Watch ISD Videos Now Listen to ISD Radio Now

Tagged: Indian Judiciary system

0

भ्रष्टाचार की जद में न्यायपालिका: हैदराबाद जिला जज 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजे गए!

जिस प्रकार आए दिन कोर्ट के जज से लेकर वरिष्ठ अधिकारी तक भ्रष्टाचार के लपेटे में आने लगे हैं इससे अब इस मांग को बल मिलने लगा है कि न्यायिक व्यवस्था में अब व्यापक...

0

भारत की न्यायपालिका निष्पक्ष न हो कर बन चुका है एक विपक्षी दल!

मैंने कल सर्वोच्च न्यायालय द्वारा मोदी सरकार के अधिकार क्षेत्र पर अतिक्रमण किये जाने पर लिखा और आक्रोश व्यक्त किया था। वहां आयी कुछ प्रतिक्रियाओं से ऐसा आभास हुआ जैसे लोग, सर्वोच्च न्यायालय के...

0

सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायधीश गोगोई की सुनवाई के तरीके पर उठा सवाल!

एक बार फिर पूरे देश में अयोध्या विवाद बहस के केंद्र में आ गया है। आम जनों में रोष है कि इस बहस के लिए किसी हद तक सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायधीश रंजन...

0

रेप के आरोपी पादरी को बेल और सबरीमाला के भक्तों को जेल! यह भेदभाव क्यों?

सबरीमाला मंदिर में पूजा करने के लिए गिरफ्तार निरपराध हिंदुओं को बेल देने पर सवाल उठाने वाले केरल कोर्ट को शर्म तक नहीं आती। जबकि उसने खुद रेप के आरोपी पादरी फैंको मुल्लकाल को...

0

अयोध्या के लिए सुप्रीम कोर्ट को समय नहीं लेकिन राफेल में इनको दस दिन में चाहिए जवाब, जनता देख रही है मी लार्ड!

करीब 132 साल से अदालतों में घिसट रहे राममंदिर विवाद को सुनने के लिए सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायधीश के पास तीन मिनट का भी समय नहीं है, लेकिन राफेल डील पर उन्हें सरकार...

0

अयोध्या विवाद मामले को लटकाने से सुप्रीम कोर्ट की कार्यशैली पर उठने लगे हैं सवाल!

अयोध्या विवाद मामले पर सुप्रीम कोर्ट का हालिया फैसला उसकी खुद की साख पर बट्टा लगा गया है। तभी तो सोशल मीडिया पर सुप्रीम कोर्ट कार्यशैली से लेकर उसके फैसले तथा उन्हें मिलने वाली...

0

न्याय बिकता है, बोलो खरीदोगे!

विष्णु प्रभाकर की एक कहानी धरती अब भी घूम रही है में एक निर्दोष आदमी जेल चला जाता है। उस के परिवार में सिर्फ दो छोटे बच्चे हैं। एक बेटा और एक बेटी। बच्चे...

0

कांग्रेस की ‘न्यायपालिका’!

1973 में इंदिरा गाँधी ने न्यायमूर्ति एएन रे को भारत के मुख्य न्यायाधीश के रूप में बैठा दिया वो भी तब जब उनसे वरिष्ठ न्यायधीशों की लिस्ट जैसे न्यायमूर्ति जेएम शेलात, केएस हेगड़े और...

0

200 से 250 परिवारों के चंगुल में कैद है भारतीय न्यायपालिका!

देश की न्यायपालिका की शीर्ष संस्थान यानि सुप्रीम कोर्ट से लेकर लोअर कोर्ट तक ढाई से तीन सौ परिवारों की ड्योढी बने हुए हैं। यह बात अब खास से लेकर आम तक आम हो...

0

पाखंड उजागर….शहरी नक्सल के आतंक को ‘सेफ्टी वाल्व’ कहने वाले माननीय न्यायधीश पुणे पुलिस की सलाह पर आग बबूला हो उठे!

क्या असहमति के नाम पर हिंसात्मक विरोध और आतंक को जायज ठहराया जा सकता है? अगर नहीं तो फिर कोर्ट में पुणे पुलिस की सलाह पर सुप्रीम कोर्ट के किसी जज को यह कहना...

