Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Tagged: Mahatma Gandhi

0

गांधी का खिलाफत और हिंदुओं का विनाश

रॉलट कमेटी की रिपोर्ट बताती है कि 1901 के आरंभ में भारत की स्वतंत्रता के लिए जो हिंसात्मक आंदोलन चल रहे थे, अंग्रेज उससे भयंकर रूप से डर गये थे। वह अपनी सत्ता बचाने...

0

आलोचनाओं के द्वन्द में गाँधी एवं सावरकर

शिवेन्द्र राणा : भगवान बुद्ध ने कहा है, “हीनभाव ही श्रेष्ठता का दावेदार बनता है. जो श्रेष्ठ हैं, उन्हें तों अपने श्रेष्ठ होने का पता भी नहीं होता है. वही श्रेष्ठता का अनिवार्य लक्षण भी...

0

गाँधीवाद की जिहादी आलोचना

शिवेंद्र राणा। अक्टूबर माह देश में विशेष रूप से गाँधी जयंती के लिए जाना जाता हैं. पिछले सौ वर्षों से भी अधिक समय से वे देश- विदेश में परिचर्चा का विषय रहें हैं. सिमित शब्दों...

0

महात्मा गांधी और मनुबेन: एक अनकही कहानी!

शंकर शरण। दो वर्ष पहले मनु बेन की डायरी प्रकाश में आई। मनु बेन महात्मा गाँधी के अंतिम वर्षों की निकट सहयोगी थीं। इस डायरी से उन कई बिन्दुओं पर प्रकाश पड़ता है, जो...

0

भारत छोड़ो आंदोलन की वर्षगांठ पर शुरू हुआ भारत जोड़ो आंदोलन

भारत छोड़ो आंदोलन की वर्षगांठ पर शुरू हुआ भारत जोड़ो आंदोलन 25 जुलाई को मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने जनता से भारत जोड़ो आंदोलन शुरू करने करने के लिए कहा था सरकार...

1

गांधी जी और कांग्रेस ने मजहबी हिंसा को पनपने का अवसर दिया: एनी बेसेंट

कभी कभी इतिहास अपने आप को दोहराता है | क्या कांग्रेस ने तुस्टीकरण की नीति महात्मा गाँधी से सीखी थी | इसके लिए मैं इतिहास के पन्नों के कुछ अंश आपके सामने रखना चाहता...

1

गांधी नहीं बल्कि सुभाष चंद्र बोस ने दिलाई थी देश को आजादी, अंबेडकर ने बी बी सी के साथ अपने एक पुराने इंटरव्यू में ऐसा कहा

जब भारत पर से अंग्रेज़ी शासन हटने की बात आती है, तो अधिकांश लोगों के ज़ेहन में गांधी की छवि उतर आती है. और ऐसा होना लाज़िमी भी है. जितनी भी स्कूली पुस्तकों में...

0

नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेले में कंटेम्पररी टच के साथ अवतरित हुए राष्ट्र्पिता महात्मा गांधी

आज के समय में साहित्य की परिभाषा दिन ब दिन बदलती जा रही है. लोग किंडल आदि गैजिट्स पर ई बुक्स भी पढ़्ते हैं, इंटरनेट पर भी पूरी पूरी किताबें डाउनलोड के लिये उपलब्ध रहती...

0

PM मोदी की पहली प्रेसवार्ता का निहितार्थ और गांधी-गोडसे विवाद में क्या हो राष्ट्रवादियों की भूमिका?

1) पांच साल में पहली बार प्रधानमंत्री मोदी ने प्रेसवार्ता किया। आखिर इसका निहितार्थ क्या है? 2) गोडसे को लेकर साध्वी प्रज्ञा के बयान के बीच असमंजस में फंसे हिंदुवादियों और राष्ट्रवादियों की भूमिका...

0

महात्मा गांधी किसके… जो ज्यादा खादी बेचे उसके!

महात्मा गांधी और खादी का संबंध क्या रहा है यह बात किसी से छिपी नहीं है। अगर गांधी जिंदा होते और उनके सामने यह नारा लगाया जाता कि गांधी किसके? तो वे खुद इसे...

0

महात्मा गाँधी ने पूरी जिंदगी अंग्रेजों का समर्थन किया, अब कब्र में पांव लटकाए उनके सचिव चाहते हैं कि नरेन्द्र मोदी की जगह कोई ‘विदेशी’ भारत का प्रधानमंत्री बने!

महात्मा गाँधी ने पूरी जिंदगी अंग्रेजों का समर्थन किया, अब कब्र में पैर लटकाए उनके सचिव चाहते हैं कि नरेन्द्र मोदी की जगह कोई ‘विदेशी’ भारत का प्रधानमंत्री बने! ऐसा लगता है कि गुलाम...

1

गांधी जी और शास्‍त्री जी में कुछ समानता, लेकिन ढेर सारी असमानता!

महात्‍मा गांधी व लालबहादुर शास्‍त्री- दोनों की जयंती एक ही दिन होती है। दोनों में कुछ बातें समान थीं, जैसे- दोनों बेहद सादगी से जीते थे और दोनों स्‍वयं के प्रति ईमानदार थे। दोनों...

0

धक…धक..करने लगा बापू का दिल?

पहली बार बापू की धड़क लांच हुई है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती पर उनकी धड़कन का डिजिटल मोड लांच किया गया है। देश ही नहीं पूरी दुनिया में पहली बार बापू के दिल...

0

मैं, मेरा बचपन और शास्त्रीजी!

शास्त्री जयंती पर विशेष। मैं, मेरा बचपन और लालबहदुर शास्त्रीजी! मैं तब आठवीं में था। सरकारी छात्रवृत्ति के कारण पटना से निकल कर उदयपुर के विद्याभवन स्कूल में पढ़ने पहुंचा था। मेरे जीवन में...

0

आइए गांधी जयंती पर उस गांधी को याद करें, जिनकी एक गलती ने राष्ट्र को नरसंहार में झोंक दिया!

शंकर शरण। क्‍या आपने ध्यान दिया है कि कश्मीरी, बंगाली या पंजाबी हिन्दुओं के बीच महात्मा गांधी कभी लोकप्रिय नहीं रहे? कारण था, वास्तविक जीवन का सबक। अपने लंबे अनुभव से उन्होंने गांधीजी की...

0

अपनी किताब की मार्केटिंग के लिए शहरी नक्सलियों के बचाव में उतरे रामचंद्र गुहा!

गांधी के नाम पर पहले ही दो किताबें ‘इंडिया आफ्टर गांधी ‘ तथा ‘गांधी बिफोर इंडिया’ लिख चुके इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने एक बार फिर नई किताब ‘गाँधी: दि ईयर दैट चेंज्ड दि वर्ल्ड...

0

महात्मा गांधी से लेकर राहुल गांधी तक, कांग्रेस के DNA में ही नहीं है लोकतंत्र!

कर्नाटक प्रकरण को लेकर आज-कल लोकतंत्र और उसकी हत्या का शोर हर जगह मचा है! शोर मचाने वालों में कांग्रेस और उसके अध्यक्ष राहुल गांधी सबसे आगे दिखते हैं! जबकि कांग्रेस के इतिहास पर...

ताजा खबर