Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Tagged: film review

0

मूवी रिव्यू :सुशांत का विदाई गीत बन गई ‘दिल बेचारा’

Esther Earl बारह साल की थी, जब उसके परिवार को पता चला कि उसे थाइराइड कैंसर है। सोलह साल की उम्र में उसकी मौत हो गई। मरने से पहले वह एक किताब लिख गई...

0

फिल्म रिव्यू : बागी : 3 – बॉक्स ऑफिस का सफर मुश्किलों से भरा रहेगा

‘तीसरी बार ‘बागी’ हुए टाइगर श्रॉफ, फिल्म को मिला जबरदस्त रिस्पांस।’ टाइगर श्रॉफ की बागी: 3 प्रदर्शित होने के कुछ घंटे बाद मेरी निगाहें एक चैनल की इस हेडलाइन पर अटक गई। फिर मैं...

0

फिल्म रिव्यू : भूत (पार्ट वन) : द हॉन्टेड शिप – विकी के अभिनय के लिए ये हादसा नहीं झेला जा सकता

हॉरर जॉनर में फिल्म बनाना बड़े जोखिम का काम है। ऐसी फिल्मों में नकारात्मकता बहुत होती है और अधिकांश सुखद अंत पर समाप्त नहीं होती। हिन्दी में बनी भूतिया फिल्मों का सफलता प्रतिशत कम...

0

Movie review : Love Aaj Kal 2: कार्तिक का अभिनय ही इस फिल्म का हासिल है!

इम्तियाज़ अली की लव आजकल : 2 पहाड़ियों से गुजरती रेल का सफ़र है। कभी रेल खुशनुमा धूप में वादियों के नज़ारें दिखाती है तो कभी बोगदों में प्रवेश करते ही मनहूस अंधेरा छा...

0

Malang movie review: एक बेहतरीन डार्क Crime Thriller!

‘शिकारा‘ देखने के बाद सोचा था कि इस वेलेंटाइन वीक पर फिल्म उद्योग अपनी प्रेमिल अभिव्यक्ति देने से चूक गया है लेकिन ‘मलंग’ देखने के बाद ये सोच जाती रही। ये सप्ताहांत इस मायने...

1

Film review: उथले पानी में तैरता है ‘Shikara’!

विधु विनोद चोपड़ा की फिल्म ‘शिकारा’ में दहशत दिखाई देती है, दहशतगर्द नहीं। गोलियां दिखाई देती हैं, बंदूक नहीं। घर जलते हैं लेकिन जलाने वाले हाथ दिखाए नहीं जाते। मानो ये दहशत बिना सिर-पैर...

0

Movie Review jawani janeman: यदि आप एक सुसंस्कृत भारतीय दर्शक हैं तो इसे देखकर कुछ समय के लिए सिनेमा से आपको अरुचि हो सकती है!

जसविंदर उर्फ़ जैज कॉलेज की परीक्षा में फेल होने का जश्न मनाने लंदन से एमस्टडर्म जाता है। वहां एक लड़की के साथ वन नाइट स्टैंड के बाद लौट आता है। कई साल बाद जैज ...

0

रिव्यू – जुमानजी द नेक्स्ट लेवल – देखने में खूबसूरत और महसूस करने में रोलर कोस्टर राइड

गेम बदल चुका है। जुमांजी की दुनिया में हरियाली लाने वाली मणि चुरा ली गई है। चारों ओर मरुस्थल और बर्फ है। हरियाली का नामोनिशान नहीं बचा है। खिलाडियों को जुमांजी को बचाने के...

1

फिल्म समीक्षा: पति, पत्नी और वो – मनोरंजन, हास्य और सामाजिक सन्देश देती है ये फिल्म

अब फिल्म उद्योग और नियमित फ़िल्में देखने वाले दर्शक जानते हैं कि इन दिनों ‘बी टाउन’ फिल्मों का ट्रेंड चल रहा है और बड़े प्रोडक्शन हाउस अपनी बड़ी फिल्मों की लागत न निकाल पाने...

0

‘होटल मुंबई’ हमारे जख्मी सीनों का ऐतिहासिक दस्तावेज है

रामगोपाल वर्मा की फिल्म ‘अटैक्स ऑफ़ 26/11‘ उस आतंकी हमले पर उथले पानी में तैरती सी फिल्म थी। स्टेशन पर भारी रक्तपात और ताज होटल के प्रसंग उसमे दिखाए गए थे। लेकिन उस फिल्म...

0

फिल्म रिव्यू: फार्मूला वाली अलमारी खाली हो चुकी है – पागलपंती

सन 1998 में निर्देशक अनीस बज़्मी ने ‘प्यार तो होना ही था’ बनाकर न केवल बॉक्स ऑफिस पर बादशाहत जमाई थी, बल्कि चार फिल्म फेयर अवार्ड जीतकर अपनी श्रेष्ठता सिद्ध की थी। आज वही...

0

इन एंजल्स में वो बात नहीं – चार्लीज एंजल्स फिल्म रिव्यू

कभी न नज़र आने वाले चार्ली की तीन हसीनाओं की याद अब तक दर्शकों के जेहन से मिटी नहीं है। सन 2000 में प्रदर्शित हुई ‘चार्लीज़ एंजल्स‘ को युवा दर्शकों के लिए रिबूट किया...

0

एक टाइमपास फिल्म, जो अच्छा सन्देश देती है फिल्म रिव्यू: उजड़ा चमन

गंजापन और मोटापा ऐसी बीमारियां हैं, जो जवानी में हो जाए तो बड़ी परेशानियां खड़ी हो जाती हैं। इनको फिल्म का विषय बनाना निश्चय ही साहसिक काम है। बॉक्स ऑफिस हर सप्ताह निर्ममता से...

1

ऑस्कर में ‘गली बॉय’ को भेजकर हमने अपनी भद पिटवा ली है

जब अमेरिका में ‘हाउडी मोदी’ के मंच पर भारत अपनी वैश्विक पहचान की नई परिभाषा गढ़ रहा था, तब भारत से ही ऑस्कर अवार्ड्स के लिए एक ऐसी फिल्म भेजी जा रही थी, जो...

0

पल पल दिल के पास रिव्यू – आंगन में लगा फल ‘अधकच्चा’ ही तोड़ लिया

धर्मेंद्र के दोनों बेटों सनी और बॉबी का बॉलीवुड पदार्पण बहुत शानदार अंदाज़ में हुआ था। सनी देओल को राहुल रवैल और बॉबी को राजकुमार संतोषी जैसे मंझे हुए निर्देशकों ने लॉन्च किया था।...

1

सेक्शन 375 मर्ज़ी या ज़बरदस्ती

सबके अपने ‘सत्य’हैं, सबके अपने ‘दृश्य’ ख्यात फिल्म निर्देशक अपनी जूनियर को घर पर शूट के लिए डिजाइन किये कपडे देखने के लिए बुलाता है। खूबसूरत मादक जूनियर को देखकर उसका मन डोल जाता...

ताजा खबर
The Latest