Tagged: judiciary system

0

जब कोर्ट दही हांडी की ऊंचाई तय कर सकता है तो फिर मसजिद में महिला प्रवेश पर सुनवाई क्यों नहीं?

जिस प्रकार देश में कोर्ट के फैसले भेदभावूर्ण आने लगे हैं इससे अब पूरी न्यायपालिका पर ही सवालिया निशान लग गया है। लोगों ने तो अब यह भी सवाल पूछने लगे हैं कि आखिर...

0

न्यायपालिका को बंधक बनाने वाली कांग्रेस को उसकी स्वतंत्रता की बात करते शर्म तक नहीं आती! 

अपना हित साधने के लिए जिस कांग्रेस पार्टी ने  एक स्वतंत्र विचार वाले महाराष्ट्र हाईकोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायधीश चंद्रशेखर धर्माधिकारी को सुप्रीम कोर्ट का न्यायधीश नहीं बनने दिया वही कांग्रेस आज न्यायपालिका की...

0

मी- लार्ड ऊपर वाले की लाठी बे-आवाज होती है! देश के 40 प्रतिशत जजों के बच्चे मानसिक और शारीरिक रूप से विकलांग!

इसमें तो कोई दो राय नहीं कि भारतीय न्यायपालिका में अभिजात वर्ग की बहुलता है, लेकिन यह भी उतना ही सच है कि न्यायधीशों के ‘कर्म’ उनके बच्चों के प्रतिफल के रूप में बाहर...

0

जस्टिस खेहर को जानना है तो सुब्रत राय सहारा से पूछिये !

अपने प्रदेश में लाटसाहब कहे जाने वाले राज्यपाल के पद को घरेलू नौकर समझने की पारंपरिक भूल करने वाले, सत्ता के ठसक में मदहोश सियासतदान से कोई पूछे ही जस्टिस खेहर होने के मायने...

3

जाने भी दीजिए ; कितने सलमान सलाखों के पीछे भेजेंगे ?

मनीष ठाकुर: सुकुन मिलता है कि इंसानियत जिंदा है। कुछ लोग ही सही वो इंसाफ की गुहार तो लगा रहे हैं। आवाज तो उठा रहे हैं कि आखिर सलमान खान बरी कैसे हो गए?...

ताजा खबर