Tagged: modi and media

3

PTI यानी पाकिस्तान ट्रस्ट इन इंडिया! पुलवामा में हमले के अगले दिन पीटीआई के संपादकों ने मनाया था जश्न!

आपने गौर किया है कि पूरे चुनाव अभियान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लगभग सभी मीडिया हाउस को अपना साक्षात्कार दिया, लेकिन देश की सबसे बड़ी न्यूज एजेंसी पीटीआई को साक्षात्कार क्यों नहीं दिया?...

0

PM Modi Vs Lutyens Delhi- करण थापर-1

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंडियन एक्सप्रेस को दिए साक्षात्कार में लुटियन्स दिल्ली के मठाधीशों को खान मार्केट गैंग कहा था। यह गिरोह बौखला उठा है। इसी के मद्देनजरलुटियन्स पत्रकारों पर एक वीडियो श्रृंखला शुरू...

0

मोदी सरकार से नफरत और विनोद दुआ का फेक न्यूज! और कितना गिरेंगे ‘पेटीकोट पत्रकार’?

हाल ही में द वायर से निकाले गए यौन उत्पीड़न के आरोपी विनोद दुआ ने एचडब्ल्यू न्यूज (HW news) वेबसाइट ज्वाइन करते ही अपना फेक न्यूज का व्यापार शुरू कर दिया है। विनोद दुआ...

0

अब ‘अमेरिकी फंड’ से प्रधानमंत्री मोदी को गरियाएंगे ‘यौन शोषक’ विनोद दुआ!

अमेरिकी पासपोर्ट होल्डर के लगे पैसे वाले एचडब्ल्यू न्यूज नेटवर्क पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा भाजपा सरकार को गाली देने के लिए एक शो लेकर आ रहे हैं यौन शोषण के आरोपी विनोद दुआ।...

0

नरेंद्र मोदी बनाम सोनिया-मनमोहन की सरकार! तय कीजिए, कौन है असली फासीवादी!

अनंत विजय। साहित्य, कला और संस्कृति को लेकर इस देश में बहुधा विवाद होते रहते हैं। कोई कार्यक्रम हो जाए तो विवाद, कोई कार्यक्रम टल जाए तो विवाद। कोई नियुक्ति हो जाए तो विवाद,...

0

गुजरात दंगा मामले में डेढ दशक से भौंकने वाले लोकतंत्र के वॉच डॉग के मुंह पर झन्नाटेदार तमाचा है 84 दंगा मामले में अदालत का ये फैसला!

1984 के सिख विरोधी दंगे में 34 साल बाद पहली दफा किसी अपराधी को दोषी ठहराने के अदालत के फैसले ने भारतीय लोकतंत्र के चारो स्तंभ को कठघरे में खड़ा कर दिया है। तत्कालिन...

0

NDTV, प्रणय राय और रवीश कुमार की पोल उनके ही एक पूर्व साथी ने खोल कर इन लोमड़ियों के मुख से नकाब नोंच लिया!

समरेंद्र सिंह। इन दिनों टीवी के दो बड़े पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी और रवीश कुमार अक्सर ये कहते हैं कि प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) की तरफ से चैनल के मालिकों और संपादकों के पास फोन...

0

IANS ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘ब..’ लिखा! आखिर मोदी-नफरत में पत्रकारिता और कितना गिरेगी?

पूरी मीडिया जगत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नफरत फैलाने का खेल सुनियोजित तरीके से चल रहा है। उनके खिलाफ नफरत फैलाने के इस खेल में पीडी पत्रकारों का एक पूरा गैंग लगा...

0

घर से चल रहे सेक्स रैकेट का पता नहीं, नक्सलियों के निर्दोष होने का बांट रहे हैं प्रमाण पत्र! ऐसे हैं हमारे बकैत पांडे!

भीमा कोरेगांव हिंसा से जुड़े मामलों में देश के कई हिस्सों में छापेमारी के बाद पांच शहरी नक्सलियों-गौतम नवलखा, वरवर राव, सुधा भारद्वाज, अरुण फरेरा और वरनोन गोंजाल्विस को गिरफ्तार किया गया। इनकी गिरफ्तारी...

0

मोदी-योगी विरोध में मानसिक दिवालियेपन के कगार पर पहुंचे पुण्य प्रसून वजपेयी!

पुण्य प्रसून वाजपेयी एबीपी से जब से निकाले गये हैं, अपने अंदर मोदी-योगी विरोध और गुबार को निकाल रहे हैं। उन्हें एक और मोदी हेटर्स वामपंथी ‘द वायर’ के सिद्धार्थ वरदराजन का साथ मिल...

0

2019 से पहले मोदी सरकार के खिलाफ कुछ फर्जी स्टिंग देखने के लिए तैयार रहिए! और हां, यदि आप मोदी समर्थक हैं तो आप भी बन सकते हैं आसान निशाना!

सुपारी पत्रकार आशीष खेतान ने आम आदमी पार्टी को छोड़ दिया है। उसने अपने फेसबुक पोस्ट में बताया है कि वह सक्रिय राजनीति को छोड़ रहा है। अब वह नियमित रूप से वकालत करेगा...

0

कांग्रेस और कम्युनिस्ट प्रवक्ता न्यूज चैनलों को जनता का अल्टीमेटम- सुधरो या मिटो! राष्ट्रवादी पत्रकारिता को जनता सिर आंखों पर बैठाने लगी है!

कांग्रेस और कम्युनिस्ट पार्टियों के प्रवक्ता की तरह व्यवहार करने वाले न्यूज चैनलों की सामत आ गयी है। लोगों का गुस्सा इन न्यूज चैनलों पर फूट पड़ा है। वहीं राष्ट्रवादी पत्रकारिता और हिंदू धर्म...

0

मोदी सरकार के खिलाफ नफरत से भरी मेनस्ट्रीम मीडिया गाली गलौज पर उतारू, एक चैनल ने किया स्मृति ईरानी के खिलाफ अपशब्दों का प्रयोग!

क्या पत्रकार खासकर किसी चैनल विशेष के एंकर होने का मतलब अपना आचार-विचार भूल जाना होता है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर देश के राष्ट्रपति और केंद्रीय मंत्रियों को गाली देने का लाइसेंस...

0

The Wire की आरफा खानम शेरवानी ने जर्मनी में मिले फेलोशिप का शुक्रिया वहीं की एक पत्रिका में हिंदुओं को गाली देकर अदा किया!

हारने के बाद एक सांसद को ढेर जूते पड़े.. आत्मग्लानि से भरा वह सांसद आत्महत्या करने के लिए जा रहा था। रास्ते में एक कवि ने उसे बचा लिया। परेशान सांसद ने कवि से...

0

नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बने तीन साल से अधिक हो चुके हैं, लेकिन आज भी मीडिया उनके साथ शत्रुओं जैसा व्यवहार कर रही है! अब तो हाईकोर्ट ने भी इसे माना है!

कल पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने मीडिया पर जो टिप्पणी की है, वह कहीं न कहीं गैर जिम्मेदार और तानाशाही रवैया अख्तियार करने वाले मीडिया हाउसों और लुटियंस पत्रकारों को आईना दिखाने की कोशिश...

ताजा खबर