Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Tagged: islamic terrorism

0

जैश ए मोहम्मद आतंकी हबीबुल कानपुर से गिरफ्तार !

अर्चना कुमारी। नदीम के बाद आतंकी हबीबुल गिरफ्तार किया गया । यूपी एटीएस को एक और बड़ी सफलता तब मिली जब सहारनपुर से गिरफ्तार जैश आतंकी नदीम से पूछताछ में हबीबुल का नाम सामने...

0

उत्तराखंड की तरह हिमाचल भी कट्टरपंथियों की गिरफ्त में!

उत्तराखंड की तरह हिमाचल प्रदेश में भी मुस्लिम कट्टरपंथी अपने पैर जमा रहे हैं। जानकारी के मुताबिक राज्य में मस्जिदों की संख्या 500 से ज्यादा हो चुकी है, जबकि सरकार के पास इनका सरकारी...

0

विनीत जिंदल को जान से मारने की धमकी !

अर्चना कुमारी। राष्ट्रवादी वकील विनीत जिंदल को जान से मारने की धमकी दी गई । अज्ञात इस्लामी आतंकियों ने एक पत्र भेजकर कहा है कि जल्द ही उनका ‘सर तन से जुदा’ कर दिया...

0

CRIME FILE STORY NO 89 #फ्रिज के अंदर लाश ! 

अर्चना कुमारी। संपत्ति का लालच देखिए। दिल्ली में रहने वाले जाकिर हुसैन (50) की हत्या किसी और ने नहीं बल्कि उसके सगे भाई ने अपने मुंहबोले बेटे के साथ मिलकर की थी। पुलिस ने...

0

जुमे को जुमा ही कहिए। शुक्रवार नहीं। शब्दों की पवित्रता बनी रहे।

शुक्र का अर्थ है उज्जवल ,दीप्तिमान।धर्म तेज के लिए अपेक्षित वीर्य से संपन्न । उत्कृष्ट सौन्दर्याभिरूचि,और प्रणय की उच्च स्तरीय सामर्थ्य। जुमे का अर्थ हमें नहीं पता ।पर व्यवहार में इसका अर्थ दिखता है...

0

दोहरे चरित्र वाला इस्लामी सहयोग संगठन, चीन में उइगर मुस्लिमों के दमन पर आज तक नहीं दी कोई प्रतिक्रिया

श्रीराम चौलिया। पिछले दिनों न्यूज चैनलों और इंटरनेट मीडिया पर गरमागरम बहस के दौरान सत्ताधारी भाजपा के दो राजनीतिक पदाधिकारियों ने कुछ आपत्तिजनक टिप्पणियां कीं। उनके अविवेक को पहचानकर भाजपा ने अनुशानात्मक कार्रवाई की और...

0

इस्लामिक आक्रमकता के क्या कारण हैं इस्लामिक आक्रमकता से बचने के लिए भारत को क्या करना चाहिए

दीपक कुमार द्विवेदी दुनियाभर मे सिंतबर 2001 के बाद 13000 हजार से अधिक आंतकवादी हमले हो चुके हैं इन हमलों मे हजारों निर्दोष नागरिक लहूलुहान हो गए हैं और जाने कितनो की जान चली...

0

तीन लाख करोड़ का मालिक है मालाबार चर्च!

यह मुद्दा भी इस्लामिक जिहाद की तरह ज्वलंत और चिंताजनक है। सबको पता होना चाहिए। भारत में सबसे बड़ा उद्योगपति कौन है? अधिकतर लोगों को पता नहीं होगा। कारपोरेट मिशनरी नामक संस्था पर किसी...

0

उप्र के अमरोहा में होली खेल रहे हिंदुओं पर ‘हरे टिड्डों’ ने की पत्थरबाजी!

होली में DJ बज रहा था। लोग मस्ती में झूम रहे थे। तभी कुछ कट्टरपंथी मानसिकता के लोगों ने पथराव कर दिया। और यह हुआ उत्तर प्रदेश के अमरोहा जिले में। पथराव के कारण...

