Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Tagged: Ayurveda

0

पेमेंट लेकर बल्ब और तेल का प्रचार करने वाली डाॅक्टरों की संस्था IMA को आयुर्वेद से है चिढ़! कहीं फार्मा लाॅबी की ओर से तो नहीं मिला स्वामी रामदेव के विरुद्ध इंडोर्समेंट का ठेका?

The world runs after allopathy while the medicine of every disease is hidden in the ancient medical system of India Ayurveda Patanjali has proved this with first ayurvedic evidence based medicine for Corona but...

1

जांच में कैंसर की पुष्टि नहीं हुई, फिर भी उस महिला का एक स्तन निकाल दिया! लूट के अड्डे बन रहे हैं भारत के अस्पताल!

कुछ दिन पहले कैंसर के इलाज का एक अजीब सा केस सामने आया, जिसने मुझे अंदर तक झकझोर दिया। सोचा ! आप सभी को अवगत कराऊँ तो हो सकता है किसी का भला हो...

1

पतंजलि की कोरोनिल पर हुई क्लिनिकल ट्राइल्स की हुई पुष्टि , पतंजलि सी ई ओ ने भी इस संबंध में दी महत्वपूर्ण जानकारी

पतंजलि द्वारा हाल ही में लांच की गयी कोरोनिल दवा की क्लिनिकल ट्राइल्स को लेकर जो विवाद था, अब उस पर से काफी हद तक परदा हट चुका है. राजस्थान के नेशनल इंस्टीट्यूट आंफ...

1

कोरोना वैश्विक महामारी का वैक्सीन कहीं एक विश्व स्तरीय साजिस तो नहीं?- ज़ायरोपैथी

कल तक चीन और आज अमेरिका ने भी अपने नागरिकों पर किसी भी प्रकार के कोरोना वैक्सीन के ट्रायल को नकार दिया है। भारत में जल्द ही वैक्सीन का ट्रायल शुरू होने जा रहा...

0

अंग्रेजी पतलून पहन कर आयुर्वेद को कैसे मानें साहेब।

इस सृष्टि में मानव में पांच तत्व की प्रधानता बताई गई है जैसे  पंचतत्व, पंचामृत, पंचगव्य, या फिर पांच विकार यथा वायु, पित्त, वात, रक्त, कफ मतलब ये की ये पांच चीजें मनुष्य के...

0

करोना का आयुर्वेदिक उपचार बेहद आसान है! इसे अपनाएं! पांच दिन में करोना खत्म!

करोना का आयुर्वेदिक उपचार बेहद आसान है! इसे अपनाएं! पांच दिन में करोना खत्म! कोरोना एक कफ है, पर ये एक सूखा कफ है। हमारे डाक्टर जितनी भी एंटीबायटिक दवाईयां देते हैं वो कफ...

0

आयुर्वेद द्वारा सुझाये गये काढ़े का समझदारी से करें प्रयोग-ज़ायरोपैथी

आयुर्वेद विश्व की प्राचीनतम चिकित्सा प्रणालियों में से एक है। यह विज्ञान, कला और दर्शन का मिश्रण है। ‘आयुर्वेद’ नाम का अर्थ है, ‘जीवन से सम्बन्धित ज्ञान’। आयुर्वेद, भारतीय आयुर्विज्ञान है। इस बात में...

0

दो अंग्रेज सर्जन जो नहीं कर पाए, वह सुश्रुत प्रणालि के जानकार एक भारतीय कुम्हार ने कर दिया! ऐसी थी हमारी चिकित्सा प्रणाली।

सुश्रुत शल्य चिकित्सा पद्धति के प्रख्यात आयुर्वेदाचार्य थे। इन्होंने सुश्रुत संहिता नामक ग्रंथ में शल्य क्रिया का वर्णन किया है। सुश्रुत ने ही प्लास्टिक सर्जरी और मोतियाबिंद की शल्य क्रिया का विकास किया था।...