Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Tagged: ‬ ‪‎TheTrueIndianHistory

0

पैगंबर मोहम्मद का जब जन्म भी नहीं हुआ था, तब से अमरनाथ गुफा में हो रही है पूजा-अर्चना! इसलिए इस झूठ को नकारिए कि अमरनाथ गुफा की खोज एक मुसलिम ने की थी!

कल बाबा बर्फानी के दर्शन के अमरनाथ यात्रा शुरू हो गयी है। अमरनाथ यात्रा शुरू होते ही फिर से सेक्युलरिज्म के झंडबदारों ने गलत इतिहास की व्याख्या शुरू कर दी है कि इस गुफा...

0

नालंदा विश्वविद्यालय जैसी धरोहर को नष्ट करने वाले बख्तियार खिलजी के नाम पर शहर का नाम क्यों और कब तक?

बख्तियार खिलजी, जिसने नालंदा विश्वविद्यालय को मिटा दिया था, बिहार में उसके नाम पर आज भी एक शहर का नाम जैसे इतिहास को चिढ़ा रहा है! अपने एक हमले में बख्तियार खिलजी ने नालंदा...

2

जिस देश में नारियां स्वयं अपने पति का चयन करती थी, वहां बलात्कार जैसा घृणित कार्य आखिर किस मानसिकता के लोग लेकर आए?

रामायण और महाभारत में युद्ध के बावजूद किसी ने स्त्रियों को हाथ नहीं लगाया! वो आखिर कौन लोग हैं जो भारत में बलात्कार ले कर आये! आइये जानते हैं इसका क्रूर इतिहास! आखिर भारत...

0

जवाहरलाल नेहरू के जन्म के लिए पुत्रेष्टि काम यज्ञ करने वाले पंडित की मृत्यु, कहीं ‘नियोग’ को छिपाने की कोशिश तो नहीं थी?

जवाहरलाल नेहरू को सनातन धर्म से चिढ़ थी, लेकिन उनके जन्म के लिए उनके पिता मोतीलाल नेहरू ने पुत्रेष्टि यज्ञ कराया था। जवाहरलाल नेहरू को सनातन धर्म के कर्मकांड से इतनी चिढ़ थी कि...

0

राम,कृष्ण और शिव भारत में पूर्णता के तीन महान स्वप्न है- राम मनोहर लोहिया

दुनिया के देशो में हिंदुस्तान किंवदंतियों के मामले में सबसे धनी देश है। इतिहास के बड़े व्यक्तित्वों के बारे में चाहे वे बुद्ध हो या अशोक, देश के चौथाई से अधिक लोग अनभिज्ञ है।...

0

इरफ़ान हबीब और नजफ़ हैदर वही काम कर रहे हैं जो मुगल इतिहासकारों ने अपने आकाओं को पहचान दिलाने के लिए किया था!

डॉ.प्रवीण तिवारी। हमारे आज के इतिहासकार जो कर रहे हैं वहीं पुराने इतिहासकारों ने भी किया। इरफान हबीब और नजफ हैदर जैसे इतिहासकारों ने पद्मावती को काल्पनिक किरदार तक कह डाला। यदि इनके नजरिए...

0

वामपंथी इतिहासकारों ने मध्यकालीन भारत के रक्तरंजित इतिहास को अपनी ‘लाल’ स्याही से ढंक दिया!

भारत उसकी संस्कृति और अकूत धन सम्पदा ने वर्षों से विदेशी आक्रांतों को भारत में आक्रमण के लिए प्रेरित किया। यूनान, तुर्क, अरब से आये विदेशी हमलावरों ने न केवल भारत की संस्कृति, वैभव...

0

1962 चीन युद्ध में आर्मी चीफ के मना करने के बाद भी नेहरू और मेनन ने सैकड़ों सैनिकों को युद्ध की आग में झोंक दिया था!

अविनाश वाजपेयी। साठ के दशक में नेहरू के आंकलन के विपरीत चीन सिंगकियांग तिब्बत रोड के पश्चिम में सत्तर मील आगे बढ़ आया और चार हज़ार वर्ग किलो मीटर का क्षेत्र अपने कब्जे में...

