Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Tagged: धर्म

देवी-देवतावओं की मूर्तियों को फेंकने वाले हिंदुओं, मूर्तियां हमें ही सौंप दो!

हिंदू धर्म के अनुयायी स्वयं अपने देवी-देवताओं के प्रति सम्मान का भाव नहीं रखते तो दूसरा क्यों उनके भगवान को सम्मान की नजर से देखेगा? देवी-देवताओं की मूर्तियों को देखा-देखी स्थापित करना और फिर...

0

18 साल की उम्र में ही बिंदुसार ने बना दिया था सम्राट अशोक को शासक

महान सम्राट अशोक अशोक केवल भारत का नहीं बल्कि सम्पूर्ण संसार के इतिहास का महान शासक था. बौद्ध ग्रंथों और शिलालेखों द्वारा हमें उनके सम्बन्ध में प्रयाप्त ज्ञान प्राप्त होता है.बौद्ध ग्रंथों में लिखा...

सिक्‍ख धर्म और उनके दस गुरु

सिक्ख धर्म में गुरु नानक से लेकर गुरु गोविन्द सिंह तक दस गुरु हुए हैं जिनके नाम क्रमश: गुरु नानक, गुरु अंगद, गुरू अमरदास, गुरू रामदास, गुरू अर्जुनदेव, गुरू हरगोविन्द, गुरू हरराय, गुरू हरकृष्णराय,...

कुरान क्या है? और क्या है इसे लेकर मुसलमानों का विचार?

कुरान क्या है? कुरआन अरबी भाषा का शब्द है। इसका अर्थ है— अक्षरों और शब्दों को सार्थक क्रम के साथ जोड़ कर जबान से अदा करना, जिसे पढ़ना कहते हैं। इस्लाम के मानने वालों...

हिंदू धर्म को जानना है तो पहले वैदिक साहित्य को समझिए!

वेद पूरे भारतीय—यूरोपीय भाषा परिवार के प्राचीनतम साहित्य के रूप में समादृत रहे हैं। इनके रचनाकाल का निर्धारण बड़ी कठिन समस्या रही है। मैक्समूलर ने 1889 में प्रकाशित ‘हिस्ट्री ऑफ एन्शियंट संस्कृत लिटरेचर’ नामक...

बुद्ध का धम्मपद : मन ही चरम सुख या विकार का स्रोत है

धर्मपद धर्म का वह मार्ग है, जिसका बुद्ध के शिष्य अनुसरण करते हैं। बुद्ध ने अपनी शिक्षाओं में मन पर बहुत अधिक जोर दिया है। उन्होंने कहा है, सब प्रवृत्तियों का आरंभ मन से...

0

गो हत्‍या को रोकने के लिए तर्क दीजिए न कि हथियार उठाइए!

“गाय सिर्फ़ एक जानवर है, जैसे कि घोड़ा एक जानवर है. तो फिर उसे गोमाता कैसे कहा जा सकता है.?” जस्टिस मार्केंडेय काटजू साहब पूछ रहे हैं। और वह यह भी पूछ रहे हैं-...

ताजा खबर