हिंदुओं के अल्पसंख्यक होने की ओर बढ़ रहा है उड़ीसा! 

राजनीतिक हित साधने के लिए मजहबी साजिश के तहत उड़ीसा के जनसंख्या संतुलन को बिगाड़ने का खेल चल रहा है, वह भी अवैध तरीके से। इसलिए पिछले 50 सालों में जहां इस राज्य में क्रिश्चियों की जनसंख्या 478 प्रतिशत बढ़ी है वहीं मुसलिमों की जनसंख्या में 323 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। जबकि हिंदुओं की जनसंख्या में सबसे कम महज 129 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है। जनसंख्या वृद्धि का यह आंकड़ा प्रदेश में चल रहे षड्यंत्र की ओर संकेत करता है। अगर यही नतीजा रहा तो देश का एक और राज्य हिंदू अल्पसंख्यक हो जाएगा।
मुख्य बिंदु
* नवीन पटनायक सरकार के संरक्षण में अवैध तरीके से उड़ीसा के जनसंख्या संतुलन बिगाड़ रहे क्रिश्चियन और मीम
* 1991 से 2001 के बीच 42,353 लोगों के हुए मतांतरण में महज दो लोगों ने ही कानून का पालन किया

<blockquote class=”twitter-tweet” data-lang=”en”><p lang=”en” dir=”ltr”>Odisha :<br><br>Population of Christians grew by 478 % in Odisha in 50 years.<br><br>Population of Muslims have grown by 323%.<br><br>Population of Hindus have grown by 129.52%.<br><br>A report also says – Of the 42,353 who adopted Christianity between 1991-2001, only two followed law to change religion</p>&mdash; Anshul Saxena (@AskAnshul) <a href=”https://twitter.com/AskAnshul/status/1051449183901765633?ref_src=twsrc%5Etfw“>October 14, 2018</a></blockquote>

<script async src=”https://platform.twitter.com/widgets.js” charset=”utf-8″></script>
गौरतलब है कि देश के आठ राज्यों में पहले ही हिंदू अल्पसंख्यक हो चुके हैं। जनसंख्या के आधार पर अल्पसंख्यक होने के बाद भी हिंदुओं का अल्पसंख्यक होने का दर्जा नहीं दिया गया है। यही षड्यंत्र चल रहा है कि जनसख्या के हिसाब से हिंदुओं को अल्पसंख्यक भी बना दो और उसे अल्पसंख्यक दर्जा भी न लेने दो। तभी तो इस संदर्भ में  सुप्रीम कोर्ट में एक अर्जी दायर कर आठ राज्यों में हिंदुओं को अल्पसंख्यक घोषित करने की मांग की गई है। यही खेल अब उडीसा में खेला जा रहा है। ताकि यहां भी हिंदुओं को अल्पसंख्यक बना दिया जाए।
उड़ीसा में क्रिश्चियन और मुसलिमों का जनसंख्या विस्फोट यही इशारा कर रहा है कि अगर हिंदू आबादी घटने की यही गति रही तो यह राज्य भी जल्द ही हिंदू अल्पसंख्यक राज्य में गिना जाने लगेगा। खास बात है कि यहां मजहब बदलने के लिए किसी नियम कानून को नहीं माना जाता है। और यह तभी संभव है जब राज्य सरकार इसे संरक्षण दे। उड़ीसा में मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की सरकार के संरक्षण में ये सब हो रहा है।

आपको बता दूं कि 1991 से लेकर 2001 के बीच 42,353 लोगों ने अपना मजहब बदला। लेकिन इनमें से महज दो लोगों ने कानून का पालन किया। कहने का मतलब यह है कि सिर्फ दो लोगों ने कानून के अनुरूप अपना मजहब बदला है। बाकि के सारे लोगों कां मतांतरण अवैध यानि गैरकानूनी है। इसके बाद भी राज्य सरकार कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है। इससे साफ है कि इनलोगों को नवीन पटनायक सरकार का संरक्षण प्राप्त है।

URL: orissa moving towards becoming a minority Hindu State

Keywords:  Orrisa, hindu,  hindu minority state, Naveen Patnayak, christian and muslims, orissa demography change,   उड़ीसा, हिंदू, हिंदू अल्पसंख्यक राज्य, नवीन पटनायक, क्रिश्चियन और मुस्लिम, उड़ीसा जनसांख्यिकीय परिवर्तन,

आदरणीय पाठकगण,

News Subscription मॉडल के तहत नीचे दिए खाते में हर महीने (स्वतः याद रखते हुए) नियमित रूप से 100 Rs. या अधिक डाल कर India Speaks Daily के साहसिक, सत्य और राष्ट्र हितैषी पत्रकारिता अभियान का हिस्सा बनें। धन्यवाद!  

For International members, send PayPal payment to [email protected] or click below

Bank Details:
KAPOT MEDIA NETWORK LLP
HDFC Current A/C- 07082000002469 & IFSC: HDFC0000708  
Branch: GR.FL, DCM Building 16, Barakhamba Road, New Delhi- 110001
SWIFT CODE (BIC) : HDFCINBB
Paytm/UPI/ WhatsApp के लिए मोबाइल नं- 9312665127

You may also like...

1 Comment

  1. Avatar Tabu says:

    Odisha highest hindu,after Christian and very very few Muslim , Muslim is minority at Odisha

Write a Comment

ताजा खबर