दिल्ली के ख्याला में दिनदहाड़े मोहम्मद आजाद ने सुनीता और वीरू की हत्या कर दी लेकिन हिंदुओं के खिलाफ अभियान चलाने में लिप्त मीडिया ने तान ली चादर !

दिल्ली के ख्याला में मोहम्मद आजाद ने पड़ोस में रहने वाले वीरू और उसकी पत्नी सुनीता और बेटे आकाश को चाकू से गोद दिया। इससे जहां वीरू और सुनीता की मौत हो गई वहीं आकाश अभी भी मौत से जूझ रहा है। जब मोहम्मद आजाद ने सुनीता के परिवार पर हमला किया तो मौके पर कई लोग मौजूद थे। लोग वीडियो बनाने में मशगूल रहे लेकिन उसे बचाने के लिए कोई आगे नहीं आया। उसी प्रकार हिंदुओं के खिलाफ अभियान चलाने में लिप्त मीडिया ने भी उस परिवार की सुध नहीं ली। लेकिन बाद में भाजपा के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने घटनास्थल पर जाकर न केवल पूरी जानकारी हांसिल की बल्कि उस परिवार को भी पूरा न्याय दिलाने की बात कही।

सुध क्यों नहीं ली? इसके बारे में मेजर सुरेंद्र पुनिया ने ही ट्वीट कर जाहिर कर दिया है।

पुनिया सुनीता को अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि देते हुए लिखा है कि अगर आज सेक्युलर मीडिया ने चुप्पी सुनीता के कत्ल पर साध रखी है वहीं अगर सुनीता की जगह मरियम होती तो इसकी हालत देखते ही बनती। चूंकि कत्ल होने वाली सुनीता और वीरू है इसलिए आज तो न कोई हैजटैग चल रहा है न ही किसी ने कोई मोमबत्तियां जलाई है। उन्होंने लिखा है सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत मांगने वाले दिल्ली वाले गूँगे,बहरे और अंघे हो गए हैं।

जिस मोहम्मद आजाद ने दिल्ली स्थित ख्याला के एक हिंदू परिवार पर हमला को दोनों पति-पत्नी की हत्या कर दी है, उसका खुलासा उसके परिवार ने ही किया है। परिवार ने बताया है कि वह अपनी नाबालिग बेटी का यौन शोषण करता रहा है।

इतना ही नहीं वह काफी दिनों से आसपास के बच्चों को तंग कर रहा था लेकिन भय की वजह से कोई उसे कुछ कहता नहीं था। पड़ोसियों का कहना है कि वह खेलने वाले बच्चों पर पानी और मिर्ची का पाउडर फेंक दिया करता था। अगर कोई कहता था मरने-मारने पर उतर जाता था. उसके इसी व्यवहार के कारण लोगों को भय होता था।

वीरू की बड़ी बेटी ने अपनी छोटी बहन की बचाई जान

कहा जाता है कि मोहम्मद आजाद के सिर पर इतना खून सवार था कि वह वीरू के अन्य दो बेटियों को भी मार देता अगर उसकी बड़ी बेटी अपनी छोटी बहन को लेकर भाग नहीं जाती। आजदा उसे भी मारन को दौड़ा था लेकिन वीरू की बड़ी बेटी खुशबू, जो अभी गर्भवती है, अपनी छोटी बेटी को लेकर मौके से भाग निकली। वह चिल्लाती रही कि कोई उसके मां-बाप और भाई को बचा ले, लेकिन सब तमाशबीन बनकर देखते रहे।

सबसे ज्यादा तमाशबीन बनकर तो दिल्ली का सेक्युलर मीडिया देखता रहा। उसे तो डर है कि कहीं ऐसे मसले उठाने से उनके आकाओं के दो चार वोट कम न हो जाए। अगर यही हत्या की घटना उलट परिवारों के साथ हुई होती. यानि मारने वाले हिंदू होते तो यही मीडिया आकाश को सिर पर उठा लिया होता। नसीरुद्दीन शाह को इस देश में रहने से डर लगने लगता। लेकिन आज न तो नसीरुद्दीन शाह को ही न ही आमिर खान को देश में रहने पर डर लगता है।

URL : Mohammad, who killed hindu couple, used to sexually abused his daughter !

Keyword : crime in delhi, journalist insensitivity, secular media

आदरणीय पाठकगण,

News Subscription मॉडल के तहत नीचे दिए खाते में हर महीने (स्वतः याद रखते हुए) नियमित रूप से 100 Rs डाल कर India Speaks Daily के साहसिक, सत्य और राष्ट्र हितैषी पत्रकारिता अभियान का हिस्सा बनें। धन्यवाद!  



Bank Details:
KAPOT MEDIA NETWORK LLP
HDFC Current A/C- 07082000002469 & IFSC: HDFC0000708  
Paytm/UPI/ WhatsApp के लिए मोबाइल नं- 9312665127

ISD Bureau

ISD is a premier News portal with a difference.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

समाचार