Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Tagged: Book Reviews

0

‘रिक्लेमिंग हिन्दू टेम्पल्स: एपिसोड्स फ्रॉम एन ओप्प्रेसिव एरा’ पुस्तक इस्लामिक आक्रांताओं के ‘काले युग’ का काला चिट्ठा है।

पुस्तक का नाम : ‘रिक्लेमिंग हिन्दू टेम्पल्स: एपिसोड्स फ्रॉम एन ओप्प्रेसिव एरा’ लेखक: डॉ चांदनी सेनगुप्ता भाषा : अंग्रेजी प्रकाशक: गरुड़ प्रकाशन पृष्ठ: 227 मूल्य : 299 (प्रिंट) क्या आपने ‘रिक्लेमिंग हिन्दू टेम्पल्स: एपिसोड्स...

0

घर-वापसी का ऐतिहासिक आकलन

साइयत और इस्लाम में चले गए हिन्दुओं को वापस हिन्दू समाज में लाने के कार्य को हमारे आधुनिक मनीषियों ने भी महत्वपूर्ण बताया था। लोकमान्य तिलक, लाला लाजपत राय, महामना मदन मोहन मालवीय, और...

0

हे सनातनियों, तेरा कल्याण सिर्फ गुरु, गोविंद और ग्रंथ ही कर सकता है, कोई नेता, बाबा या व्यक्ति नहीं।

असुरों के गुरु शुक्राचार्य की एक शुकनीति परसों लिखी थी- “दंड के भय से ही प्रजा अपने धर्म में स्थिर रहती है। अतः प्रशासक को दंडधर ही बने रहना चाहिए।” इस पर एक मित्र...

0

डॉ. किरण बेदी की पुस्तक “निर्भीक प्रशासन” का लोकार्पण

अर्चना कुमारी । डॉ. किरण बेदी द्वारा लिखित ‘फीयरलेस  गवर्नेंस’ पुस्तक का हिंदी संस्करण “निर्भीक प्रशासन” का लोकार्पण किया गया । जन आकाक्षाओं के प्रति जनादेह, न्याय संगत, प्रसाशन का व्यवहारिक पक्ष इस पुस्तक...

0

पंचमक्कारों के नरेशन्स को ध्वस्त करने वाली पुस्तक “महाराणा”

भारतीय उपमहाद्वीप में गत चौदह शताब्दियों से चले आ रहे हिंदू-मुस्लिम संघर्ष को यह पुस्तक उसकी भयानक नग्नता में प्रकट करती है। हत्यारे व बलात्कारी आक्रांताओं के समूह से हिंदू धर्म को बचाकर लानेवाले...

0

इस्लाम सह-अस्तित्व से इंकार करता है

शंकर शरण । इस्लाम के अनुसार अच्छा मुसलमान वह है जो प्रोफेट के सुन्ना का पालन करता है। यही एकमात्र निर्धारक है। यदि इस्लाम को जानना है तो सदैव मुहम्मद की ओर देखें, न...

0

वैद्यराज राजेश कपूर की पुस्तक ‘स्वास्थ्य और समृद्धि का आधार: गोविज्ञान;अभूतपूर्व ज्ञान संग्रह (भाग -1) वास्तव में आधुनिक समय में रोगमुक्त जीवन जीने के लिए गोविज्ञान का अभूतपूर्व खजाना है।

पुस्तक का नाम: स्वास्थ्य और समृद्धि का आधार: गोविज्ञान;अभूतपूर्व ज्ञान संग्रह (भाग -1) लेखक: वैद्यराज राजेश कपूर प्रकाशक: गवाक्ष प्रकाशन सोलन हिमाचल प्रदेश मूल्य: 121 रूपए पुस्तक मंगवाने हेतु : 94181-52238 Whatsapp करें हमारे...

0

173 कहानियों वाले कथा-लखनऊ के 15 खंड हाजिर हैं

दयानन्द पांडेय। शमशेर बहादुर सिंह ने लिखा है : बात बोलेगी, हम नहीं। भेद खोलेगी बात ही। तो बात बोल गई है। साल भर की दिन-रात की मेहनत और तपस्या अंतत : आप आदरणीय...

0

नेताजी, गुमनामी बाबा और सरकारी झूठ

23 जनवरी का इस वर्ष से भारत के इतिहास में एक विशिष्ट स्थान हो जायेगा। ऐसा नहीं था की इस दिन की पहले कोई विशेषता नहीं थी, लेकिन इस साल जो कुछ भी घटित...

