TEXT OR IMAGE FOR MOBILE HERE

करदाताओं के पैसे ईद और इफ्तार पार्टी में लुटा रहे हैं दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल

देश में सबसे बड़ा सेकुलर होने का ढिंढोरा पीटने वाले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की पोल पट्टी खुल गई है। आरटीआई जांच ने दिल्ली सरकार का राज खोल दिया है। इस आरटीआई जांच से मिली जानकारी के मुताबिक दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल मीमो को तुष्ट करने के लिए कांग्रेस को मात देने में जुट गए हैं। लगता है वह आप (आम आदमी पार्टी) को कांग्रेस से भी बड़ी मुसलमान पार्टी बनाना चाहते हैं। तभी तो दिल्ली में उनकी सरकार हिंदुओं के पर्व चाहे होली हो या दिवाली पर एक फूटी कौड़ी खर्च नहीं करती जबकि मुसलमानों के पर्व ईद और इफ्तार पार्टी में करोड़ रुपये पानी की तरह बहाती है। यह खुलासा आरटीआई जांच के तहत हुई है।

इस मामले में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सोशल मीडिया प्रभारी प्रीती गांधी ने ट्वीट करते हुए इसकी जानकारी दी है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है कि एक आरटीआई जांच से यह खुलासा हुआ है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की सरकार ने जहां मुसलमानों के पर्व ईद और इफ्तार पार्टी के लिए दो करोड़़ रुपये पानी की तरह बहा दिए हैं वहीं होली और दिवाली जैसे हिंदुओं के पर्व पर एक फूटी कौड़ी नहीं खर्च किया है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल को ऐसा करने से पहले यह सोचना चाहिए कि वे जो पैसा खर्च कर रहे हैं वे उनके खुद के नहीं बल्कि दिल्ली के करदाताओं के हैं। इसलिए उन्हें सोच समझकर करदाताओं के पैसे खर्च करने चाहिए।

प्वाइंट वाइज समझिए

दिल्ली के सीएम केजरीवाल की खुली पोल 

* मीमों को तुष्ट करने को कांग्रेस को मात देने में जुटी केजरीवाल सरकार

* दिल्ली के करदाताओं के पैसे ईद और इफ्तार पार्टी पर कर रही है खर्ज

* आरटीआई के तहत मांगी गई जानकारी से दिल्ली सरकार की खुली पोल

* दिल्ली में ईद और इफ्तार पार्टी में खर्ज किया जा चुका है दो करोड़ रुपये

* होली और दिवाली पर फूटी कौड़ी तक खर्च नहीं करती है केजरीवाल सरकार

* मीमों के तुष्टिकरण में जुटे मुख्यमंत्री केजरीवाल खुद को बताते हैं सेकुलर

* हिंदू और मुसलमानों में फर्क करने वाली दिल्ली सरकार की खुल गई पोल

URL : RTI inquiry has revealed pseudo secularism of delhi’s CM Kejariwal !

Keyword : Delhi Government, Aam Aadmi Party, RTI, Cheif Minister, Arvind Kejariwal, ईद और इफ्तार, मुस्लिम तुष्टिकरण

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

समाचार