Watch ISD Live Now   Listen to ISD Podcast

Tagged: Hindi poem

0

हिंदू का ब्रह्मास्त्र (भाग-5)

शत्रु – बोध   जो  नष्ट  कर  रहा ,   वो  नेता   मक्कार  है ; धर्म का दुश्मन , राष्ट्र का दुश्मन ,  देश  का  वो  गद्दार  है । आतंकी – बर्बर मजहब को , शांति...

0

छापेमारी की नौटंकी

हिंदू  धोखा   मत  खा  जाना ,   छापेमारी  के   खेल   में ; पूरी – पूरी     नूरा – कुश्ती ,     मजे    करेंगे    जेल    में । नौटंकीबाज  अब्बासी – हिंदू ,  नये-नये  नाटक  करता है ; हिंदू...

0

महामूर्ख-हिंदू (भाग-10)

सबसे  बड़ा  धर्म  का  दुश्मन ,   अब्बासी – हिंदू  नेता  है ; कायर – कमजोर है  भ्रष्टाचारी ,  केवल  नौटंकी करता है । महामूर्ख – हिंदू   है   इतना ,  अब तक  जान  नहीं  पाया...

0

हिंदू का सम्मान हो वापस

चाहे जितना  मेकअप करवाओ ,  बार-बार  कपड़े  बदलो ; रंग-बिरंगी  पगड़ी पहनो,  फोटो-सेशन भी  खूब  करा लो । देश नहीं टोकेगा तुझको ,  पर देश का भी कुछ काम करो ; पहला  काम  तुझे ...

0

कोई नहीं हिन्दू का रक्षक

राजनीति का  धूर्त – खिलाड़ी ,  छुरा पीठ पे  घोंपना जाने ; आगे वाले को  मारके टंगड़ी ,  सत्ता  को  कब्जाना  जाने । बहुत  बड़ा  नौटंकीबाज  है ,   अभिनय  करने  में  माहिर ; इतने...

0

विवाह चुनूं या वैराग्य का वरण करूं ?

हर रोज़ टूटकर बिखर जाता है मेरा दिल !डूबता हुआ मन , डर से खोजता है सुन्दर साहिल !दिल की धड़कनें , मां भारती का बनना चाहती हैं स्वरअपने लहू से राष्ट्र अभिषेक करना...

0

सूर्य : तेरे चेहरे का तेज़ लाना है

वर्तमान वैश्वीकरण , उदारीकरण और निजीकरण के युग में एक युवती की यह कविता उसके मनोभावों को अभिव्यक्त करती है। सूर्य नामक यह कविता एक प्रेमिका के लिए उसके प्रेमी का प्रतिबिंब है ।...

0

वज्रमूर्ख हिंदू अभिभावक (भाग-1)

वज्रमूर्ख  हिंदू  अभिभावक ,   बच्चों  को  न  धर्म  बताते ; रामायण , गीता , महाभारत ,   भूले  से  भी  नहीं  पढ़ाते । धन – दौलत की  चकाचौंध में , स्त्री- पुरुष  हो  चुके  अंधे...

0

सारे मंदिर हमें चाहिये

हमें   चाहिये    ये    कानून ,   सारे   मंदिर   वापस   हों ; लगभग  एक लाख मंदिर  हैं ,  सब  हिंदू को  वापस  हों । पूजा का अधिकार हमारा ,  हम सब  इसको  ले के रहेंगे ;...

0

हिंदू का ब्रह्मास्त्र (भाग-3)

एकमात्र  बस   मार्ग   यही  है ,  भारतवर्ष   बचाने   का ; धर्म , राष्ट्र   व   देश   बचाने ,  शांति – सुरक्षा  पाने  का । सरकारें   हों   देश – भक्त ,   राष्ट्र – भक्त  व  धर्म...

0

हिंदू का ब्रह्मास्त्र (भाग-2)

महामूर्ख – हिंदू   अज्ञानी ,  धर्म – सनातन   भूल  रहा  है ; स्वार्थ – लोभ में  अंधा होकर ,  भौतिकता में  झूल रहा है । अपना सच्चा – धर्म न जाने ,  उनका मजहब ...

0

अब्बासी-हिंदू (भाग-6)

अब्बासी – हिंदू   की   सत्ता ,   धर्म   नष्ट   हो   जाता  है ; कानून – व्यवस्था  चौपट होती ,  गुंडा-तत्व  बढ़  जाता है । गुंडागर्दी  इतनी  बढ़ती ,  रोड – जाम  तक  रुक  न पाता...

0

लोकतंत्र का एटम बम

कायर, कमजोर ,नपुंसक-नेता ,  महामूर्ख-हिंदू क्यों ढोता ? लफ्फाजी में  फंस जाता है ,  अपना वोट  व्यर्थ  कर देता । पार्टी-दलदल में  फंसा है हिंदू ,  अपना  सत्यानाश कराया ; अब्बासी – हिंदू  के...

0

रामराज्य सर्वोत्तम शासन

नैतिकता व  चरित्र की शिक्षा ,   केवल  धर्म से  मिलती है ; इससे विहीन जो राजनीति है , केवल वैश्या बन सकती है । राजनीति    को     वैश्या    करने    वाले ,    होते   भड़वे ; सारे  ...

0

हिंदू बेटी को जला के मारा

पूरा-सिस्टम   सड़ा – गला   है ,  भ्रष्टाचार   की   जंग  है ; हिन्दू ! अब तुम चुप न बैठना , जीवन – मरण की जंग है । शांतिप्रिय  हैं सारे  हिन्दू ,  व्यर्थ का झगड़ा ...

0

पहचान मैं कौन ?

त्रिपुंडधारी , सूफी  भारी अब्बास की यारी ,नूपुर बेचारी काशी प्यारी ,ज्ञानपीठ पर चुप्पीधारी गोधरा हिंदुओं पर भारी बंगाल में स्त्री पुकारी नग्न शरीर बलात्कार पारी पारी शुद्ध ना लिया जीवन पर मौत भारी...

0

यदि जीवन प्यारा हिंदू को

दस-प्रतिशत भी गिरोहबंद हों ,  शेष पे हावी हो जाते हैं ; नब्बे-प्रतिशत भी अलग-अलग हों, सदा मार ही खाते हैं । यही हाल है  अब हिन्दू का ,  अलग – थलग  ही रहते...

0

हिन्दू ! तुम अब सो न जाना

अब्बासी-हिंदू की आंख में, मिर्ची सी किरकिरी कौन बना ? अभी तो  केवल  दो ही  नेता , जल्दी  ही  पूरा  देश  बना । यूपी   में   योगी   बाबा   हैं   और   आसाम   में   हेमन्ता ; ये ...

0

हिंदू का ब्रह्मास्त्र (भाग -1)

जितना हिंदू कमजोर हो गया , उतना पहले कभी नहीं था ; पहले था  सरकारी – हिंदू , अब्बासी – हिंदू  कहीं नहीं था । अब्बासी – हिंदू  जब से आया , सत्ता में ...

0

आज का राणा और शिवाजी

हिंदू वोट- बैंक  बन जाओ , या फिर दुनिया से मिट जाओ : राजनीति  गिर चुकी है  इतनी ,  हिंदू अपना गला कटाओ । जिनको  भी  तू   नेता  चुनता ,   वो  पूरे  गद्दार  निकलते...

ताजा खबर