Tagged: movie review

0

फ़िल्म समीक्षा : भारत के मंगलयान के बनने और लॉन्च होने की कहानी कहती अक्षय कुमार की Mission Mangal

‘मिशन मंगल का प्रमुख राकेश धवन और प्रोजेक्ट डायरेक्टर तारा शिंदे की टीम के युवा वैज्ञानिक होने के साथ सरकारी नौकर भी हैं। वे अपने काम को सुबह 9 से 5 की ड्यूटी मानते...

1

फिल्म समीक्षा : कांग्रेस काल में आतंक के नाम पर खेले गये खेल को उजागर करती जाॅन इब्राहिम की बटला हाउस!

डीसीपी संजीव कुमार यादव की टीम दिल्ली के ज़ाकिर नगर पहुंची है। यहाँ बाटला हॉउस के एल-18 नंबर के घर में इंडियन मुजाहिदीन के संदिग्धों के छुपे होने की सूचना है। संजीव को बाटला...

1

फिल्म समीक्षा: संजीदा वायलन पर दर्द भरी धुन का ऐहसास कराता Super 30

‘आनंद के शहर की लाइब्रेरी में विदेशी जर्नल्स नहीं आते इसलिए वह दूसरे शहर के कॉलेज की लाइब्रेरी में जाकर जर्नल पढ़ता है। लाइब्रेरियन उसे पकड़ लेता है और धक्के देकर बाहर निकाल देता...

0

स्पाइडर का रोमांटिक जाल!

सिनेमा के परदे पर पीटर पारकर और एमजे का टीनएज रोमांस देखते-देखते सत्रह साल का हो चुका है। इन सत्रह सालों में पीटर और उसकी टीम दो बार ‘रिबूट’ हो चुकी है। स्पाइडरमैन की...

3

फिल्म समीक्षा : सच्चा है आर्टिकल 15 और झूठी है ये फिल्म!

भारत में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को स्वछंदता समझ लिया गया है। ये स्वछंदता हिन्दी फिल्मों द्वारा बेझिझक अपनाई जाती है। कल प्रदर्शित हुई ‘आर्टिकल 15’ इसी तरह की बेलगाम अभिव्यक्ति है। फिल्म में ऐसे...

0

फ़िल्म समीक्षा: कैप्टन मार्वल, आकाशगंगा में विचरती अत्याधुनिक सभ्यताओं के बीच महायुद्ध की गाथा

एवेंजर्स का अपना अलग ही संसार है। आकाशगंगाओं में विचरती अत्याधुनिक सभ्यताओं के बीच महायुद्ध की ये गाथा रोमांचक ढंग से समाप्ति की ओर बढ़ रही है। कैप्टन अमेरिका, आयरन मैन, ब्लैक पैंथर, स्पाइडर...

0

इस वीकेंड बॉक्स ऑफिस राष्ट्र के नाम समर्पित हुआ

मेजर विहान के जीजा करण उरी में हुए आतंकी हमले में शहीद हो जाते हैं। विहान की भांजी सलामी के समय ‘वार क्राई’ गाती है। उसके बिलखते स्वर सुन  सख्त दिल फौजी रो पड़ते...

0

रणवीर सिंह के कंधों पर सवार है ‘सिम्बा’

नेट पर पता चला कि फिल्म समीक्षक तरण आदर्श को सिम्बा की सकारात्मक समीक्षा के लिए ट्रोल किया गया। ट्रोल करने वाले शाहरुख़ के प्रशंसक थे, जो ‘जीरो’ की निगेटिव रिव्यू के कारण उनसे...

0

‘एक्वामैन’ ने बॉक्स ऑफिस के समुद्र में लगाई ‘एक हज़ार करोड़ की डुबकी’

वार्नर ब्रदर्स की फिल्म ‘एक्वामैन’ ने प्रदर्शित होने के साथ ही विश्व सिनेमा में अच्छा-खासा तांडव मचाकर रख दिया है। सबसे पहले इसे चीन  उतारा गया, जहाँ एक्वामैन ने पांच दिन में 600 करोड़...

0

फिल्म समीक्षा : ‘केदारनाथ’ खुद एक हादसा बनकर रह जाती है

किसी फिल्म में कलात्मक वीडियोग्राफी, वीएफएक्स इफेक्ट और आइटम गीत एक ‘महंगी तश्तरी’ की तरह होते हैं। दर्शक को इस महंगी तश्तरी में रखे ‘कंटेंट’ से मतलब होता है। वह तश्तरी की सुंदरता देखना...

0

फिल्म समीक्षा : चिट्टी का अपग्रेडेड वर्जन ‘2.0’ आपको हैरानी में डाल देगा!

