Tagged: Bollywood

0

करियर की शुरुआत में ही ‘भारत’ जैसी फिल्म का हिस्सा बन जाने पर क्या सोचती है दिशा पटानी

संजीव कुमार झा सुशांत सिंह राजपूत के अपोजिट साल 2016 में फिल्म ’एमएस धोनी : द अनटोल्ड स्टोरी’ से हिंदी फिल्मों में डेब्यू करने वाली दिशा पटानी उससे पहले तेलुगू फिल्म ‘लोफर’ में काम...

0

विवेक अग्निहोत्री 250 करोड़ की लागत से दिखाएंगे हिन्दुओं का सच्चा इतिहास!

महान कूटनीतिज्ञ चाणक्य ने कहा था ‘जो अपना इतिहास भूल जाते हैं, उनका भूगोल बदल जाता है।’ आज ये उक्ति भारत पर ही चरितार्थ हो रही है। स्वतंत्रता के बाद साल दर साल हम...

0

तो क्या ‘कोलार गोल्ड फील्ड’ फिल्म करेगी शाहरुख़ के दरकते स्टारडम को ‘जीरो’?

53 साल के शाहरुख़ के लिए अपना दरकता स्टारडम बचाना कठिन चुनौती साबित हो रहा है। 2015 में ‘दिलवाले’, 2016 में ‘फैन’, 2017 में ‘रईस’ बुरी तरह फ्लॉप होने के बाद शाहरुख़ खान के...

0

‘लव जिहाद’ को बढ़ावा देती केदारनाथ फिल्म को लेकर भड़का विवाद!

जैसी कि मैंने पूर्व में आशंका व्यक्त की थी कि ‘केदारनाथ’ फिल्म के कारण समाज में बहुतेरे विवाद उपजेंगे। सबसे पहले उत्तराखंड के तीर्थ पुरोहितों ने फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की मांग की और...

0

घर के बाहर पड़ा ‘पटाखों का कचरा’ भी ‘ठग्स ऑफ़ हिन्दोस्तान’ से होता है सुंदर!

गुरुवार की दोपहर ‘ठग्स ऑफ़ हिन्दोस्तान’ का पहला शो खत्म होते ही ट्वीटर पर इस फिल्म के नाम से बनने वाले ‘मेमे’ की बाढ़ आ गई। यदि पहले ही शो के बाद ऐसी तीखी...

0

‘फ़िल्म केदारनाथ’ श्री केदारनाथ की त्रासदी को घटिया प्रेम कथा और हनीमून स्पॉट बनाने की कवायद!

फ़िल्म केदारनाथ में श्री केदारनाथ की त्रासदी को घटिया प्रेम कथा और तीर्थ को हनीमून स्पॉट बनाने में कोई कसर नही छोड़ी गई है! एक काल्पनिक कथा पर फिल्म बनाई जाए तो ये सामान्य...

0

अजय देवगन की फिल्म ‘तानाजी द अनसंग वॉरियर’ में शिवाजी का किरदार करेंगे सलमान खान!

राष्ट्रवादी अभिनेता अजय देवगन अपनी फिल्म ‘तानाजी द अनसंग वॉरियर’ में सलमान खान को शिवाजी की भूमिका देने जा रहे हैं। अब राष्ट्रवादी इसका विरोध करेंगे। जो हिंदुत्व के ज्यादा करीब हैं उन्हें ये...

0

अमिताभ एक ऐसी शख्सियत हैं, जिसका कद फिल्मों का कैमरा नहीं संभाल पाता!

सत्तर से अस्सी के दशक में जिन लोगों ने सिनेमा देखा है, वे एक दृश्य ताउम्र नहीं भूल सकते। फिल्म शुरू होने के बाद दर्शक अपने पसंदीदा अभिनेता की पहली झलक की प्रतीक्षा करता...

0

क्राइम और थ्रिल की कॉकटेल है आयुष्मान खुराना की ‘अंधाधुन’!

पति सरप्राइज देने के लिए घर पहुंचा है। घर पर पत्नी अपने प्रेमी के साथ आपत्तिजनक अवस्था में मिली है। भेद बाहर न जाए इसलिए दोनों ने मिलकर पति की हत्या कर डाली है।...

0

नारी सशक्तिकरण के रूप में अश्लीलता फैलाती स्वरा भास्कर पसंद है या युद्ध के मैदान में खड़ी कंगना रनौत, तय कीजिए?

नारी सशक्तिकरण के नाम पर हम नारी का नि:शक्तिकरण ज्यादा देखते हैं। शबरीमाला में रजस्वला का घुसना सशक्तिकरण है। स्वरा भास्कर का हस्तमैथुन की शिक्षा देना सशक्तिकरण है। सशक्तिकरण के नाम पर भद्दा मजाक...