0

शातिर अजहररूद्वीन !

अर्चना कुमारी । वह हरा टिड्डा समुदाय से है और उसे टेक्नोलॉजी की बिल्कुल भी समझ नहीं है लेकिन वह कई बैंकों को लाखों रूपए की चपत लगा दी। महज 12वीं कक्षा पास इस...

0

दिल्ली में फिर एक हिंदू की हत्या !

अर्चना कुमारी। देश की राजधानी में कानून -व्यवस्था बुरी तरह चरमरा गई है और यही वजह है कि लगातार हिंदुओं की हत्या की जा रही है  ।  राजौरी गार्डन के रघुवीर नगर इलाके में...

0

बुलेट प्रूफ बदमाश !

अर्चना कुमारी। यह देश की राजधानी में ही संभव है कि कोई अपराधी बुलेटप्रूफ गाड़ी में सवार होकर चलता है और पुलिस उसका कुछ नहीं बिगाड़ पाती । वैसे तो आमतौर पर  सुरक्षा के...

0

हलाल का आर्थिक चक्रव्यूह

प्रो विजेता सिंह। जिस भी उत्पाद पर हलाल मार्क लगा हो उसे ना खरीदें। हलाल एक तरह का आर्थिक जेहाद है। मुसलमानों द्वारा प्रत्‍येक पदार्थ अथवा वस्‍तु इस्‍लाम के अनुसार वैध अर्थात ‘हलाल’ होने...

0

प्रिय Manan N जी का महत्त्वपूर्ण महापोस्ट का संक्षिप्तिकरण प्रस्तुति। हिन्दुत्त्व के रक्षक-कश्मीरी हिन्दू।

इस महापोस्ट को पढ़कर आप समझ सकेंगे के कितने शानदार तरीके से जिहाद आपके घर में घुस जाता है और आपको व आपकी सँस्कृति को लील जाता है।आप जानेंगे के कैसे बार बार अपना...

0

रंगदारी का मास्टरमाइंड दर्जी !

अर्चना कुमारी। जामिया नगर थाने की पुलिस ने जबरन वसूली करने वाले इमरान को उसके दो साथियों अमरुद्दीन और शोएब के साथ धर दबोचा । इनके पास से अपराध में इस्तेमाल  एक मोबाइल फोन...

0

तालिबानियों के पीछे जो पोट्रेट है वह अफगानिस्तान के शासक अहमद शाह अब्दाली की है

तालिबानियों के पीछे जो पोट्रेट है वह अफगानिस्तान के शासक अहमद शाह अब्दाली की है जिसने बाद में अपना नाम अहमद शाह दुर्रानी कर दिया था आज जो हम सब यह सोच रहे हैं...

1

परमाणु बम गिरने से राष्ट्र नष्ट नहीं होते, नष्ट होते हैं शिक्षा और धर्म पर आघात से।

परमाणु गिराने से राष्ट्र नहीं मिटते।उदाहरण : जापान। राष्ट्र का पतन होता है संस्कृति, शिक्षा और धर्म पर आघात करने से। उदाहरण : अफगानिस्तान। जिसकी संस्कृति जीवित है वो कांटों के बीच भी मुस्कुराता...

0

अफगानिस्तान में फिर से तालिबान-अमेरिका की नीतियों की नाकामी

अफगानिस्तान में 20 वर्ष बाद फिर से तालिबान के काबिज होने के बाद दुनिया के सामने इस्लामिक कट्टरवाद का एक नया संकट पैदा हो गया है। तमाम देशों की तालिबानी सरकार को मान्यता न...

0

तालिबानी सोच का खात्मा जरूरी

अफगानिस्तान में 1996 से 2001 तक तानाशाही, क्रूरता, मानवाधिकारों का हनन और महिलाओं पर तमाम पाबंदी के साथ अत्याचार करने वाले तालिबानी राज की याद करते हुए ही लोगों में दहशत भर जाती है।...

ताजा खबर