Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

JNU: में बवाल: ‘लव जेहादियों’ के पक्ष में कम्युनिस्टों ने बहाया खून!

लगता है जेएनयू की प्रासंगिकता ही खत्म होती जा रही है। वैचारिक द्वंद्व की जगह अब हिंसा का स्थल बनने लगा है जेएनयू कैंपस। अब वहां किताब, कला और अभिव्यक्ति पर सोच विचार करने की बजाए प्रतिद्वंद्वी विचारों के खिलाफ हिंसा करने का षड्यंत्र रचा जाने लगा है। आज भी वहां हिंसा की घटना हुई है। केरल में love jihad की एक सच्ची घटना पर आधारित शॉर्ट फिल्म ‘in the name of love’ (इन द नेम ऑफ लव) की स्क्रीनिंग चल रही है थी, तभी कुछ वामपंथी विंग के विद्यार्थियों ने वहां तोड़-फोड़ कर जबरदस्त तरीके से हिंसा की। इस हिंसा में कई लोग घायल हो गए हैं। गार्ड सहित काफी लोगों पर जानलेवा हमला किया गया, जिसके कारण कई लोग अस्पताल में भर्ती हैं। वामपंथी छात्र संगठनों ने महिला सुरक्षा गार्ड तक को नहीं बख्शा। वीडियो चीख-चीख कर इसकी गववाही दे रहे हैं। दूसरी ओर इन शहरी नक्सलियों के ‘मीडिया पार्टनर’ चुप्पी साधे बैठे हैं! वामपंथी मीडिया ने इस पूरी खबर को दबा दिया है।

मुख्य बिंदु

* विचार के बजाय क्या हिंसा का षडंयत्रस्थल बन चुका है देश का प्रख्यात विश्वविद्याल जेएनयू
* विवेकानंद मंच द्वारा आयोजित फिल्म स्क्रीनिंग के दौरान लेफ्ट विंग के छात्रों ने किया हमला

JNU में साबरमती हॉस्टल के पास विवेकानंद विचार मंच तथा ग्लोबल इंडियन फाउंडेशन ने इन द नेम ऑफ लव नाम की एक शॉर्ट फिल्म दिखाने का आयोजन किया।। तभी वहां कम्युनिस्ट विंग के छात्रों ने आकर फिल्म देख रहे छात्रों तथा आयोजकों पर हिंसक हमला कर दिया। JNU जैसे संस्थान के परिसर में कम्युनिस्टों की हिंसक करतूत एक सामान्य घटना नहीं है। आरोप है कि अब जेएनयू में कम्युनिस्ट विचार से ताल्लुक रखने वाले छात्र अब पार्टी के गुंडे बन चुके हैं। उन्होंने महज सिनेमा देखने वाले छात्र-छात्राओं पर ही हमला नहीं किया बल्कि अभिव्यक्ति की आजादी पर चोट की है, उन्होंने जेएनयू के लोकतांत्रिक मूल्यों पर आघात किया है।

communist violence in jnu

कहा गया है कि जेएनयू के लेफ्ट विंग के नेतृत्व में भीड़ ने उन लोगों पर तब हमला किया जब शॉर्ट फिल्म दिखाई जा रही थी। गुंडों की भीड़ ने न केवल छात्रों के साथ बल्कि सुरक्षकर्मियों के साथ भी मारपीट कर कई को घायल कर दिया है।

सवाल उठता है कि जो जेएनयू अभिव्यक्ति की आजादी का दुर्ग माना जाता रहा है वहां इस प्रकार की असहिष्णुता क्यों? दरअसल कम्युनिस्ट अब पूरी दुनिया में एक विफल विचारधारा बन गई है। ऐसे में जेएनयू में जीवित कुछ परजीवियों के सहारे अपने अस्तित्व को बचाने का प्रयास चल रहा है!

इंडियन फाउंडेशन के अध्यक्ष नवीन कुमार ने फिल्म के बारे में कहा कि यह फिल्म एक ऐसी सच्ची कहानी पर आधारित है जो केरल में घटित हुई है। उन्होंने कहा कि केरल में धर्मांतरण के तहत हो रही घटनाओं को रेखांकित करने के लिए ही यह फिल्म बनाई गई है ताकि यहां के छात्रों को बताया जा सके कि धर्म के नाम पर वहां कैसा घिनौना खेल चल रहा है।

आज की फिल्म स्क्रीनिंग के दौरान तोड़-फोड़ करने वाले वामपंथियों का सच फिर उजागर हुआ है। जेएनयू कैंपस में नक्सलवादी हिंसा का षड्यंत्र फिर से देश के सामने आया है।