2

डॉ. शैलेन्द्र कुमार की पुस्तक, ‘ईसावाद और पूर्वोत्तर का सांस्कृतिक संहार’ ईसावाद की गहरी कब्र खोदती है।

यह समाचार सुर्ख़ियों में बना हुआ है कि केरल की एक अदालत ने बहुचर्चित नन रेप केस में कैथोलिक चर्च के जालंधर सूबा के बिशप फ्रैंको मुलक्कल को 14 जनवरी 2022 को निचली अदालत...

0

नई सदी का प्रवेश मार्ग: सनातन वैदिक हिंदुत्व

डॉ महेंद्र ठाकुर । लंबे समय से सनातन धर्म या हिंदुत्व पर पुस्तकें लिखी जाती रही हैं। हाल के वर्षों में इस तरह का लेखन थोड़ा तेज हो गया है। इसका एक और असामान्य...

0

यह पुस्तक लोगों को झकझोरने वाली कृति है।

पुस्तक का नाम: आधुनिक जीवन शैली के रोग, कारण एवं निवारण लेखक: वैद्य राजेश कपूर प्रकाशक: गवाक्ष प्रकाशन, सोलन, हिमाचल प्रदेश पृष्ठ: 160 मूल्य: 300 रूपए यह पुस्तक लोगों को झकझोरने वाली कृति है।...

0

आहुति (महाभारत आधारित पौराणिक रहस्य गाथा खंड 3)

हिन्द युग्म द्वारा प्रकाशित सौरभ कुदेशिया रचित महाभारत आधारित पौराणिक शृंखला की दो पुस्तकें (खंड 1: आह्वान और खंड 2: स्तुति) 2020 में रिलीज होने के बाद से पाठकों को इसके तीसरे भाग ‘खंड...

0

स्तुति (महाभारत आधारित पौराणिक रहस्य गाथा खंड 2)

कल्पना और तथ्यों का मेल दुष्कर होता है, किन्तु सर्व विदित तथ्यों को आधार बनाकर जब तर्क आधारित कोई ऐसी कहानी रची जाए जो पाठकों की कल्पना शक्ति को नए आयाम प्रदान करने के...

0

आह्वान (महाभारत आधारित पौराणिक रहस्य गाथा खंड 1)

लम्बे समय के बाद कल्पना और यथार्थ की चाशनी में बखूबी डूबे हुए कुछेक उपन्यास ऐसे आते हैं जो पाठकों के दिलो-दिमाग पर अपनी गहरी छाप छोड़ते हैं। सौरभ कुदेशिया द्वारा लिखित “आह्वान” ऐसा...

0

सेतु : कथ्य से तत्व तक पुस्तक समीक्षा

कमलेश कमल। लघुकथा अपनी प्रवृत्ति में मुख्यतः क्षण-केंद्रित होती है। किसी संवेदनात्मक क्षण को कितनी संकेन्द्रण शक्ति से कोई लघुकथा अभिव्यंजित करती है– यही उसकी सफलता का निकष होता है। लाघव्य मात्र होने से...

1

कुछ लोग सिर्फ लेखक कहलाने के लिए लिखते हैं। उनका पाठकों से कोई रिश्ता नहीं होता। याद रखिए पाठक हैं, तभी आप लेखक हैं।

ऐसे कुछ प्रकाशक भी हैं, जो पुस्तक तो छाप लेते हैं, लेकिन पाठकों तक उसे पहुंचाने के प्रति उदासीन बने रहते हैं। आज जब मैं पुस्तक ट्रेड में हूं तब पता चल रहा है...

0

रास बिहारी की पुस्तकों में बंगाल के सियासी इतिहास की गहराई से पड़ताल!

केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने बंगाल के सियासी परिदृश्य को केन्द्रबिन्दु बनाकर लिखी गई तीन पुस्तकों ‘रक्तांचल- बंगाल की रक्तचरित्र राजनीति’, ‘रक्तरंजित बंगाल लोकसभा चुनाव-2019’ तथा ‘बंगाल- वोटों का खूनी लूटतंत्र’...

0

कैलाश सत्‍यार्थी की पुस्‍तक में विचार की अमीरी के सूत्र छिपे हैं. रामबहादुर राय

इंदिरा गांधी राष्‍ट्रीय कला केंद्र ने नोबेल शांति पुरस्‍कार से सम्‍मानित श्री कैलाश सत्‍यार्थी की पुस्‍तक ‘‘कोविड-19 सभ्‍यता का संकट और समाधान’’ पर एक परिचर्चा का आयोजन किया। परिचर्चा की अध्‍यक्षता इंदिरा गांधी राष्‍ट्रीय...

ताजा खबर