पक्षी विज्ञानी ‘पक्षी राजन‘ दुनिया को मोबाइल के खतरों से आगाह करता है लेकिन कोई उसकी बात नहीं सुनता। अपने पक्षियों की मौत से दुखी पक्षी राजन आत्महत्या कर लेता है। उसकी ‘आत्मा का...

0

जो बड़े हमलों से नहीं हारे, वे छोटी जरूरतों से हार गए – अस्सी मोहल्ला

‘बनारस के घाट पर एक विदेशन पहुंची है। वह घाट पर बैठे साधु से कुछ सवाल करती है। साधु उसके प्रश्न का उत्तर एक स्लेट पर लिखकर देता है। पहला सवाल ‘आज से दस...

0

घर के बाहर पड़ा ‘पटाखों का कचरा’ भी ‘ठग्स ऑफ़ हिन्दोस्तान’ से होता है सुंदर!

गुरुवार की दोपहर ‘ठग्स ऑफ़ हिन्दोस्तान’ का पहला शो खत्म होते ही ट्वीटर पर इस फिल्म के नाम से बनने वाले ‘मेमे’ की बाढ़ आ गई। यदि पहले ही शो के बाद ऐसी तीखी...

0

क्राइम और थ्रिल की कॉकटेल है आयुष्मान खुराना की ‘अंधाधुन’!

पति सरप्राइज देने के लिए घर पहुंचा है। घर पर पत्नी अपने प्रेमी के साथ आपत्तिजनक अवस्था में मिली है। भेद बाहर न जाए इसलिए दोनों ने मिलकर पति की हत्या कर डाली है।...

0

‘लवयात्री’ फिल्म समीक्षा- बकवास से थोड़ी ज्यादा और बेवकूफी से थोड़ी कम!

निर्माता सलमान खान की फिल्म ‘लवयात्री’ गजब फिल्म है। इसे देखने के बाद दर्शक सूचनाओं के एक नए संसार में प्रवेश कर जाता है। उसे मालूम होता है कि नवरात्रि केवल गरबों और प्यार-मोहब्बत...

0

भावनाओं के उफान में बहा देती है ‘बत्ती गुल मीटर चालू’!

पहाड़ी प्रदेश उत्तराखंड में बिजली की कमी कई दशकों से एक बड़ी समस्या बनी हुई है। बिजली के बिना किसी प्रदेश का विकास असम्भव है। ‘बत्ती गुल मीटर चालू’ उत्तराखंड समेत देश के उन...

0

प्रेम की कोमलता को वासना के प्रहारों से लहूलुहान किया है अनुराग कश्यप ने अपनी फिल्म मनमर्जियां में!

निर्देशक अनुराग कश्यप धूसर रंगों से अपना सिनेमाई संसार रचते हैं। ‘मनमर्जियां’ उनका रचा गया एक ‘धूसर प्रेम त्रिकोण’ है। बोल्ड पत्नी, दीवाना प्रेमी और अत्यंत परोपकारी पति। हर त्रिकोणीय प्रेमकथा का परिणाम पहले...

0

‘पलटन’ फिल्म समीक्षा- तिरंगा सैनिकों के साँस लेने से लहराता है, हवा से नहीं!

फिल्म समीक्षा: पलटन स्टार कास्ट: अर्जुन रामपाल, सोनू सूद, जैकी श्रॉफ, सिद्धांत कपूर, लव सिन्हा, ईशा गुप्ता, सोनल चौहान, मोनिका गिल निर्देशन: जे पी दत्ता मुंह पर ‘हिन्दी-चीनी भाई भाई कहकर 1962 में ड्रेगन...

0

हॉरर के साथ कॉमेडी की लजीज खिचड़ी है ‘स्त्री’!

अमूमन देखा गया है कि हॉरर जॉनर की फिल्मे बहुत कम सफल हो पाती है। ऐसी अधिकांश फिल्मों का अंत दुखद ही होता है। सुखांत वाली भूतिया फिल्मों के बॉक्स ऑफिस पर चलने की...

0

‘गोल्ड’ फिल्म समीक्षा- सिक्कों की खनखनाहट सुनने के लिए ऐतिहासिक तथ्यों के साथ खिलवाड़ जारी है।

यदि कोई मुझसे पूछे कि ‘गोल्ड’ फिल्म का हासिल क्या है, तो मैं बेझिझक ‘सनी कौशल’ का नाम लूंगा। इस फिल्म में अक्षय कुमार के अच्छे अभिनय के अलावा कुछ बहुत अच्छा है तो...

ताजा खबर