Watch ISD Live Now Listen to ISD Radio Now

Tagged: media दयानंद पांडेय

0

हमन इश्क मस्ताना बहुतेरे

दयानंद पांडेय। लगता है नर्मदा किनारे प्रभाष जोशी की देह नहीं जली है, मैं ही जल गया हूं। प्रभाष जोशी तो मुझ में ज़िंदा हैं। मेरी कलम में उन के हाथ सांस ले रहे हैं।...

ताजा खबर