0

खुद मीडिया के शरणागत माई लार्ड मीडिया में जाने वाले को भेजेंगे जेल!

अब सुप्रीम कोर्ट को यह पसंद नहीं की NRC मामले पर कोई भी जिम्मेदार अधिकारी मीडिया के पास जाकर बयान दे। जस्टिस रंजन गोगई की अध्यक्षता वाली पीठ ने कड़ी फटकार लगाते हुए NCR...

0

मोदी जी आप कार्रवाई करते रहिए, चिदंबरम अदालत में जुगाड़ फिट करता रहेगा!

मोदी सरकार लाख कार्रवाई करती रहे लेकिन पी चिदंबरम है कि हर समय अदालत में अपना जुगाड़ फिट कर ही लेता। एक बार फिर अदालत ने अगले आदेश तक पी चिदंबरम की गिरफ्तारी पर...

0

सुप्रीम कोर्ट के न्यायधीश, देश का सबसे बड़ा अभियुक्त और एक अखबार! ‘लुटियन लॉबिस्टों’ द्वारा मर्यादा को तार-तार करता एक हैरतअंगेज दास्तान!

दिल्ली का लुटियन कल्चर शायद हर तरह की संवैधानिक, कानूनी और नैतिकता की मर्यादा से परे है? खुद को साहसिक पत्रकारिता का पर्याय बताने और ‘रामनाथ गोयनका अवार्ड’ को पत्रकारिता का ऑस्कर बनाने की...

0

‘अगर आधार को चुनौती देने वालों से सवाल करना राष्ट्रवादी कहलाना है तो मैं राष्ट्रवादी हूं!’ जस्टिस चंद्रचूड़

आधार मामले में पेश की जा रही दलीलों पर जताई आपत्ति! जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा एक जज होने के नाते हम किसी के प्रति जवाबदेह नहीं है। समुदाय हमारे बारे में क्या सोचता है,...

0

न्यायपालिका में कॉलिजियम सिस्टम ने ईमानदार जजों को मुख्य न्यायाधीश पद से वंचित रखा!

न्यायतंत्र में व्याप्त भ्रस्टाचार में आज हम बातएंगे की कैसे भाई भतीजावाद के नाम पर सुप्रीम कोर्ट के अंदर कुछ न्यायाधीशों ने जमकर मलाई खायी! कैसे एक ईमनादार महिला जज को उनकी ईमानदारी की...

0

न्यायपालिका की अवमनना के भय से अब चुप रहने का मतलब लोकतंत्र को कुछ लोमड़ियों के हाथ में छोड़ देने के समान!

न्यायपालिका की अवमनना के भय से अब चुप रहने का मतलब लोकतंत्र को कुछ लोमड़ियों के हाथ में छोड़ देने के समान है! ये ऐसी लोमड़ियां हैं, जिन्होंने ‘न्याय’ का अपहरण कर लिया है।...

0

क्या मथुरा कांड का मुख्य अभियुक्त रामवृक्ष यादव जिंदा है?

मथुरा जवाहर बाग कांड की सीबीआई जाँच की मांग पर हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता अश्विनी उपाध्याय ने मुख्य न्यायाधीश से कहा कि रामवृक्ष जिंदा है और इस घटना में 28 नहीं बल्कि...

0

यूपी सरकार को जवाहर बाग़ घटना में लापरवाही दिखाने पर इलाहाबाद हाईकोर्ट की फटकार!

हाईकोर्ट की कड़ी फटकार के बाद यूपी पुलिस ने त्वरित कार्यवाही करते हुए जवाहर बाग हिंसा के मुख्य अभियुक्त राम वृक्ष यादव के दोनों बेटे, दोनों बहू और उसकी पत्नी को गिरफ्तार कर लिया...

यह है नीतीश कुमार का अपराधमुक्त बिहार बनाने के दावे की असलियत!

कैलाश विजयवर्गीय। बिहार में लालू यादव के राज को जंगलराज बनाने वाला माफिया सरगना शहाबुद्दीन पटना हाई कोर्ट से जमानत मिलने के बाद भागलपुर जेल से बाहर है। शहाबुद्दीन अभी 50 साल का नहीं...

ताजा खबर