0

पंडित मदन मोहन मालवीय ने सनातन धर्म के लिए ठुकरा दिया था गवर्नल जनरल का आग्रह !

जीतेन्द्र कुमार सिंह। कलकत्ता विश्वविद्यालय के उपकुलपति का एक पत्र पाकर पं. मदन मोहन मालवीय असमंजस में पड़ गए। वे बुदबुदाए “अजीब प्रस्ताव रखा है यह तो उन्होंने। क्या कहूँ, क्या लिखूँ?” पास बैठे...

0

क्रिसमस के दिन मनुस्मृति दहन के जरिए आखिर बाबा साहब आंबेडकर क्या कहना चाहते थे?

25 दिसंबर को महामना मदन मोहन मालवीय, अटल बिहारी वाजपेयीज के जन्मदिन और क्रिसमस के अलावा एक और दिवस मनाया जाता है, क्या आप जानते हैं कि वो क्या दिन है? आज ‘मनुस्मृति दहन’...

0

तैमूर लंग क्रुरता में दूसरा चंगेज़ ख़ाँ बनना चाहता था!

जब से सैफ अली खान और करीना कपूर खान ने अपने नवजात शिशु का नाम तैमूर अली खान रखा और उसकी सार्वजनिक घोषणा की है, तब से सोशल मीडिया पर लगातार इसका विरोध हो...

जिन्‍हें आप ‘चमार’ जाति से संबोधित करते हैं, दरअसल वह चंवरवंश के वीर क्षत्रिए थे

आज जिन्‍हें आप ‘चमार’ जाति से संबोधित करते हैं, उनके साथ छूआछूत का व्‍यवहार करते हैं, दरअसल वह वीर चंवरवंश के क्षत्रिए हैं। ‘हिंदू चर्ममारी जाति: एक स्‍वर्णिम गौरवशाली राजवंशीय इतिहास’ पुस्‍तक के लेखक...

जब पंडित नेहरू भारत पर दोबारा से शासन करने के लिए लॉर्ड माउंटबेटन को मनाने गए

14 अगस्‍त की रात को ब्रिटेन ने भारत की सत्‍ता कांग्रेस को हस्‍तांतरित कर दिया था। विभाजन के कारण देश में गृहयुद्ध की स्थिति थी। नेहरू इस पर नियंत्रण स्‍थापित करने में असफल साबित...

मुसलमानों में राष्‍ट्रवाद नहीं होता है: रविंद्रनाथ टैगोर

देश का इतिहास कांग्रेसियों और वामपंथियों ने लिखा और उन्‍होंने टैगोर से जुड़े दो तथ्‍यों को इतिहास की पुस्‍तकों से न केवल हटाया, बल्कि इसकी पूरी व्‍यवस्‍था की कि भविष्‍य की पीढ़ी इसके बारे...

0

जानिए कैसे पटेल को गृहमंत्री पद से हटाने की साजिश रचा करते थे आपातकाल के नायक जयप्रकाश नारायण !

कई लोग कहते हैं तुम उल्‍टा इतिहास बताते हो, मैं उनसे कहता हूं मैं उस इतिहास को बताता हूं, जिसे किसी न किसी कारण से दबाया गया है। तो, जिस जयप्रकाश नारायण उर्फ जेपी...

0

गांधी जी और शास्‍त्री जी में कुछ समानता लेकिन ढेर सारी असमानता

गांधी जी और शास्‍त्री जी में कुछ समानता, लेकिन ढेर सारी असमानता! ‪#‎संदीपदेव‬। आज महात्‍मा गांधी व लालबहादुर शास्‍त्री- दोनों की जयंती है। दोनों में कुछ बातें समान थीं, जैसे- दोनों बेहद सादगी से...

0

मुगल बादशाह औरंगजेब इस देश का पहला बादशाह था, जिसने दस्‍तावेजी रूप से भारत का विभाजन किया!

औरंगजेब पर लगतार लिखने और उसके क्रूर करतूतों को एक विशेषांक पत्रिका निकाल कर जन-जन तक पहुंचाने की मुहिम क्‍या मैंने छेड़ी, मेरे कई मुसलमान मित्र मुझसे नाराज हैं। कुछ इन बॉक्‍स में तो...

ताजा खबर