात्कार के आरोप बिशप के खिलाफ चर्चा द्वारा कोई कार्रवाई नहीं करने से हुई है। एक बिशप एक नन से 13 बार बलात्कार किया लेकिन चर्च ने उसके खिलाफ कभी आवाज नहीं उठाई। लूसी का कहना है कि जब किसी ने आवाज नहीं उठाई तो मुझे लगा कि पीडिता नन का साथ देना चाहिए।

केरल नन बलात्कार मामले से जुडी अन्य खबरों के लिए पढ़ें

चर्च का पादरी रेप करे तो पीड़िता को वेश्या बना दो, यदि कोई हिंदू बाबा लड़की के कंधे पर हाथ भी रखे तो उसे बलात्कारी साबित कर दो! और कितना गिरोगे मक्कारों?

बलात्कार पीड़िता नन गिड़गिड़ाती रही, पोप से गुहार लगाती रही, लेकिन चर्च अट्टहास करता रहा!

ईसाई रिलीजन का ब्रह्मचर्य अर्थात पशुचर्य!

भारत में कानून का राज क्या ‘वेटिकन’ के पोप के निर्देश से चलेगा?

URL: Kerala nun rape case- Church bent in front of innocent Sister, withdrawn dismissal

Keywords: Bishop Franco Mulakkal, Jalandhar Bishop, sister lucy, Kerala church, Kerala nun rape, letter, pinarayi vijayan, sexual abuse case, केरल, केरल नन, जालंधर, नन,बलात्कार, सिस्टर लूसी, बिशप,बिशप फ्रैंको मुलक्कल, रेप

आदरणीय पाठकगण,

News Subscription मॉडल के तहत नीचे दिए खाते में हर महीने (स्वतः याद रखते हुए) नियमित रूप से 100 Rs. या अधिक डाल कर India Speaks Daily के साहसिक, सत्य और राष्ट्र हितैषी पत्रकारिता अभियान का हिस्सा बनें। धन्यवाद!  

For International members, send PayPal payment to [email protected] or click below

Bank Details:
KAPOT MEDIA NETWORK LLP
HDFC Current A/C- 07082000002469 & IFSC: HDFC0000708  
Branch: GR.FL, DCM Building 16, Barakhamba Road, New Delhi- 110001
SWIFT CODE (BIC) : HDFCINBB
Paytm/UPI/ WhatsApp के लिए मोबाइल नं- 9312665127
ISD Bureau

ISD Bureau

ISD is a premier News portal with a difference.

You may also like...

Write a Comment

ताजा खबर