आरोप है कि JNU परिसर में लव जिहाद के सच को उजागर करती फिल्म स्क्रीनिंग के दौरान कम्युनिस्ट छात्रों द्वारा की गई हिंसा में महिला सुरक्षा गार्डों को पहले निशाना बनाया गया। ये आरोप स्वयं महिला सुरक्षा गार्डों ने लगाए हैं। JNU के कम्युनिस्ट विंग के छात्र कितनी नीचता पर उतरेंगे और विश्वविद्यालय को कितना बदनाम करेंगे? गरीबों की लड़ाई लड़ने का दंभ भरने वाले इन कम्युनिस्ट छात्रों ने गरीब महिलाओं के सम्मान को सरेआम तार-तार कर दिया है।

————
INS न्यूज एजेंसी की खबर को newindianexpress.com ने छापा है। कम्युनिस्ट छात्र संगठन और वामपंथी मीडिया झूठ फैलाने में जुट गये हैं कि ऐसी कोई घटना हुई ही नहीं। इसलिए सबूत के तौर पर एजेंसी की खबर को अक्षरश: नीचे दिया जा रहा है :-

Courtesy By IANS

NEW DELHI: Left and right student groups clashed in the Jawaharlal Nehru University (JNU) on Friday during the screening of a documentary on the contentious topic of ‘Love Jihad’.

The screening of “In the name of love”, was organised on Friday evening by ‘Vivekanand Vichar Manch’, a student group affiliated with the Rashtriya Swayamsevak Sangh.

Terming the movie as a communalist propaganda, the JNU Students’ Union was leading a protest against the screening, when it alleged that the students from the RSS-affiliated Akhil Bharatiya Vidyarthi Parishad (ABVP) clashed with them and manhandled the protesters.

“We were leading a peaceful protest when they (ABVP members) clashed with us. They even hurled eggs and stones at us. We didn’t react to their violence at all,” Shubhanshu Singh, the JNUSU Joint Secretary, told IANS while he was at the Vasant Kunj Police Station to lodge a complaint against the violence.

The ABVP, meanwhile, termed the protesters the incitors of violence and accused them of hitting a security guard.

“After having murdered Freedom of Expression at Sabarmati Dhaba, JNUSU President Geeta Kumari helped Mohit Pandey and Aamir escape after intentionally hitting a guard. The guard has been grievously injured,” former Joint Secretary Saurabh Sharma, an ABVP member and one of people named in the complaint by the union, said in a statement.

Talking to IANS earlier, the organisers had said that they had due permission for the screening of the movie and it was anybody’s right to protest.

“The movie is based on the issue of ‘conversion’ in Kerala, of any community whether Hindu or Muslim or Christian, where people are being forcefully converted… JNUSU is protesting against the screening but it is their right to protest,” Srikant Kumar, a member of the organising group, had said. The film, subtitled “Melancholy of God’s own country”, is directed by Sudipto Sen.

URL: Many student injured by communist students in JNU

Keywords: left and right student groups clash in jnu over screening of in the name of love movie, JNU, communist student wing violence in jnu, Vivekananda Vichar Manch JNU, in the name of love, love jihad film screening in JNU, communist students attack, जेएनयू हिंसा, कम्युनिस्ट हिंसा, कम्युनिस्ट विचारधारा, JNU के शहरी नक्सल विरोधी विचार वालों की ‘अभिव्यक्ति की आजादी’ को खत्म करने के लिए हिंसा पर उतर आए हैं.

Join our Telegram Community to ask questions and get latest news updates
आदरणीय पाठकगण,

ज्ञान अनमोल हैं, परंतु उसे आप तक पहुंचाने में लगने वाले समय, शोध, संसाधन और श्रम (S4) का मू्ल्य है। आप मात्र 100₹/माह Subscription Fee देकर इस ज्ञान-यज्ञ में भागीदार बन सकते हैं! धन्यवाद!  

Select Subscription Plan

OR

Make One-time Subscription Payment

Select Subscription Plan

OR

Make One-time Subscription Payment

Other Amount: USD



Bank Details:
KAPOT MEDIA NETWORK LLP
HDFC Current A/C- 07082000002469 & IFSC: HDFC0000708  
Branch: GR.FL, DCM Building 16, Barakhamba Road, New Delhi- 110001
SWIFT CODE (BIC) : HDFCINBB
Paytm/UPI/Google Pay/ पे / Pay Zap/AmazonPay के लिए - 9312665127
WhatsApp के लिए मोबाइल नं- 9540911078

ISD News Network

ISD News Network

ISD is a premier News portal with a difference.

You may also like...

Write a Comment

ताजा खबर
0:00
0:00