0

फेडरेशन ऑफ़ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लाइज के बैन के बावजूद पाकिस्तानी कलाकारों को मिल रहा है काम!

पाकिस्तान हमारे सैनिकों की बर्बरतापूर्ण ह्त्या कर देता है और हमारी फिल्म इंडस्ट्री उसके भेजे कलाकारों को काम देती है। उसके कमतर गायक हमारे बेहतरीन गायकों को घर बैठाकर इंडस्ट्री के स्टार बन बैठते...

0

सच्चाई का ‘सुई धागा’ लेकर मन से ‘तुरपाई’ करते हैं निर्मल आनंद!

हमें आदत सी हो गई है अपने प्रिय कलाकार को आलीशान कपड़ों में देखने की, न्यूज़ीलैंड और ग्रीस के लोकेशंस के बैकग्राउंड में डिजाइन किये गए गीत देखने की, फिल्म के हीरो को सर्वशक्तिमान...

0

‘कम्प्यूटर ग्राफिक्स’ के भरोसे है ‘ठग्स ऑफ़ हिन्दोस्तान’!

पीरियड फिल्मों को बनाने के हिन्दी फिल्मों के इतिहास को बारीकी से देखा जाए तो चुनिंदा फ़िल्में ऐसी हैं जो दर्शक को किसी विशेष कालखंड में होने का आभास करवा सकी हैं। पीरियड फिल्म...

0

भावनाओं के उफान में बहा देती है ‘बत्ती गुल मीटर चालू’!

पहाड़ी प्रदेश उत्तराखंड में बिजली की कमी कई दशकों से एक बड़ी समस्या बनी हुई है। बिजली के बिना किसी प्रदेश का विकास असम्भव है। ‘बत्ती गुल मीटर चालू’ उत्तराखंड समेत देश के उन...

0

प्रेम की कोमलता को वासना के प्रहारों से लहूलुहान किया है अनुराग कश्यप ने अपनी फिल्म मनमर्जियां में!

निर्देशक अनुराग कश्यप धूसर रंगों से अपना सिनेमाई संसार रचते हैं। ‘मनमर्जियां’ उनका रचा गया एक ‘धूसर प्रेम त्रिकोण’ है। बोल्ड पत्नी, दीवाना प्रेमी और अत्यंत परोपकारी पति। हर त्रिकोणीय प्रेमकथा का परिणाम पहले...

0

आतिफ असलम, लता जी का गीत रीमिक्स तो कर लिया पर उनके जैसा भाव कहाँ से लाओगे?

लता मंगेशकर का स्वर सदा से ही अलौकिक रहा है। उसमे न कुछ बढ़ा है और न कुछ घटा है। ये ईश्वर प्रदत्त आवाज़ आठ दशकों से उन्हें भारत की ‘स्वर कोकिला’ बनाए हुए...

0

हॉरर के साथ कॉमेडी की लजीज खिचड़ी है ‘स्त्री’!

अमूमन देखा गया है कि हॉरर जॉनर की फिल्मे बहुत कम सफल हो पाती है। ऐसी अधिकांश फिल्मों का अंत दुखद ही होता है। सुखांत वाली भूतिया फिल्मों के बॉक्स ऑफिस पर चलने की...

0

प्रधानमंत्री मोदी के ‘मेक इन इंडिया’ को समर्पित है फिल्म ‘सुई-धागा’!

मौजी एक सेठ के यहाँ दर्जी का काम करता है। एक दिन सेठ उसे धक्के मारकर नौकरी से निकाल देता है। ठीक वैसे ही जैसे अंग्रेज़ों ने हमारे फलते-फूलते हथकरघा उद्योग को लात मारकर...

0

‘गोल्ड’ फिल्म समीक्षा- सिक्कों की खनखनाहट सुनने के लिए ऐतिहासिक तथ्यों के साथ खिलवाड़ जारी है।

यदि कोई मुझसे पूछे कि ‘गोल्ड’ फिल्म का हासिल क्या है, तो मैं बेझिझक ‘सनी कौशल’ का नाम लूंगा। इस फिल्म में अक्षय कुमार के अच्छे अभिनय के अलावा कुछ बहुत अच्छा है तो...

0

दाऊद के दबाव में फिल्म इंडस्ट्री में नरेंद्र मोदी समर्थक कलाकारों को काम मिलना हुआ बंद! अंडरवर्ल्ड के साए में फिर फंसा बॉलीवुड!

एक बार अनुपम खेर ने मुंबई के टाटा थियेटर में राष्ट्रगान और तिरंगे को लेकर इवेंट आयोजित किया। मकसद था फिल्म उद्योग के लोगों को इस बारे में जागरूक करना। मंच पर खड़े होकर...

ताजा खबर